Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Dec 2023 · 1 min read

वो ख्वाबों में अब भी चमन ढूंढते हैं ।

वो ख्वाबों में अब भी चमन ढूंढते हैं ।
मौहब्बत में फिर वो सितम ढूंढते हैं।
जो पलकें झुकाके उठाते हैं नज़रें ।
वो अपनों में अब भी सनम ढूंढते हैं।।

Phool gufran

117 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*बेचारे नेता*
*बेचारे नेता*
दुष्यन्त 'बाबा'
The flames of your love persist.
The flames of your love persist.
Manisha Manjari
चाँद सा मुखड़ा दिखाया कीजिए
चाँद सा मुखड़ा दिखाया कीजिए
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
93. ये खत मोहब्बत के
93. ये खत मोहब्बत के
Dr. Man Mohan Krishna
गति केवल
गति केवल
*Author प्रणय प्रभात*
सावन‌ आया
सावन‌ आया
Neeraj Agarwal
नन्हीं परी आई है
नन्हीं परी आई है
Mukesh Kumar Sonkar
दुनिया असाधारण लोगो को पलको पर बिठाती है
दुनिया असाधारण लोगो को पलको पर बिठाती है
ruby kumari
Save water ! Without water !
Save water ! Without water !
Buddha Prakash
परिवार, प्यार, पढ़ाई का इतना टेंशन छाया है,
परिवार, प्यार, पढ़ाई का इतना टेंशन छाया है,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
"तरक्कियों की दौड़ में उसी का जोर चल गया,
शेखर सिंह
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आँखों में ख्व़ाब होना , होता बुरा नहीं।।
आँखों में ख्व़ाब होना , होता बुरा नहीं।।
Godambari Negi
परिवर्तन
परिवर्तन
Paras Nath Jha
हाथ पर हाथ रखा उसने
हाथ पर हाथ रखा उसने
Vishal babu (vishu)
मुझे पढ़ने का शौक आज भी है जनाब,,
मुझे पढ़ने का शौक आज भी है जनाब,,
Seema gupta,Alwar
2432.पूर्णिका
2432.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
---- विश्वगुरु ----
---- विश्वगुरु ----
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
अंग प्रदर्शन करने वाले जितने भी कलाकार है उनके चरित्र का अस्
अंग प्रदर्शन करने वाले जितने भी कलाकार है उनके चरित्र का अस्
Rj Anand Prajapati
"मयखाना"
Dr. Kishan tandon kranti
खालीपन
खालीपन
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
प्रभु रामलला , फिर मुस्काये!
प्रभु रामलला , फिर मुस्काये!
Kuldeep mishra (KD)
होते यदि राजा - महा , होते अगर नवाब (कुंडलिया)
होते यदि राजा - महा , होते अगर नवाब (कुंडलिया)
Ravi Prakash
ना जाने सुबह है या शाम,
ना जाने सुबह है या शाम,
Madhavi Srivastava
इतिहास
इतिहास
Dr.Priya Soni Khare
पत्थर की अभिलाषा
पत्थर की अभिलाषा
Shyam Sundar Subramanian
कितनी भी हो खत्म हो
कितनी भी हो खत्म हो
Taj Mohammad
“बदलते रिश्ते”
“बदलते रिश्ते”
पंकज कुमार कर्ण
प्रतीक्षा
प्रतीक्षा
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
बच्चा सिर्फ बच्चा होता है
बच्चा सिर्फ बच्चा होता है
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...