Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jan 2023 · 1 min read

वो एक लम्हा

मैं न रहूँ
तुम लफ़्ज़ों में
समझना मेरे
ढूंढना मुझको
हर एहसास को
फिर सोचना मुझको
नमी बन के जो
आंखों में
तेरी आ जाऊं
वो एक लम्हा
जब तेरे दिल से
मैं गुज़र जाऊं
तुम्हारे ज़ेहन में
यादों सी मैं
बिख़र जाऊं
तलाशे तेरी नज़र
मुझको
और मैं
नज़र नहीं आऊं
फिर सोचना मुझको
फिर सोचना खुद को !

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
13 Likes · 954 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
अपनी मसरूफियत का करके बहाना ,
अपनी मसरूफियत का करके बहाना ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
Save water ! Without water !
Save water ! Without water !
Buddha Prakash
-मां सर्व है
-मां सर्व है
Seema gupta,Alwar
** मुक्तक **
** मुक्तक **
surenderpal vaidya
बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ सब कहते हैं।
बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ सब कहते हैं।
राज वीर शर्मा
मुझ को किसी एक विषय में मत बांधिए
मुझ को किसी एक विषय में मत बांधिए
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
चिड़िया बैठी सोच में, तिनका-तिनका जोड़।
चिड़िया बैठी सोच में, तिनका-तिनका जोड़।
डॉ.सीमा अग्रवाल
तात
तात
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
वक्त वक्त की बात है आज आपका है,तो कल हमारा होगा।
वक्त वक्त की बात है आज आपका है,तो कल हमारा होगा।
पूर्वार्थ
ऐसी विकट परिस्थिति,
ऐसी विकट परिस्थिति,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
मधुर स्मृति
मधुर स्मृति
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
सच को तमीज नहीं है बात करने की और
सच को तमीज नहीं है बात करने की और
Ranjeet kumar patre
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
सेर (शृंगार)
सेर (शृंगार)
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
कांग्रेस की आत्महत्या
कांग्रेस की आत्महत्या
Sanjay ' शून्य'
उसे आज़ का अर्जुन होना चाहिए
उसे आज़ का अर्जुन होना चाहिए
Sonam Puneet Dubey
*हुआ गणेश चतुर्थी के दिन, संसद का श्री गणेश (गीत)*
*हुआ गणेश चतुर्थी के दिन, संसद का श्री गणेश (गीत)*
Ravi Prakash
डा. अम्बेडकर बुद्ध से बड़े थे / पुस्तक परिचय
डा. अम्बेडकर बुद्ध से बड़े थे / पुस्तक परिचय
Dr MusafiR BaithA
किरणों का कोई रंग नहीं होता
किरणों का कोई रंग नहीं होता
Atul "Krishn"
Let your thoughts
Let your thoughts
Dhriti Mishra
गुज़रते वक्त ने
गुज़रते वक्त ने
Dr fauzia Naseem shad
दर्द -ऐ सर हुआ सब कुछ भुलाकर आये है ।
दर्द -ऐ सर हुआ सब कुछ भुलाकर आये है ।
Phool gufran
संग रहूँ हरपल सदा,
संग रहूँ हरपल सदा,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
■ प्रसंगवश....
■ प्रसंगवश....
*प्रणय प्रभात*
समय देकर तो देखो
समय देकर तो देखो
Shriyansh Gupta
मकानों में रख लिया
मकानों में रख लिया
abhishek rajak
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
लड़के रोते नही तो क्या उन को दर्द नही होता
लड़के रोते नही तो क्या उन को दर्द नही होता
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
"" *भारत* ""
सुनीलानंद महंत
सारे  ज़माने  बीत  गये
सारे ज़माने बीत गये
shabina. Naaz
Loading...