Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Oct 2022 · 1 min read

वो एक तवायफ थी।

शहर के अदीबों की चाहत थी।
कहने को वो एक तवायफ थी।।

बचता ना कोई तीर ए नज़र से।
वो अदाएं हुस्न से कयामत थी।।

✍️✍️ ताज मोहम्मद ✍️✍️

Language: Hindi
Tag: शेर
1 Like · 77 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हद
हद
अभिषेक पाण्डेय ‘अभि ’
दानी
दानी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
नियत
नियत
Shutisha Rajput
बचपन की सुनहरी यादें.....
बचपन की सुनहरी यादें.....
Awadhesh Kumar Singh
*खाते कम हैं फेंकते, ज्यादा हैं कुछ लोग  (कुंडलिया)*
*खाते कम हैं फेंकते, ज्यादा हैं कुछ लोग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
थपकियाँ दे मुझे जागती वह रही ।
थपकियाँ दे मुझे जागती वह रही ।
Arvind trivedi
नवसंवत्सर लेकर आया , नव उमंग उत्साह नव स्पंदन
नवसंवत्सर लेकर आया , नव उमंग उत्साह नव स्पंदन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
■ नाम_ही_काफी_है...
■ नाम_ही_काफी_है...
*Author प्रणय प्रभात*
हम इतने भी बुरे नही,जितना लोगो ने बताया है
हम इतने भी बुरे नही,जितना लोगो ने बताया है
Ram Krishan Rastogi
मर्यादा और राम
मर्यादा और राम
डॉ प्रवीण ठाकुर
बहुत कड़ा है सफ़र थोड़ी दूर साथ चलो
बहुत कड़ा है सफ़र थोड़ी दूर साथ चलो
Vishal babu (vishu)
कविता-मरते किसान नहीं, मर रही हमारी आत्मा है।
कविता-मरते किसान नहीं, मर रही हमारी आत्मा है।
Shyam Pandey
Har roj tumhara wahi intajar karti hu
Har roj tumhara wahi intajar karti hu
Sakshi Tripathi
तुम्हारे लिए हम नये साल में
तुम्हारे लिए हम नये साल में
gurudeenverma198
आखिर शिथिलता के दौर
आखिर शिथिलता के दौर
DrLakshman Jha Parimal
संयुक्त राष्ट्र संघ
संयुक्त राष्ट्र संघ
Shekhar Chandra Mitra
मीठी नींद नहीं सोना
मीठी नींद नहीं सोना
Dr. Meenakshi Sharma
💐प्रेम कौतुक-434💐
💐प्रेम कौतुक-434💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
घर आवाज़ लगाता है
घर आवाज़ लगाता है
Surinder blackpen
दूध बन जाता है पानी
दूध बन जाता है पानी
कवि दीपक बवेजा
abhinandan
abhinandan
DR ARUN KUMAR SHASTRI
फिर मिलेंगे
फिर मिलेंगे
साहित्य गौरव
मोर
मोर
Manu Vashistha
अशोक महान
अशोक महान
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आज हमने सोचा
आज हमने सोचा
shabina. Naaz
ऐनक
ऐनक
Buddha Prakash
नवगीत
नवगीत
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
शौक़ इनका भी
शौक़ इनका भी
Dr fauzia Naseem shad
तुम क्या जानो
तुम क्या जानो"
Satish Srijan
जान का नया बवाल
जान का नया बवाल
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Loading...