Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jun 2016 · 1 min read

वृक्ष लगाओगे अगर , होंगे सब खुशहाल

रहे तिरंगे से सजा , अपना भारत देश
इसके रंगों में छिपे, सुन्दर से सन्देश

अगर न पोषित की धरा ,संकट में फिर प्राण
रहो नही अनजान सब , रक्खो इसका ध्यान

वृक्ष लगाओगे अगर , होंगे सब खुशहाल
लेना होगा रोज पर , इन पेड़ों का हाल
डॉ अर्चना गुप्ता

Language: Hindi
1 Comment · 223 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Archana Gupta
View all
You may also like:
दो दिन
दो दिन
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
भ्रष्टाचार
भ्रष्टाचार
Juhi Grover
दर्द
दर्द
Dr. Seema Varma
विश्व कविता दिवस
विश्व कविता दिवस
विजय कुमार अग्रवाल
गवाह तिरंगा बोल रहा आसमान 🇧🇴
गवाह तिरंगा बोल रहा आसमान 🇧🇴
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
वफ़ा और बेवफाई
वफ़ा और बेवफाई
हिमांशु Kulshrestha
और भी हैं !!
और भी हैं !!
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
मुक्तक... छंद हंसगति
मुक्तक... छंद हंसगति
डॉ.सीमा अग्रवाल
दिल हो काबू में....😂
दिल हो काबू में....😂
Jitendra Chhonkar
ये
ये "परवाह" शब्द वो संजीवनी बूटी है
शेखर सिंह
*कोई भी ना सुखी*
*कोई भी ना सुखी*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
आंख खोलो और देख लो
आंख खोलो और देख लो
Shekhar Chandra Mitra
दिया एक जलाए
दिया एक जलाए
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"मनुष्यता से.."
Dr. Kishan tandon kranti
वसंत पंचमी की शुभकामनाएं ।
वसंत पंचमी की शुभकामनाएं ।
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
ना सातवें आसमान तक
ना सातवें आसमान तक
Vivek Mishra
ये जो नखरें हमारी ज़िंदगी करने लगीं हैं..!
ये जो नखरें हमारी ज़िंदगी करने लगीं हैं..!
Hitanshu singh
सुविचार
सुविचार
Neeraj Agarwal
"'मोम" वालों के
*प्रणय प्रभात*
3459🌷 *पूर्णिका* 🌷
3459🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
सिलसिला सांसों का
सिलसिला सांसों का
Dr fauzia Naseem shad
गैस कांड की बरसी
गैस कांड की बरसी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सारी फिज़ाएं छुप सी गई हैं
सारी फिज़ाएं छुप सी गई हैं
VINOD CHAUHAN
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तुझसे मिलने के बाद ❤️
तुझसे मिलने के बाद ❤️
Skanda Joshi
कलयुग के बाबा
कलयुग के बाबा
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
आत्मीयकरण-2 +रमेशराज
आत्मीयकरण-2 +रमेशराज
कवि रमेशराज
*सीमा की जो कर रहे, रक्षा उन्हें प्रणाम (कुंडलिया)*
*सीमा की जो कर रहे, रक्षा उन्हें प्रणाम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
दोहा त्रयी. .
दोहा त्रयी. .
sushil sarna
अतीत
अतीत
Shyam Sundar Subramanian
Loading...