Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2022 · 1 min read

विषाणु

पूर्वकल्पित धारणाएं, अंधविश्वास, एवं व्यक्तिगत पूर्वाग्रह ,
वे विषाणु हैं , जो किसी व्यक्ति विशेष के निष्पक्ष स्वतंत्र दृष्टिकोण तथा विश्लेषण क्षमता को संक्रमित कर उसके निष्कर्ष को प्रभावित करते हैं।

Language: Hindi
187 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
नौ फेरे नौ वचन
नौ फेरे नौ वचन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दुनिया सारी मेरी माँ है
दुनिया सारी मेरी माँ है
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
गर्मी
गर्मी
Dhirendra Singh
मेरे दिल मे रहा जुबान पर आया नहीं....!
मेरे दिल मे रहा जुबान पर आया नहीं....!
Deepak Baweja
कर बैठे कुछ और हम
कर बैठे कुछ और हम
Basant Bhagawan Roy
जन्म मरण न जीवन है।
जन्म मरण न जीवन है।
Rj Anand Prajapati
गंगा
गंगा
ओंकार मिश्र
प्यार
प्यार
Anil chobisa
"कोयल"
Dr. Kishan tandon kranti
मैं स्त्री हूं भारत की।
मैं स्त्री हूं भारत की।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
मेरी साँसों में उतर कर सनम तुम से हम तक आओ।
मेरी साँसों में उतर कर सनम तुम से हम तक आओ।
Neelam Sharma
*मैं अमर आत्म-पद या मरणशील तन【गीत】*
*मैं अमर आत्म-पद या मरणशील तन【गीत】*
Ravi Prakash
कभी खुश भी हो जाते हैं हम
कभी खुश भी हो जाते हैं हम
Shweta Soni
अतीत के पन्ने (कविता)
अतीत के पन्ने (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
2122/2122/212
2122/2122/212
सत्य कुमार प्रेमी
मिमियाने की आवाज
मिमियाने की आवाज
Dr Nisha nandini Bhartiya
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
आँशुओ ने कहा अब इस तरह बहा जाय
आँशुओ ने कहा अब इस तरह बहा जाय
Rituraj shivem verma
पेड़ और चिरैया
पेड़ और चिरैया
Saraswati Bajpai
गिलहरी
गिलहरी
Satish Srijan
क्या रखा है? वार में,
क्या रखा है? वार में,
Dushyant Kumar
सुबह-सुबह की लालिमा
सुबह-सुबह की लालिमा
Neeraj Agarwal
दो दिन की जिंदगानी रे बन्दे
दो दिन की जिंदगानी रे बन्दे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
" अकेलापन की तड़प"
Pushpraj Anant
रंजीत शुक्ल
रंजीत शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
कभी कभी आईना भी,
कभी कभी आईना भी,
शेखर सिंह
3330.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3330.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
* मधुमास *
* मधुमास *
surenderpal vaidya
Loading...