Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jun 2016 · 1 min read

वो करना है जो ठाना है — गज़ल्

वो करना है जो ठाना है
हर मुश्किल से टकराना है

जिस धरती पर है जन्म लिया
उसका भी कर्ज चुकाना है

दीन दुखी की सेवा करके
अब मानव धर्म कमाना है

दौलत का लालच मत करना
सब छोड़ यहीं पर जाना है

चन्द दिनों की साँसों में भी
क्या लड़ना और लड़ाना है

जीवन का भी एक गणित है
कुछ खो कर ही कुछ पाना है

जन्मों का बंधन है शादी
दोनों को कौल निभाना है

327 Views
You may also like:
#करवा चौथ#
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
जोकर vs कठपुतली
bhandari lokesh
तेजस्वी यादव
Shekhar Chandra Mitra
Writing Challenge- माता-पिता (Parents)
Sahityapedia
माँ का अनमोल प्रसाद
राकेश कुमार राठौर
" दृष्टिकोण "
DrLakshman Jha Parimal
दिल में बस जाओ तुम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आईना अपनी ज़िंदगी कर लो
Dr fauzia Naseem shad
दीनानाथ दिनेश जी से संपर्क
Ravi Prakash
आस
लक्ष्मी सिंह
किसी का भाई ,किसी का जान
Nishant prakhar
"अंतिम-सत्य..!"
Prabhudayal Raniwal
गर्दिशे दौरा को गुजर जाने दे
shabina. Naaz
मेरे सपने
Anamika Singh
Daily Writing Challenge: त्याग
'अशांत' शेखर
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
अपना ख़याल तुम रखना
Shivkumar Bilagrami
शेर
Rajiv Vishal
Once Again You Visited My Dream Town
Manisha Manjari
हवा
AMRESH KUMAR VERMA
माना हम गरीब हैं।
Taj Mohammad
आजादी का दौर
Seema 'Tu hai na'
इंसान
Annu Gurjar
🥀💢मेरा इश्क़ बहुत ही सादिक़ है💢🥀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
क्या ठहर जाना ठीक है
कवि दीपक बवेजा
फ़िदा
Buddha Prakash
गीत
धीरेन्द्र वर्मा "धीर"
खुशियों भरे पल
surenderpal vaidya
'शान उनकी'
Godambari Negi
अनाथ
Kavita Chouhan
Loading...