Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Feb 2022 · 1 min read

वेलेंटाइन स्पेशल (5)

(००5)
// मैसेज में दिल अपना // (प्रपोज़ डे)

?मैसेज में लिख कर भेज रहा था वो दिल अपना

खत्म हुआ MSg.पैक लम्बा बना बिल अपना❤️

?साल में एक ही बार होती है बात इस तरह से

फर्क नही पड़ता यार चाहे आ जाये बिल जितना❤️

#हैप्पी_प्रपोज़_डे
©® प्रेमयाद कुमार नवीन
जिला – महासमुन्द (छःग)

Language: Hindi
1 Like · 2 Comments · 284 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
निर्मम क्यों ऐसे ठुकराया....
निर्मम क्यों ऐसे ठुकराया....
डॉ.सीमा अग्रवाल
अफसोस
अफसोस
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
■ आज का शेर
■ आज का शेर
*Author प्रणय प्रभात*
तेवरीः शिल्प-गत विशेषताएं +रमेशराज
तेवरीः शिल्प-गत विशेषताएं +रमेशराज
कवि रमेशराज
अपनी टोली
अपनी टोली
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
।2508.पूर्णिका
।2508.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
माँ
माँ
नन्दलाल सुथार "राही"
हालातों का असर
हालातों का असर
Shyam Sundar Subramanian
फिर एक बार 💓
फिर एक बार 💓
Pallavi Rani
भाग्य का लिखा
भाग्य का लिखा
Nanki Patre
बना दिया हमको ऐसा, जिंदगी की राहों ने
बना दिया हमको ऐसा, जिंदगी की राहों ने
gurudeenverma198
चिंतन
चिंतन
ओंकार मिश्र
रात उसको अब अकेले खल रही होगी
रात उसको अब अकेले खल रही होगी
Dr. Pratibha Mahi
💐प्रेम कौतुक-176💐
💐प्रेम कौतुक-176💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नैतिकता की नींव पर प्रारंभ किये गये किसी भी व्यवसाय की सफलता
नैतिकता की नींव पर प्रारंभ किये गये किसी भी व्यवसाय की सफलता
Paras Nath Jha
प्रथम दृष्टांत में यदि आपकी कोई बातें वार्तालाभ ,संवाद या लि
प्रथम दृष्टांत में यदि आपकी कोई बातें वार्तालाभ ,संवाद या लि
DrLakshman Jha Parimal
क़ायम कुछ इस तरह से
क़ायम कुछ इस तरह से
Dr fauzia Naseem shad
गजल सी रचना
गजल सी रचना
Kanchan Khanna
दोस्ती का कर्ज
दोस्ती का कर्ज
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मूँछ पर दोहे (मूँछ-मुच्छड़ पुराण दोहावली )
मूँछ पर दोहे (मूँछ-मुच्छड़ पुराण दोहावली )
Subhash Singhai
जो ख्वाब में मिलते हैं ...
जो ख्वाब में मिलते हैं ...
लक्ष्मी सिंह
दोहे
दोहे
अशोक कुमार ढोरिया
समझ मत मील भर का ही, सृजन संसार मेरा है ।
समझ मत मील भर का ही, सृजन संसार मेरा है ।
Ashok deep
"Teri kaamyaabi par tareef, tere koshish par taana hoga,
कवि दीपक बवेजा
वह मुस्कुराते हुए पल मुस्कुराते
वह मुस्कुराते हुए पल मुस्कुराते
goutam shaw
अपनी धरती कितनी सुन्दर
अपनी धरती कितनी सुन्दर
Buddha Prakash
माँ बहन बेटी के मांनिद
माँ बहन बेटी के मांनिद
Satish Srijan
*मनमौजी (बाल कविता)*
*मनमौजी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
Book of the day: महादेवी के गद्य साहित्य का अध्ययन
Book of the day: महादेवी के गद्य साहित्य का अध्ययन
Sahityapedia
5. इंद्रधनुष
5. इंद्रधनुष
Rajeev Dutta
Loading...