Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Sep 2016 · 1 min read

वीर सपूत देश के

वीर सपूतों बढे चलो ,देश तुम्हारे साथ है
हम सब भी तुमसे ही हैं, चाहें तुम्हारा हाथ हैं।

तुम ही हो सबके नायक, डरो नहीं तूफ़ानों से
दुश्मन कुछ कर न पाये , सर पर तुम्हारे नाथ है।

लक्ष्य पर साधो निशाना, अंत करो आतंक का
आस बहुत हम सब को तुमसे, तुम्हीं हमारे पार्थ हो।

पत्थर भी फूल हो जायें, यही कामना करते हम
माँ भारती के सपूतों , देश भक्ति परमार्थ है।

अमर हुये मर कर भी तुम, अनुपम भागय तुम्हारा है

नमन तुम्हें करते हम सब हैं, किया हमें कृतार्थ है।

जय हिंद, जय हिंद की सेना
सूक्ष्म लता महाजन

Language: Hindi
444 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
उजियार
उजियार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Tum khas ho itne yar ye  khabar nhi thi,
Tum khas ho itne yar ye khabar nhi thi,
Sakshi Tripathi
* प्यार की बातें *
* प्यार की बातें *
surenderpal vaidya
कृतिकार का परिचय/
कृतिकार का परिचय/"पं बृजेश कुमार नायक" का परिचय
Pt. Brajesh Kumar Nayak
देखते देखते मंज़र बदल गया
देखते देखते मंज़र बदल गया
Atul "Krishn"
क़िताबों से मुहब्बत कर तुझे ज़न्नत दिखा देंगी
क़िताबों से मुहब्बत कर तुझे ज़न्नत दिखा देंगी
आर.एस. 'प्रीतम'
एक एहसास
एक एहसास
Dr fauzia Naseem shad
शब्द और अर्थ समझकर हम सभी कहते हैं
शब्द और अर्थ समझकर हम सभी कहते हैं
Neeraj Agarwal
विनय
विनय
Kanchan Khanna
नजरो नजरो से उनसे इकरार हुआ
नजरो नजरो से उनसे इकरार हुआ
Vishal babu (vishu)
मोहब्बत
मोहब्बत
AVINASH (Avi...) MEHRA
विरहन
विरहन
umesh mehra
अंताक्षरी पिरामिड तुक्तक
अंताक्षरी पिरामिड तुक्तक
Subhash Singhai
इतने दिनों बाद आज मुलाकात हुईं,
इतने दिनों बाद आज मुलाकात हुईं,
Stuti tiwari
विश्वास
विश्वास
धर्मेंद्र अरोड़ा मुसाफ़िर
दिखा तू अपना जलवा
दिखा तू अपना जलवा
gurudeenverma198
"राजनीति"
Dr. Kishan tandon kranti
शिकायत नही तू शुक्रिया कर
शिकायत नही तू शुक्रिया कर
Surya Barman
खुल जाता है सुबह उठते ही इसका पिटारा...
खुल जाता है सुबह उठते ही इसका पिटारा...
shabina. Naaz
*शुभ रात्रि हो सबकी*
*शुभ रात्रि हो सबकी*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
इच्छा-मृत्यु (बाल कविता)
इच्छा-मृत्यु (बाल कविता)
Ravi Prakash
उनकी तोहमत हैं, मैं उनका ऐतबार नहीं हूं।
उनकी तोहमत हैं, मैं उनका ऐतबार नहीं हूं।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
#परिहास
#परिहास
*Author प्रणय प्रभात*
लाईक और कॉमेंट्स
लाईक और कॉमेंट्स
Dr. Pradeep Kumar Sharma
2730.*पूर्णिका*
2730.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
✍️हे बेबी!गंगा में नाव पर बैठकर,जप ले नमः शिवाय✍️
✍️हे बेबी!गंगा में नाव पर बैठकर,जप ले नमः शिवाय✍️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
लॉकडाउन के बाद नया जीवन
लॉकडाउन के बाद नया जीवन
Akib Javed
मित्र
मित्र
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
हो गया तुझसे, मुझे प्यार खुदा जाने क्यों।
हो गया तुझसे, मुझे प्यार खुदा जाने क्यों।
सत्य कुमार प्रेमी
आमावश की रात में उड़ते जुगनू का प्रकाश पूर्णिमा की चाँदनी को
आमावश की रात में उड़ते जुगनू का प्रकाश पूर्णिमा की चाँदनी को
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Loading...