Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jun 2023 · 1 min read

!! वीणा के तार !!

!! वीणा के तार !!
‌‌ ‌‌ ‌‌ ‍‍‍
मन के वीणा के तार
झ‌नकायेगा कौन
हम जो रूठे कभी तो ‌
मनायेगा कौन
तुम से ही दुनियां
इतनी हसीं है मेरी
तुम ही चले गये तो
मुस्कुरायेगा कौन

‌‌ ‌ •• कलमकार ••
चुन्नू लाल गुप्ता-मऊ (उ.प्र.)
‌ ‌‌ ‌‌

1 Like · 918 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हाँ, वह लड़की ऐसी थी
हाँ, वह लड़की ऐसी थी
gurudeenverma198
🙅सोचो तो सही🙅
🙅सोचो तो सही🙅
*Author प्रणय प्रभात*
सिर्फ़ वादे ही निभाने में गुज़र जाती है
सिर्फ़ वादे ही निभाने में गुज़र जाती है
अंसार एटवी
तेरी मुस्कराहटों का राज क्या  है
तेरी मुस्कराहटों का राज क्या है
Anil Mishra Prahari
बाल विवाह
बाल विवाह
Mamta Rani
एक कहानी सुनाए बड़ी जोर से आई है।सुनोगे ना चलो सुन ही लो
एक कहानी सुनाए बड़ी जोर से आई है।सुनोगे ना चलो सुन ही लो
Rituraj shivem verma
दस्तक भूली राह दरवाजा
दस्तक भूली राह दरवाजा
Suryakant Dwivedi
विश्व जनसंख्या दिवस
विश्व जनसंख्या दिवस
Paras Nath Jha
किसी की गलती देखकर तुम शोर ना करो
किसी की गलती देखकर तुम शोर ना करो
कवि दीपक बवेजा
पुस्तकों से प्यार
पुस्तकों से प्यार
surenderpal vaidya
"पहरा"
Dr. Kishan tandon kranti
जीवन से पहले या जीवन के बाद
जीवन से पहले या जीवन के बाद
Mamta Singh Devaa
Ghazal
Ghazal
shahab uddin shah kannauji
तूने ही मुझको जीने का आयाम दिया है
तूने ही मुझको जीने का आयाम दिया है
हरवंश हृदय
जीवन
जीवन
लक्ष्मी सिंह
जो आपका गुस्सा सहन करके भी आपका ही साथ दें,
जो आपका गुस्सा सहन करके भी आपका ही साथ दें,
Ranjeet kumar patre
2686.*पूर्णिका*
2686.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
वर्तमान परिदृश्य में महाभारत (सरसी)
वर्तमान परिदृश्य में महाभारत (सरसी)
नाथ सोनांचली
पल-पल यू मरना
पल-पल यू मरना
The_dk_poetry
दुनिया में कुछ चीजे कभी नही मिटाई जा सकती, जैसे कुछ चोटे अपन
दुनिया में कुछ चीजे कभी नही मिटाई जा सकती, जैसे कुछ चोटे अपन
Soniya Goswami
आहट
आहट
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
बेदर्दी मौसम दर्द क्या जाने ?
बेदर्दी मौसम दर्द क्या जाने ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
अलग अलग से बोल
अलग अलग से बोल
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
माँ से मिलने के लिए,
माँ से मिलने के लिए,
sushil sarna
इश्क पहली दफा
इश्क पहली दफा
साहित्य गौरव
बादल (बाल कविता)
बादल (बाल कविता)
Ravi Prakash
हमारे प्यारे दादा दादी
हमारे प्यारे दादा दादी
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
जिन्दगी की किताब में
जिन्दगी की किताब में
Mangilal 713
आंधी
आंधी
Aman Sinha
THE GREY GODDESS!
THE GREY GODDESS!
Dhriti Mishra
Loading...