Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Jan 2017 · 2 min read

वीवी और हादसा…।

व्यंग्य…।।

वीवी और हादसा…।।

क्या जिक्र करुं घटती है घटना ऐसी क्यूँ अक्सर.।
क्यों होते रहतें हादसे ऐसे जीवन मे हम इंसान के.।

रूह कांप रहें थे मेरे और था बड़ा अजीब हीं मंजर.।
आशार दिखाई दे रहें थे मुझे किसी नये तूफान के.।

साथ वीवी के मेरे खड़ा था इक शख्स बाहें मोड़कर.।
वीवी भी खड़ी थी मेरी दरवाजे पे नई वेलन तान के.।

आवाज रूक गये थें मेरे हलक तक ही मेरी आकर.।
जब पहचाना चेहरा नजदीक जा मैने उस इंसान के.।

था लगा झटका मुझे उसे अपने घर आया देखकर.।
मन मे सोचा खैर नही अब तो “विनोद” तेरे जान के.।

जिसे पीट डाला था आज तूने इक लफंगा जानकर.।
वो शख्स तो निकला तेेरी वीवी के पहचान…….. के.।

हूआ यूँ ,था खड़ा मै आज अपने नुक्कड़ के मोड़ पर.।
इक शख्स आया भागता और मुझसे टकराया जान के.।

गिर पड़ा था रास्ते पर उस वक्त मै कुछ इस कदर.।
कि सभी तारें नजर आ रहें थे मुझे आसमान के.।

किसी तरह संभाला खुद को और मैने भीे उठकर.।
दे डाला इक जोर का उस शख्स के नीचे कान के.।

भागा वो सरपट मुझसे अपनी जान तभी छूड़ाकर.।
डर गया था शायद मुझको खुद से तगड़ा मान……के.।

था खड़ा वही शख्स आज घर पे मेरे हीं आकर.।
कह डाली थी शायद सारी बातें उसने वीवी से आन के.।

वैसे तो था मै घुस गया चुप चाप अपने घर के अंदर.।
पर आँखों मे मेरे साये पसरे थें डर और अपमान के.।

वीवी देख रही थी मेरी मुझको आँखें अपनी तरेर कर.।
सच कहता हूं फक्ते ऊड़ चूके थे मेरे प्राण………..के.।

शोले बरस रहें थे आँखों से उसकी रह रह………..कर।
जिसे पीटा था हमने वो भाई थें वीवी के दूर जहान के.।

धो डाला मेरी वीवी ने मुझे उसके सामने ही जमकर.।
फिक्र ना थी उसे अपने पति की ईज्जत और सम्मान के.।

वो चलाती रही तानो की गोलियां लगातार हीं मुझपर.।
मै सो गया चुपचाप जाकर कमरे मे चादर तान के.।

क्या जिक्र करुं घटती है घटना ऐसी क्यूँ अक्सर.।
क्यों होते रहतें हादसे ऐसे जीवन मे हम इंसान के.।

विनोद सिन्हा-“सुदामा”

Language: Hindi
435 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
युवा संवाद
युवा संवाद
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
खो गया सपने में कोई,
खो गया सपने में कोई,
Mohan Pandey
मेघा तू सावन में आना🌸🌿🌷🏞️
मेघा तू सावन में आना🌸🌿🌷🏞️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
✍️माँ ✍️
✍️माँ ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
हकीकत उनमें नहीं कुछ
हकीकत उनमें नहीं कुछ
gurudeenverma198
उगते विचार.........
उगते विचार.........
विमला महरिया मौज
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
संसार का स्वरूप(3)
संसार का स्वरूप(3)
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
घर में बचा न एका।
घर में बचा न एका।
*Author प्रणय प्रभात*
बिताया कीजिए कुछ वक्त
बिताया कीजिए कुछ वक्त
पूर्वार्थ
की है निगाहे - नाज़ ने दिल पे हया की चोट
की है निगाहे - नाज़ ने दिल पे हया की चोट
Sarfaraz Ahmed Aasee
गणेश चतुर्थी
गणेश चतुर्थी
Surinder blackpen
ईश्वर से शिकायत क्यों...
ईश्वर से शिकायत क्यों...
Radhakishan R. Mundhra
उर्दू
उर्दू
Shekhar Chandra Mitra
अँधेरे रास्ते पर खड़ा आदमी.......
अँधेरे रास्ते पर खड़ा आदमी.......
सिद्धार्थ गोरखपुरी
अंदाज़े बयाँ
अंदाज़े बयाँ
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जाग गया है हिन्दुस्तान
जाग गया है हिन्दुस्तान
Bodhisatva kastooriya
मेरे मरने के बाद
मेरे मरने के बाद
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
चलते चलते
चलते चलते
ruby kumari
ঈশ্বর কে
ঈশ্বর কে
Otteri Selvakumar
Behaviour of your relatives..
Behaviour of your relatives..
Suryash Gupta
हिंदी दोहा शब्द - भेद
हिंदी दोहा शब्द - भेद
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
गांधी से परिचर्चा
गांधी से परिचर्चा
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
अब कहां वो प्यार की रानाइयां।
अब कहां वो प्यार की रानाइयां।
सत्य कुमार प्रेमी
बुढ़ादेव तुम्हें नमो-नमो
बुढ़ादेव तुम्हें नमो-नमो
नेताम आर सी
कन्या पूजन
कन्या पूजन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
फितरत इंसान की....
फितरत इंसान की....
Tarun Singh Pawar
आप और हम
आप और हम
Neeraj Agarwal
मुस्कुराहट से बड़ी कोई भी चेहरे की सौंदर्यता नही।
मुस्कुराहट से बड़ी कोई भी चेहरे की सौंदर्यता नही।
Rj Anand Prajapati
“ दुमका संस्मरण ” ( विजली ) (1958)
“ दुमका संस्मरण ” ( विजली ) (1958)
DrLakshman Jha Parimal
Loading...