Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Mar 2023 · 1 min read

वीणा का तार ‘मध्यम मार्ग ‘

बुद्ध का मार्ग सरल और सहज़ है। उत्तम है ,जीवन को बड़ी सहजता से समझने में पर्याप्त है।शांति की खोज ,शांति प्राप्त करना और उस शांति की अनुभूति करना जीवन में इससे ज्यादा सुख कहीं नहीं है।सुख शांति पाना ही अगर पीड़ा दायक हो ,उसके रास्ते ही इतने जटिल हो तो कौन पाना चाहेगा। बड़ी सरलता से यदि मिलने लगे तो जीवन का अर्थ और भाव ही बदल जाए।
बुद्ध कहते है,वीणा का तार यदि तनावपूर्ण स्तिथि में हो अर्थात् वीणा के तार को सीमा से अधिक खींचा जाए तो टूट जाना स्वभाविक है।तब तो पूरा जीवन ही व्यर्थ हो गया। उस वीणा से सुर निकलना तो मुमकिन ही नहीं।वहीं इसके विपरीत यदि वीणा के दोनों सिराओ से तार को छोड़ दिया जाए या अत्यधिक ढील दे दी जाए।तब भी उस वीणा से सुर न निकलेगा।
बुद्ध कहते है, वीणा तभी सुरीली सुर से बजेगा जब उस तार को मध्यम रूप से बांँधा जाए। जीवन का जो मध्य पड़ाव है,जन्म के बाद और मृत्यु आने तक,शांति सुख से जीना और निर्वाण प्राप्त के लिए मध्यम मार्ग को अपनाना ही सरोकार होगा।जो जटिल मार्ग से पहुँच गये ,ऐसा कोई जरुरी नहीं की सभी उस सुख शांति को उस मार्ग से पा सकेंगे।सहज़ मार्ग ही उत्तम है,मध्यम मार्ग ही श्रेष्ठ है।

रचनाकार-
बुद्ध प्रकाश,
मौदहा हमीरपुर।

Language: Hindi
Tag: लेख
4 Likes · 528 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Buddha Prakash
View all
You may also like:
इस जीवन का क्या है,
इस जीवन का क्या है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
दोस्ती में लोग एक दूसरे की जी जान से मदद करते हैं
दोस्ती में लोग एक दूसरे की जी जान से मदद करते हैं
ruby kumari
जिंदगी को हमेशा एक फूल की तरह जीना चाहिए
जिंदगी को हमेशा एक फूल की तरह जीना चाहिए
शेखर सिंह
*होते यदि राजा-महाराज, तो फिर वैभव वह दिखलाते (राधेश्यामी छं
*होते यदि राजा-महाराज, तो फिर वैभव वह दिखलाते (राधेश्यामी छं
Ravi Prakash
शादी ..... एक सोच
शादी ..... एक सोच
Neeraj Agarwal
बदलता चेहरा
बदलता चेहरा
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
घोसी                      क्या कह  रहा है
घोसी क्या कह रहा है
Rajan Singh
G27
G27
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
जिस देश में जालसाज़ी कर आईएएस बनना आसान हो, वहां बाक़ी पदों की
जिस देश में जालसाज़ी कर आईएएस बनना आसान हो, वहां बाक़ी पदों की
*प्रणय प्रभात*
हे! प्रभु आनंद-दाता (प्रार्थना)
हे! प्रभु आनंद-दाता (प्रार्थना)
Indu Singh
पलकों ने बहुत समझाया पर ये आंख नहीं मानी।
पलकों ने बहुत समझाया पर ये आंख नहीं मानी।
Rj Anand Prajapati
कविता : चंद्रिका
कविता : चंद्रिका
Sushila joshi
स्याही की
स्याही की
Atul "Krishn"
राम जपन क्यों छोड़ दिया
राम जपन क्यों छोड़ दिया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कब मरा रावण
कब मरा रावण
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
प्राप्त हो जिस रूप में
प्राप्त हो जिस रूप में
Dr fauzia Naseem shad
प्यार किया हो जिसने, पाने की चाह वह नहीं रखते।
प्यार किया हो जिसने, पाने की चाह वह नहीं रखते।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
నమో గణేశ
నమో గణేశ
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
माँ भारती के वरदपुत्र: नरेन्द्र मोदी
माँ भारती के वरदपुत्र: नरेन्द्र मोदी
Dr. Upasana Pandey
🍀 *गुरु चरणों की धूल*🍀
🍀 *गुरु चरणों की धूल*🍀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"हँसते ज़ख्म"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरा कान्हा जो मुझसे जुदा हो गया
मेरा कान्हा जो मुझसे जुदा हो गया
कृष्णकांत गुर्जर
गम की मुहर
गम की मुहर
हरवंश हृदय
गुस्सा
गुस्सा
Sûrëkhâ
दादी दादा का प्रेम किसी भी बच्चे को जड़ से जोड़े  रखता है या
दादी दादा का प्रेम किसी भी बच्चे को जड़ से जोड़े रखता है या
Utkarsh Dubey “Kokil”
जब तक हो तन में प्राण
जब तक हो तन में प्राण
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
अमृतकलश
अमृतकलश
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
2504.पूर्णिका
2504.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
दिल के रिश्ते
दिल के रिश्ते
Surinder blackpen
Loading...