Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Oct 2022 · 1 min read

एक और इंकलाब

वो कुर्बानी भगतसिंह की
ज़वाब मांगती है
सदियों से ज़ारी ज़ुल्म का
हिसाब मांगती है…
(१)
इस देश और समाज के
जलते हुए सवालों पर
हम लोगों से एक और
इंकलाब मांगती है…
(२)
तालीम से लेकर सेहत तक
जीवन के हर क्षेत्र में
बिल्कुल ही नए दौर का
आगाज़ मांगती है…
(३)
जम्हूरी निज़ाम के लिए
अपनी ही ज़मीन में
एक गहरी और मजबूत
बुनियाद मांगती है….
(४)
अभी तक जेहनी तौर पर
बीमार हैं जो लोग
अच्छी तरह से अब उनका
इलाज़ मांगती है….
(५)
मज़हब और सियासत की
झूठी रोक-टोक से
अदालत को बेख़ौफ़ और
आज़ाद मांगती है…
#Geetkar
Shekhar Chandra Mitra
#जनवादीकविता #अवामीशायरी
#इंकलाबीशायरी #नारीविमर्श #विद्रोही
#सियासीशायरी #विद्रोही #हक़ #क्रांति
#Protest #दलित #BhagatSingh

Language: Hindi
156 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*महफिल में तन्हाई*
*महफिल में तन्हाई*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*वह अनाथ चिड़िया*
*वह अनाथ चिड़िया*
Mukta Rashmi
जिस घर में---
जिस घर में---
लक्ष्मी सिंह
#देसी_ग़ज़ल (तेवरी)
#देसी_ग़ज़ल (तेवरी)
*प्रणय प्रभात*
समझ मत मील भर का ही, सृजन संसार मेरा है ।
समझ मत मील भर का ही, सृजन संसार मेरा है ।
Ashok deep
यह जीवन अनमोल रे
यह जीवन अनमोल रे
विजय कुमार अग्रवाल
*यह दौर गजब का है*
*यह दौर गजब का है*
Harminder Kaur
यह कौन सी तहजीब है, है कौन सी अदा
यह कौन सी तहजीब है, है कौन सी अदा
VINOD CHAUHAN
चंदा मामा सुनो ना मेरी बात 🙏
चंदा मामा सुनो ना मेरी बात 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
जो  रहते हैं  पर्दा डाले
जो रहते हैं पर्दा डाले
Dr Archana Gupta
हाथ की लकीरें
हाथ की लकीरें
Mangilal 713
"गुजारिश"
Dr. Kishan tandon kranti
' पंकज उधास '
' पंकज उधास '
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
**** महफ़िल  तेरे नाम की *****
**** महफ़िल तेरे नाम की *****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
भरे हृदय में पीर
भरे हृदय में पीर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
अकेले हुए तो ये समझ आया
अकेले हुए तो ये समझ आया
Dheerja Sharma
ताल-तलैया रिक्त हैं, जलद हीन आसमान,
ताल-तलैया रिक्त हैं, जलद हीन आसमान,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*जाते हैं जग से सभी, राजा-रंक समान (कुंडलिया)*
*जाते हैं जग से सभी, राजा-रंक समान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
कवनो गाड़ी तरे ई चले जिंदगी
कवनो गाड़ी तरे ई चले जिंदगी
आकाश महेशपुरी
पैसा आपकी हैसियत बदल सकता है
पैसा आपकी हैसियत बदल सकता है
शेखर सिंह
I hope you find someone who never makes you question your ow
I hope you find someone who never makes you question your ow
पूर्वार्थ
छोटी सी बात
छोटी सी बात
Kanchan Khanna
किताब
किताब
Neeraj Agarwal
3583.💐 *पूर्णिका* 💐
3583.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
सुप्रभात
सुप्रभात
डॉक्टर रागिनी
वक्त का घुमाव तो
वक्त का घुमाव तो
Mahesh Tiwari 'Ayan'
अब तलक तुमको
अब तलक तुमको
Dr fauzia Naseem shad
कर मुसाफिर सफर तू अपने जिंदगी  का,
कर मुसाफिर सफर तू अपने जिंदगी का,
Yogendra Chaturwedi
* बिखर रही है चान्दनी *
* बिखर रही है चान्दनी *
surenderpal vaidya
बुंदेली दोहे- ततइया (बर्र)
बुंदेली दोहे- ततइया (बर्र)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Loading...