Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Aug 2016 · 1 min read

वो बच्चों के लिए खुद का निवाला छोड़ देती है — गज़ल

यशोद्धा खाने को मक्खन का प्याला छोड़ देती है
न रूठे शाम, हाथों की वो माला छोड़ देती है

छठा सावन की लाती है बहारें,झूमता गुलशन
धारा पर रूप अपना वो निराला छोड़ देती है

न माँ की ममता’ का कोई जहां में सानी ही होगा
वो बच्चों के लिए खुद का निवाला छोड़ देती है

सहो चाहे जमाने भर के ताने भी मगर फिर भी
कही अपनों की चुभती बात छाला छोड़ देती है

न माजी भूलने देता कभी दुखदर्द जीवन के
खलिश उनकी जिगर में रोज छाला छोड़ देती है

मशीयत पे यकीं रखना न अपनी छोडना नेकी
बला आये, तो हो इन्सान आला, छोड देती है

किये एहसां जताने का तरीका देख लो निर्मल
बडे आराम से खत मे हवाला छोड देती है

5 Comments · 557 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शिव वन्दना
शिव वन्दना
Namita Gupta
आखिर कब तक ?
आखिर कब तक ?
Dr fauzia Naseem shad
तु आदमी मैं औरत
तु आदमी मैं औरत
DR ARUN KUMAR SHASTRI
झोली फैलाए शामों सहर
झोली फैलाए शामों सहर
नूरफातिमा खातून नूरी
शीर्षक – फूलों सा महकना
शीर्षक – फूलों सा महकना
Sonam Puneet Dubey
माँ सच्ची संवेदना...
माँ सच्ची संवेदना...
डॉ.सीमा अग्रवाल
नामुमकिन
नामुमकिन
Srishty Bansal
आँखे हैं दो लेकिन नज़र एक ही आता है
आँखे हैं दो लेकिन नज़र एक ही आता है
शेखर सिंह
🦋 आज की प्रेरणा 🦋
🦋 आज की प्रेरणा 🦋
Tarun Singh Pawar
रंग जाओ
रंग जाओ
Raju Gajbhiye
ताजमहल
ताजमहल
Satish Srijan
सर्वनाम
सर्वनाम
Neelam Sharma
साया
साया
Harminder Kaur
सहधर्मिणी
सहधर्मिणी
Bodhisatva kastooriya
#लघुकथा / #विरक्त
#लघुकथा / #विरक्त
*Author प्रणय प्रभात*
खाने को रोटी नहीं , फुटपाथी हालात {कुंडलिया}
खाने को रोटी नहीं , फुटपाथी हालात {कुंडलिया}
Ravi Prakash
फूल अब खिलते नहीं , खुशबू का हमको पता नहीं
फूल अब खिलते नहीं , खुशबू का हमको पता नहीं
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बखान गुरु महिमा की,
बखान गुरु महिमा की,
Yogendra Chaturwedi
कान्हा मन किससे कहे, अपने ग़म की बात ।
कान्हा मन किससे कहे, अपने ग़म की बात ।
Suryakant Dwivedi
हर महीने में कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को मासिक शिवरात्रि
हर महीने में कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को मासिक शिवरात्रि
Shashi kala vyas
घट भर पानी राखिये पंक्षी प्यास बुझाय |
घट भर पानी राखिये पंक्षी प्यास बुझाय |
Gaurav Pathak
अक्षय चलती लेखनी, लिखती मन की बात।
अक्षय चलती लेखनी, लिखती मन की बात।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मन का डर
मन का डर
Aman Sinha
उलझ नहीं पाते
उलझ नहीं पाते
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
"अहा जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
सांच कह्यां सुख होयस्यी,सांच समद को सीप।
सांच कह्यां सुख होयस्यी,सांच समद को सीप।
विमला महरिया मौज
राजनीतिक संघ और कट्टरपंथी आतंकवादी समूहों के बीच सांठगांठ: शांति और संप्रभुता पर वैश्विक प्रभाव
राजनीतिक संघ और कट्टरपंथी आतंकवादी समूहों के बीच सांठगांठ: शांति और संप्रभुता पर वैश्विक प्रभाव
Shyam Sundar Subramanian
तुम्हें नहीं पता, तुम कितनों के जान हो…
तुम्हें नहीं पता, तुम कितनों के जान हो…
Anand Kumar
2729.*पूर्णिका*
2729.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मुझे हर वो बच्चा अच्छा लगता है जो अपनी मां की फ़िक्र करता है
मुझे हर वो बच्चा अच्छा लगता है जो अपनी मां की फ़िक्र करता है
Mamta Singh Devaa
Loading...