Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jun 2016 · 1 min read

वृक्ष लगाओगे अगर , होंगे सब खुशहाल

रहे तिरंगे से सजा , अपना भारत देश
इसके रंगों में छिपे, सुन्दर से सन्देश

अगर न पोषित की धरा ,संकट में फिर प्राण
रहो नही अनजान सब , रक्खो इसका ध्यान

वृक्ष लगाओगे अगर , होंगे सब खुशहाल
लेना होगा रोज पर , इन पेड़ों का हाल
डॉ अर्चना गुप्ता

Language: Hindi
Tag: दोहा
1 Comment · 170 Views
You may also like:
मोहब्बत हो जाए
कवि दीपक बवेजा
वो हैं , छिपे हुए...
मनोज कर्ण
असली नशा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
४० कुंडलियाँ
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बेशक
shabina. Naaz
■ मुक्तक / दुर्भाग्यपूर्ण दृश्य
*Author प्रणय प्रभात*
तनिक पास आ तो सही...!
Dr. Pratibha Mahi
प्रेम एक अनुभव
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
आप नहीं होते ऐसे सिर पे हमारे
gurudeenverma198
जिस पल में तुम ना हो।
Taj Mohammad
छठ है आया
Kavita Chouhan
जय जय भारत देश महान......
Buddha Prakash
कविता –सच्चाई से मुकर न जाना
रकमिश सुल्तानपुरी
ग़ज़ल-धीरे-धीरे
Sanjay Grover
किवाड़ खा गई
AJAY AMITABH SUMAN
"मत कर तू पैसा पैसा"
Dr Meenu Poonia
प्रतीक्षा की स्मित
Rashmi Sanjay
*बहू- बेटी- तलाक* कहानी लेखक: राधाकिसन मूंदड़ा, सूरत।
radhakishan Mundhra
शेर
Rajiv Vishal
*मुर्गा (बाल कविता)*
Ravi Prakash
सदियों की साज़िश
Shekhar Chandra Mitra
भीड़ का अनुसरण नहीं
Dr fauzia Naseem shad
साधुवाद और धन्यवाद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
अमृत महोत्सव
विजय कुमार अग्रवाल
हो पाए अगर मुमकिन
Shivkumar Bilagrami
जब पंखुड़ी गिरने लगे,
Pradyumna
पंजाबी गीत
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
वो हमें दिन ब दिन आजमाते रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
✍️कुछ तो वजह हो...
'अशांत' शेखर
द्रौपदी मुर्मू'
Seema 'Tu hai na'
Loading...