Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jun 2016 · 1 min read

विष

राधा रानी कब तारेंगी, फिर वृक्षों की छांवों को l
गोकुल-मथुरा-वृंदावन औ, बरसाने से गांवों को l
विष से आहत माता जमुना, कातर होकर पूछे है ,
क्या फिर से मैं छू पाऊंगी, कान्हा जी के पांवों को l
— राजीव ‘प्रखर’
मुरादाबाद
मो. 8941912642

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
393 Views
You may also like:
कब आओगे
dks.lhp
जिन्दगी की रफ़्तार
मनोज कर्ण
नशा नहीं सुहाना कहर हूं मैं
Dr Meenu Poonia
अल्लादीन का चिराग़
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आदिवासी
Shekhar Chandra Mitra
हाथों को मंदिर में नहीं, मरघट में जोड़ गयी वो।
Manisha Manjari
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
बिहार में खेला हो गया
Ram Krishan Rastogi
*ओ भोलेनाथ जी* "अरदास"
Shashi kala vyas
दीनानाथ दिनेश जी से संपर्क
Ravi Prakash
मेरा साया
Anamika Singh
छठ गीत (भोजपुरी)
पाण्डेय चिदानन्द
मित्रता दिवस
Dr Archana Gupta
प्यार करते हो मुझे तुम तो यही उपहार देना
Shivkumar Bilagrami
ऐ दिल न चल इश्क की राह पर,
Abhishek Pandey Abhi
तेरा दीदार
Dr fauzia Naseem shad
जिंदगी की फरमाइश - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
Tumhara Saath chaiye ? Zindagi Bhar
Chaurasia Kundan
Book of the day: धागे (काव्य संग्रह)
Sahityapedia
वक्त एक दिन हकीकत दिखा देता है।
Taj Mohammad
भय
Shyam Sundar Subramanian
Green Trees
Buddha Prakash
मोन
श्याम सिंह बिष्ट
मजबूरी
पीयूष धामी
🌻🌻अन्यानां जनानां हितं🌻🌻
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कोई तो जाके उसे मेरे दिल का हाल समझाये...!!
Ravi Malviya
✍️छल कपट
'अशांत' शेखर
दोहे एकादश ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
“ आत्ममंथन; मिथिला,मैथिली आ मैथिल “
DrLakshman Jha Parimal
गांव शहर और हम ( कर्मण्य)
Shyam Pandey
Loading...