Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 May 2024 · 1 min read

वो एक शाम

वो एक शाम
जब आभासी दुनिया
के फ़लक पर,
पहली बार देखा तुम को
अच्छा लगा था
बरसों की खामोशी के बाद
दिल ने चाहा कुछ शब्दों को
बुनना, चुन कर कुछ कहना.
फिर अल्फाज़ लिखे भी
बुने भी,
कैद थी तुम अपने
खुद के बनाए पिंजरे में,
खुद पर अविश्वास के
अपनी जिंदगी में मसरूफ
कुछ बातेँ हुई
कुछ बातेँ बढ़ी,
लगा जिंदगी रफ्तार पकड़ेगी
बेनूर सी रेगिस्तानी
शख्सियत कुछ शक़्ल लेगी
सिलसिला चला
रुका भी कभी
मुस्कुराहट तुम्हारी
खुश करती रही
उदासियों ने मुझे भी
झकझोरा यदा कदा
सब कुछ अच्छा लगने लगा
रुका कारवाँ चलने लगा.
सोचता रहा मैं
क्यों हुआ, कैसे हुआ
चटका था मेरा आईना
फिर ये अक्स क्यूँ बना
ना पाने की चाहत थी
ना खोने का हौसला
बस यूँ कुछ
चलता रहा एक सिलसिला.

हिमांशु Kulshrestha

Language: Hindi
28 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मैंने बार बार सोचा
मैंने बार बार सोचा
Surinder blackpen
प्रकृति
प्रकृति
Mukesh Kumar Sonkar
माता रानी दर्श का
माता रानी दर्श का
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
हर इंसान लगाता दांव
हर इंसान लगाता दांव
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मेरी-तेरी पाती
मेरी-तेरी पाती
Ravi Ghayal
काम से राम के ओर।
काम से राम के ओर।
Acharya Rama Nand Mandal
"रंग और पतंग"
Dr. Kishan tandon kranti
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
*लिखते खुद हरगिज नहीं, देते अपना नाम (हास्य कुंडलिया)*
*लिखते खुद हरगिज नहीं, देते अपना नाम (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
*पानी व्यर्थ न गंवाओ*
*पानी व्यर्थ न गंवाओ*
Dushyant Kumar
2321.पूर्णिका
2321.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सर्जिकल स्ट्राइक
सर्जिकल स्ट्राइक
लक्ष्मी सिंह
मा ममता का सागर
मा ममता का सागर
भरत कुमार सोलंकी
मेरा यार
मेरा यार
rkchaudhary2012
# विचार
# विचार
DrLakshman Jha Parimal
प्रतीक्षा में गुजरते प्रत्येक क्षण में मर जाते हैं ना जाने क
प्रतीक्षा में गुजरते प्रत्येक क्षण में मर जाते हैं ना जाने क
पूर्वार्थ
धाम- धाम में ईश का,
धाम- धाम में ईश का,
sushil sarna
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - ७)
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - ७)
Kanchan Khanna
■ मी एसीपी प्रद्युम्न बोलतोय 😊😊😊
■ मी एसीपी प्रद्युम्न बोलतोय 😊😊😊
*प्रणय प्रभात*
मैं नारी हूँ, मैं जननी हूँ
मैं नारी हूँ, मैं जननी हूँ
Awadhesh Kumar Singh
अरे शुक्र मनाओ, मैं शुरू में ही नहीं बताया तेरी मुहब्बत, वर्ना मेरे शब्द बेवफ़ा नहीं, जो उनको समझाया जा रहा है।
अरे शुक्र मनाओ, मैं शुरू में ही नहीं बताया तेरी मुहब्बत, वर्ना मेरे शब्द बेवफ़ा नहीं, जो उनको समझाया जा रहा है।
Anand Kumar
माना जीवन लघु बहुत,
माना जीवन लघु बहुत,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कुछ कहती है, सुन जरा....!
कुछ कहती है, सुन जरा....!
VEDANTA PATEL
नारी का अस्तित्व
नारी का अस्तित्व
रेखा कापसे
अद्भुत प्रेम
अद्भुत प्रेम
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
* मन बसेगा नहीं *
* मन बसेगा नहीं *
surenderpal vaidya
FOR THE TREE
FOR THE TREE
SURYA PRAKASH SHARMA
वक्त तुम्हारा साथ न दे तो पीछे कदम हटाना ना
वक्त तुम्हारा साथ न दे तो पीछे कदम हटाना ना
VINOD CHAUHAN
दुखों का भार
दुखों का भार
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Loading...