Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Aug 2023 · 1 min read

विषम परिस्थितियों से डरना नहीं,

विषम परिस्थितियों से डरना नहीं,
लड़ना चाहिए।
जब परिस्थितियाँ आपके अनुकूल न हों,
तब आप परिस्थितियों के अनुकूल हो जाइए।।
©Dhara

393 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Trishika S Dhara
View all
You may also like:
फूल सी तुम हो
फूल सी तुम हो
Bodhisatva kastooriya
दीवार
दीवार
अखिलेश 'अखिल'
ए'लान - ए - जंग
ए'लान - ए - जंग
Shyam Sundar Subramanian
हाथ जिनकी तरफ बढ़ाते हैं
हाथ जिनकी तरफ बढ़ाते हैं
Phool gufran
सरयू
सरयू
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
#लघुकथा
#लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
मेरे पापा
मेरे पापा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जय मां शारदे
जय मां शारदे
Harminder Kaur
*मित्र हमारा है व्यापारी (बाल कविता)*
*मित्र हमारा है व्यापारी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
हिन्दी पर नाज है !
हिन्दी पर नाज है !
Om Prakash Nautiyal
बदनाम ये आवारा जबीं हमसे हुई है
बदनाम ये आवारा जबीं हमसे हुई है
Sarfaraz Ahmed Aasee
कोई खुशबू
कोई खुशबू
Surinder blackpen
हम किसी सरकार में नहीं हैं।
हम किसी सरकार में नहीं हैं।
Ranjeet kumar patre
ईमान
ईमान
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
श्रद्धावान बनें हम लेकिन, रहें अंधश्रद्धा से दूर।
श्रद्धावान बनें हम लेकिन, रहें अंधश्रद्धा से दूर।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
नारा पंजाबियत का, बादल का अंदाज़
नारा पंजाबियत का, बादल का अंदाज़
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
व्यक्ति और विचार में यदि चुनना पड़े तो विचार चुनिए। पर यदि व
व्यक्ति और विचार में यदि चुनना पड़े तो विचार चुनिए। पर यदि व
Sanjay ' शून्य'
बचपन का प्यार
बचपन का प्यार
Vandna Thakur
नास्तिकों और पाखंडियों के बीच का प्रहसन तो ठीक है,
नास्तिकों और पाखंडियों के बीच का प्रहसन तो ठीक है,
शेखर सिंह
सोचता हूँ के एक ही ख्वाईश
सोचता हूँ के एक ही ख्वाईश
'अशांत' शेखर
दर्पण जब भी देखती खो जाती हूँ मैं।
दर्पण जब भी देखती खो जाती हूँ मैं।
लक्ष्मी सिंह
भगतसिंह की जवानी
भगतसिंह की जवानी
Shekhar Chandra Mitra
"किन्नर"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रभु ने बनवाई रामसेतु माता सीता के खोने पर।
प्रभु ने बनवाई रामसेतु माता सीता के खोने पर।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
*बहू- बेटी- तलाक*
*बहू- बेटी- तलाक*
Radhakishan R. Mundhra
पैसा बोलता है
पैसा बोलता है
Mukesh Kumar Sonkar
शनि देव
शनि देव
Sidhartha Mishra
सौभाग्य मिले
सौभाग्य मिले
Pratibha Pandey
मैं अपने दिल की रानी हूँ
मैं अपने दिल की रानी हूँ
Dr Archana Gupta
अगर प्रेम है
अगर प्रेम है
हिमांशु Kulshrestha
Loading...