Aug 21, 2016 · 1 min read

वो शे’र सुन के मिरा हो गया दिवाना क्या

वो शे’र सुन के मिरा हो गया दिवाना क्या
मैं सच कहूँगा तो मानेगा ये ज़माना क्या

कभी तो आना है दुनियाँ के सामने उसको
अब उसको ढूँढने दैरो-हरम में जाना क्या

ख़ुशी के वास्ते जद्दो-जहद बहुत की है
पड़ेगा वैसे मुझे दर्द भी कमाना क्या

सुना है काम चलाते हो तुम बहानों से
उधार दोगे मुझे भी कोई बहाना क्या

तुम्हारी यादों की गर्मी है सर्द रातों में
लिहाफ़ ऐसे में अब ओढ़ना-बिछाना क्या

जलेगा जितना भी दुनियां को रौशनी देगा
चराग़े-इल्मो-हुनर है इसे बुझाना क्या

तबाह करने पे आये तो फिर नहीं सुनती
वो नर्मरौ है नदी का मगर ठिकाना क्या

98 Views
You may also like:
भारतवर्ष स्वराष्ट्र पूर्ण भूमंडल का उजियारा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पिता का प्रेम
Seema gupta ( bloger) Gupta
बारिश का सुहाना माहौल
KAMAL THAKUR
मेरा बचपन
Ankita Patel
नियत मे पर्दा
Vikas Sharma'Shivaaya'
माँ गंगा
Anamika Singh
बना कुंच से कोंच,रेल-पथ विश्रामालय।।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बाबा ब्याह ना देना,,,
Taj Mohammad
उफ ! ये गर्मी, हाय ! गर्मी / (गर्मी का...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सारी फिज़ाएं छुप सी गई हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
सारे द्वार खुले हैं हमारे कोई झाँके तो सही
Vivek Pandey
गुरुजी!
Vishnu Prasad 'panchotiya'
फास्ट फूड
AMRESH KUMAR VERMA
दो बिल्लियों की लड़ाई (हास्य कविता)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जीवन
Mahendra Narayan
इशारो ही इशारो से...😊👌
N.ksahu0007@writer
आपातकाल
Shriyansh Gupta
आप कौन है
Sandeep Albela
💐💐प्रेम की राह पर-12💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
भारतीय संस्कृति के सेतु आदि शंकराचार्य
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
रसिया यूक्रेन युद्ध विभीषिका
Ram Krishan Rastogi
जानें किसकी तलाश है।
Taj Mohammad
प्रार्थना
Anamika Singh
सट्टेबाज़ों से
Suraj Kushwaha
लड़ते रहो
Vivek Pandey
प्रकृति का अंदाज.....
Dr. Alpa H.
सालो लग जाती है रूठे को मानने में
Anuj yadav
**दोस्ती हैं अजूबा**
Dr. Alpa H.
भोपाल गैस काण्ड
Shriyansh Gupta
दुविधा
Shyam Sundar Subramanian
Loading...