Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jul 2016 · 1 min read

वो मेरी हस्ती मिटाने को चला

वो मेरी हस्ती मिटाने को चला
फूंक से पर्वत उड़ाने को चला

यूँ नहीं था ख़ास मक़सद चलने का
सिर्फ अपनी ज़िद निभाने को चला

पैरहन उजला पहनकर, देखिए
दाग़ मुझपर वो लगाने को चला

आसमां छूने की ख़्वाहिश में कहीं
वो जमीं अपनी गँवाने को चला

झूठ के साये में रहता है मगर
साँच का परचम उठाने को चला

माँगकर चिड़ियों से छोटे पंख वो
आसमां पर हक़ जताने को चला

कोई समझाए कहे ‘माही’ उसे
बेवज़ह झगड़े बढ़ाने को चला

माही / जयपुर

2 Comments · 633 Views
You may also like:
पितृ देव
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
भूल
Seema 'Tu hai na'
नूर ए हुस्न उसका।
Taj Mohammad
आवत हिय हरषै नहीं नैनन नहीं स्नेह।
sheelasingh19544 Sheela Singh
तेरी सूरत
DESH RAJ
रोती 'हिंदी'-बिलखती 'भाषा'
पंकज कुमार कर्ण
शिव स्तुति
Shivkumar Bilagrami
“ हम महान बनने की चाहत में लोगों से दूर...
DrLakshman Jha Parimal
*वह गुरू है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
तेरा साथ मुझको गवारा नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
घर-घर लहराये तिरंगा
Anamika Singh
जीवन जीने की कला, पहले मानव सीख
Dr Archana Gupta
हमरे गउवाँ के अजबे कहानी, जुबानी आज हमरा सुनी।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
✍️औरत हूँ ✍️
'अशांत' शेखर
माता प्राकट्य
Dr. Sunita Singh
ग़ज़ल
Nityanand Vajpayee
रह गया मैं सिर्फ " लास्ट बेंच "
Rohit yadav
एक प्यार ऐसा भी /लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
गांधी : एक सोच
Mahesh Ojha
हेलो पापा ! हेलो पापा !
Buddha Prakash
हम हक़ीक़त को
Dr fauzia Naseem shad
कला
मनोज कर्ण
रात गहरी हो रही है
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कोई कह दे क्यों मजबूर हुए हम
VINOD KUMAR CHAUHAN
यह सच आज मुझको मालूम हो पाया
gurudeenverma198
मेरी बेटियाँ
लक्ष्मी सिंह
गरम हुई तासीर दही की / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
फना
shabina. Naaz
दिवाली पर एक गरीब की इच्छा
Ram Krishan Rastogi
" शैतान रोमी "
Dr Meenu Poonia
Loading...