Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Mar 2023 · 1 min read

वृंदावन :

वृंदावन : कुछ कुंडलियाँ

[1]
राधा जी और बाँसुरी (कुंडलिया)
———————————–
राधा ने ली बाँसुरी , कान्हा जी से छीन
बोलीं कुछ बातें करो ,क्या बंसी में लीन
क्या बंसी में लीन ,अधर से लगीं बजाने
अब कान्हा बेचैन ,लाड़ के खुले खजाने
कहते रवि कविराय ,तत्त्व है आधा-आधा
आधे में श्री श्याम , शेष आधे में राधा
°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°
[2]
निधिवन मे रास (कुंडलिया)
—————————
निधिवन में अब भी बसे, युगल दिव्य सरकार
आते प्रतिदिन रात्रि को , करते नृत्य-विहार
करते नृत्य – विहार , रास की गाथा गाते
जग में सबसे उच्च , प्रेम होता बतलाते
कहते रवि कविराय ,सुधा रस पाते जन-जन
धन्य राधिका-कृष्ण ,धन्य है श्री श्री निधि वन
°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°
[ 3 ]
वृंदावन में समाधि हरिदास जी (कुंडलिया)
——————————————
निधिवन में हरिदास जी ,चिर निद्रा में लीन
तानसेन के गुरु प्रवर ,तन – मन से स्वाधीन
तन – मन से स्वाधीन , दिव्य संगीत सुनाते
ईश्वर को यह भेंट , सिर्फ ईश्वर – हित गाते
कहते रवि कविराय ,छड़ी – मिट्टी का बर्तन
दो पावन पहचान ,.देख लो जाकर निधिवन
°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°
[ 4 ]
बाँके बिहारी मंदिर ,वृंदावन (कुंडलिया)
———————————————–
बाँके बिहारी की श्री , शोभा अपरंपार
भीड़ दिखी हर द्वार पर ,दिखते भक्त अपार
दिखते भक्त अपार ,कठिन दर्शन कर पाना
जिस पर कृपा-प्रसाद ,धन्य है उसका आना
कहते रवि कविराय ,सौम्य छवि पल-पल झाँके
टेके जम कर पाँव , दिखे ठाकुर जी बांके
°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°
रचयिता : रवि प्रकाश ,बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 9997615451

162 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
Learn to recognize a false alarm
Learn to recognize a false alarm
पूर्वार्थ
सोच~
सोच~
दिनेश एल० "जैहिंद"
मोहब्बत की दुकान और तेल की पकवान हमेशा ही हानिकारक होती है l
मोहब्बत की दुकान और तेल की पकवान हमेशा ही हानिकारक होती है l
Ashish shukla
2942.*पूर्णिका*
2942.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अब किसका है तुमको इंतजार
अब किसका है तुमको इंतजार
gurudeenverma198
संसार में कोई किसी का नही, सब अपने ही स्वार्थ के अंधे हैं ।
संसार में कोई किसी का नही, सब अपने ही स्वार्थ के अंधे हैं ।
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
गुमनाम रहने दो मुझे।
गुमनाम रहने दो मुझे।
Satish Srijan
"आत्मकथा"
Rajesh vyas
विचार और रस [ एक ]
विचार और रस [ एक ]
कवि रमेशराज
'उड़ाओ नींद के बादल खिलाओ प्यार के गुलशन
'उड़ाओ नींद के बादल खिलाओ प्यार के गुलशन
आर.एस. 'प्रीतम'
कहर कुदरत का जारी है
कहर कुदरत का जारी है
Neeraj Mishra " नीर "
#drarunkumarshastei
#drarunkumarshastei
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मंदिर जाना चाहिए
मंदिर जाना चाहिए
जगदीश लववंशी
#शेर-
#शेर-
*प्रणय प्रभात*
सभी नेतागण आज कल ,
सभी नेतागण आज कल ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
जुगनू तेरी यादों की मैं रोशनी सी लाता हूं,
जुगनू तेरी यादों की मैं रोशनी सी लाता हूं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"चाह"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
मेरी किस्मत
मेरी किस्मत
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
ऑपरेशन सफल रहा( लघु कथा)
ऑपरेशन सफल रहा( लघु कथा)
Ravi Prakash
बुंदेली दोहा संकलन बिषय- गों में (मन में)
बुंदेली दोहा संकलन बिषय- गों में (मन में)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
कुत्ते / MUSAFIR BAITHA
कुत्ते / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
जल का अपव्यय मत करो
जल का अपव्यय मत करो
Kumud Srivastava
समझौता
समझौता
Shyam Sundar Subramanian
वह
वह
Lalit Singh thakur
प्रेम
प्रेम
Sushmita Singh
न ठंड ठिठुरन, खेत न झबरा,
न ठंड ठिठुरन, खेत न झबरा,
Sanjay ' शून्य'
हो रही है भोर अनुपम देखिए।
हो रही है भोर अनुपम देखिए।
surenderpal vaidya
महामानव पंडित दीनदयाल उपाध्याय
महामानव पंडित दीनदयाल उपाध्याय
Indu Singh
खुश रहने की कोशिश में
खुश रहने की कोशिश में
Surinder blackpen
मन के सवालों का जवाब नाही
मन के सवालों का जवाब नाही
भरत कुमार सोलंकी
Loading...