Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

वो बच्चों के लिए खुद का निवाला छोड़ देती है — गज़ल

यशोद्धा खाने को मक्खन का प्याला छोड़ देती है
न रूठे शाम, हाथों की वो माला छोड़ देती है

छठा सावन की लाती है बहारें,झूमता गुलशन
धारा पर रूप अपना वो निराला छोड़ देती है

न माँ की ममता’ का कोई जहां में सानी ही होगा
वो बच्चों के लिए खुद का निवाला छोड़ देती है

सहो चाहे जमाने भर के ताने भी मगर फिर भी
कही अपनों की चुभती बात छाला छोड़ देती है

न माजी भूलने देता कभी दुखदर्द जीवन के
खलिश उनकी जिगर में रोज छाला छोड़ देती है

मशीयत पे यकीं रखना न अपनी छोडना नेकी
बला आये, तो हो इन्सान आला, छोड देती है

किये एहसां जताने का तरीका देख लो निर्मल
बडे आराम से खत मे हवाला छोड देती है

5 Comments · 275 Views
You may also like:
नेताओं के घर भी बुलडोजर चल जाए
Dr. Kishan Karigar
रामे क बरखा ह रामे क छाता
Dhirendra Panchal
परिवाद झगड़े
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हुस्न में आफरीन लगती हो
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
मजदूर
Anamika Singh
तेरा रूतबा है बड़ा।
Taj Mohammad
* प्रेमी की वेदना *
Dr. Alpa H. Amin
इंद्रधनुष
Arjun Chauhan
हिन्दुस्तान की पहचान(मुक्तक)
Prabhudayal Raniwal
तेरी सुंदरता पर कोई कविता लिखते हैं।
Taj Mohammad
पिता मेरे /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
रोटी संग मरते देखा
शेख़ जाफ़र खान
मां का आंचल
VINOD KUMAR CHAUHAN
कर लो कोशिशें।
Taj Mohammad
तरसती रहोगी एक झलक पाने को
N.ksahu0007@writer
मन को मत हारने दो
जगदीश लववंशी
हर दिन इसी तरह
gurudeenverma198
ज़िंदा हूं मरा नहीं हूं।
Taj Mohammad
*~* वक्त़ गया हे राम *~*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मैं इनकार में हूं
शिव प्रताप लोधी
रामायण आ रामचरित मानस मे मतभिन्नता -खीर वितरण
Rama nand mandal
सूरज का ताप
सतीश मिश्र "अचूक"
पापा
सेजल गोस्वामी
वर्तमान
Vikas Sharma'Shivaaya'
'फूल और व्यक्ति'
Vishnu Prasad 'panchotiya'
बचालों यारों.... पर्यावरण..
Dr. Alpa H. Amin
तेरी एक तिरछी नज़र
DESH RAJ
मनुज शरीरों में भी वंदा, पशुवत जीवन जीता है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सपनों का महल
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
धीरता संग रखो धैर्य
Dr. Alpa H. Amin
Loading...