Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jul 2023 · 1 min read

वृक्ष बन जाओगे

“हे पॖकृति तुम्हे समर्पित एक बीज करते है
हम अपनी एक छोटी सी पहल करते है ”
एक बीज पौधा बना अब एक वृक्ष बनने की यात्रा को शुरू कर रहा है हे पॖकृति तुम इसका रक्षण करना पर संघर्ष इसे करने देना ताकी यह अपने आप को अपने गुणो को जान सके ओर भविष्य में एक वृक्ष का रूप लेकर असंख्य लोगो को शीतल हवा ओर औषधी दे
अब आप के सानिध्य में इसकी यात्रा होगी

हे नन्हे पौधे अपने संघर्ष में मत घबराना
स्वयं को तुम सम्भालना
तेज बारिश होगी
तपती धूप होगी
जड़े तुम जमाये रखना
धरा का हाथ थामे रखना
अतं में स्वयं को पाओगे
देखना एक दिन तुम
वृक्ष बन जाओगे
सुशील मिश्रा (क्षितिज राज )

Language: Hindi
1 Like · 126 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
View all
You may also like:
उसे देख खिल गयीं थीं कलियांँ
उसे देख खिल गयीं थीं कलियांँ
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
एक लम्हा है ज़िन्दगी,
एक लम्हा है ज़िन्दगी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
संसार का स्वरूप (2)
संसार का स्वरूप (2)
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
गुरु अमरदास के रुमाल का कमाल
गुरु अमरदास के रुमाल का कमाल
कवि रमेशराज
कुछ दुआ की जाए।
कुछ दुआ की जाए।
Taj Mohammad
2883.*पूर्णिका*
2883.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कभी मिले नहीं है एक ही मंजिल पर जानें वाले रास्तें
कभी मिले नहीं है एक ही मंजिल पर जानें वाले रास्तें
Sonu sugandh
ये तो मुहब्बत में
ये तो मुहब्बत में
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
"उम्मीद का दीया"
Dr. Kishan tandon kranti
कांटों के संग जीना सीखो 🙏
कांटों के संग जीना सीखो 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ख़्वाब आंखों में टूट जाते है
ख़्वाब आंखों में टूट जाते है
Dr fauzia Naseem shad
जीवन चक्र
जीवन चक्र
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
*दोस्त*
*दोस्त*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*बारिश आई (बाल कविता)*
*बारिश आई (बाल कविता)*
Ravi Prakash
क्या मुकद्दर बनाकर तूने ज़मीं पर उतारा है।
क्या मुकद्दर बनाकर तूने ज़मीं पर उतारा है।
Phool gufran
Ice
Ice
Santosh kumar Miri
जुगनू
जुगनू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आंखों की भाषा
आंखों की भाषा
Mukesh Kumar Sonkar
खामोशी ने मार दिया।
खामोशी ने मार दिया।
Anil chobisa
!! हे उमां सुनो !!
!! हे उमां सुनो !!
Chunnu Lal Gupta
शहर में नकाबधारी
शहर में नकाबधारी
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
वर्तमान
वर्तमान
Shyam Sundar Subramanian
बिना काविश तो कोई भी खुशी आने से रही। ख्वाहिश ए नफ़्स कभी आगे बढ़ाने से रही। ❤️ ख्वाहिशें लज्ज़त ए दीदार जवां है अब तक। उस से मिलने की तमन्ना तो ज़माने से रही। ❤️
बिना काविश तो कोई भी खुशी आने से रही। ख्वाहिश ए नफ़्स कभी आगे बढ़ाने से रही। ❤️ ख्वाहिशें लज्ज़त ए दीदार जवां है अब तक। उस से मिलने की तमन्ना तो ज़माने से रही। ❤️
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
*गीत*
*गीत*
Poonam gupta
अमृत वचन
अमृत वचन
Dinesh Kumar Gangwar
नज़्म/कविता - जब अहसासों में तू बसी है
नज़्म/कविता - जब अहसासों में तू बसी है
अनिल कुमार
अर्ज किया है जनाब
अर्ज किया है जनाब
शेखर सिंह
समय आया है पितृपक्ष का, पुण्य स्मरण कर लें।
समय आया है पितृपक्ष का, पुण्य स्मरण कर लें।
surenderpal vaidya
हर फ़साद की जड़
हर फ़साद की जड़
*प्रणय प्रभात*
लिखें जो खत तुझे कोई कभी भी तुम नहीं पढ़ते !
लिखें जो खत तुझे कोई कभी भी तुम नहीं पढ़ते !
DrLakshman Jha Parimal
Loading...