Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2017 · 1 min read

” वेलेंटाइन डे “

” वेलेनटाइन डे ”
——
प्रेम के
मायने जानता नहीं,
वैलेनटाइन डे में
डूब रहा शहर।
.
माँ की
ममता है प्रेम,
पिता की
फिक्र है प्रेम,
भाई का
साथ है प्रेम,
बहन का
स्नेह है प्रेम,
प्रेम के
मायने जानता नहीं,
वेलेनटाइन डे में
डूब रहा शहर।
.
पति की
वफादारी है प्रेम,
पत्नी का
समर्पण है प्रेम,
माता पिता की
जिम्मेदारी है प्रेम,
बच्चों का
कर्तव्य है प्रेम,
प्रेम के
मायने जानता नहीं,
वेलेनटाइन डे में
डूब रहा शहर।
.
दोस्ती की
नि:स्वार्थता है प्रेम,
दिल की
अच्छाई को
दिल से सराहना है प्रेम,
प्रेम के
मायने जानता नहीं
वेलेनटाइन डे में
डूब रहा शहर ।
@पूनम झा। कोटा,राजस्थान

Language: Hindi
2 Likes · 1 Comment · 264 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
देश मे सबसे बड़ा संरक्षण
देश मे सबसे बड़ा संरक्षण
*Author प्रणय प्रभात*
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मां कुष्मांडा
मां कुष्मांडा
Mukesh Kumar Sonkar
मधुमय फागुन क्या करे,प्रियतम बिना उदास(कुंडलिया)
मधुमय फागुन क्या करे,प्रियतम बिना उदास(कुंडलिया)
Ravi Prakash
मै पूर्ण विवेक से कह सकता हूँ
मै पूर्ण विवेक से कह सकता हूँ
शेखर सिंह
नारी सौन्दर्य ने
नारी सौन्दर्य ने
Dr. Kishan tandon kranti
Childhood is rich and adulthood is poor.
Childhood is rich and adulthood is poor.
सिद्धार्थ गोरखपुरी
नमन!
नमन!
Shriyansh Gupta
एक अकेला रिश्ता
एक अकेला रिश्ता
विजय कुमार अग्रवाल
ग़ज़ल - रहते हो
ग़ज़ल - रहते हो
Mahendra Narayan
" यही सब होगा "
Aarti sirsat
जी रहे हैं सब इस शहर में बेज़ार से
जी रहे हैं सब इस शहर में बेज़ार से
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
माता की महिमा
माता की महिमा
SHAILESH MOHAN
दो पल की जिन्दगी मिली ,
दो पल की जिन्दगी मिली ,
Nishant prakhar
सॉप और इंसान
सॉप और इंसान
Prakash Chandra
खूबसूरत लम्हें जियो तो सही
खूबसूरत लम्हें जियो तो सही
Harminder Kaur
कता
कता
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
Kabhi kabhi hum
Kabhi kabhi hum
Sakshi Tripathi
इश्किया होली
इश्किया होली
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मेरे दिल ❤️ में जितने कोने है,
मेरे दिल ❤️ में जितने कोने है,
शिव प्रताप लोधी
दिन सुखद सुहाने आएंगे...
दिन सुखद सुहाने आएंगे...
डॉ.सीमा अग्रवाल
एक अच्छाई उसी तरह बुराई को मिटा
एक अच्छाई उसी तरह बुराई को मिटा
shabina. Naaz
कुछ अजीब सा चल रहा है ये वक़्त का सफ़र,
कुछ अजीब सा चल रहा है ये वक़्त का सफ़र,
Shivam Sharma
हर ख्याल से तुम खुबसूरत हो
हर ख्याल से तुम खुबसूरत हो
Swami Ganganiya
कैसा होगा कंटेंट सिनेमा के दौर में मसाला फिल्मों का भविष्य?
कैसा होगा कंटेंट सिनेमा के दौर में मसाला फिल्मों का भविष्य?
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
कारण कोई बतायेगा
कारण कोई बतायेगा
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
राज नहीं राजनीति हो अपना 🇮🇳
राज नहीं राजनीति हो अपना 🇮🇳
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
शिष्टाचार एक जीवन का दर्पण । लेखक राठौड़ श्रावण सोनापुर उटनुर आदिलाबाद
शिष्टाचार एक जीवन का दर्पण । लेखक राठौड़ श्रावण सोनापुर उटनुर आदिलाबाद
राठौड़ श्रावण लेखक, प्रध्यापक
मुझको मेरा अगर पता मिलता
मुझको मेरा अगर पता मिलता
Dr fauzia Naseem shad
लोकतंत्र की आड़ में तानाशाही ?
लोकतंत्र की आड़ में तानाशाही ?
Shyam Sundar Subramanian
Loading...