Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Mar 2023 · 1 min read

विश्व रंगमंच दिवस पर….

वृहद् रंगमंच ये दुनिया सारी….

विरंचि-विरचित प्रपंच यह भारी।
रंगमंच-सी भासित दुनिया सारी।
जीव जहाँ अभिनय करता है,
नित नूतन अति विस्मय कारी।

नयनाभिराम निसर्ग-दृश्य-दर्शन।
सृष्टि अनूठी अद्भुत बिंबांकन।
नर्तन सम्मोहक नियति-नटी का,
करता नियंता तटस्थ मूल्यांकन।

अनुस्यूत कथाएँ मुख्य-प्रासंगिक।
हाव-भाव चाक्षुष और आंगिक।
मिल सब भव्य कथानक गढ़ते,
नाट्यशाला सी भू खुली नैसर्गिक।

पात्र आते निज किरदार निभाते।
दर्शक उन संग घुल-मिल जाते।
गिरती यवनिका पटाक्षेप होता,
एक नया दृश्य फिर सामने होता।

त्रिगुणात्मक प्रवृत्तियाँ मानवीय।
रचतीं पल-पल नवल प्रकरण।
व्यक्ति-अभिव्यक्ति भाषा-शैली,
करते मिल सब भाव-अलंकरण।

कथानक श्लाघ्य सदा वह होता।
अंततोगत्वा अंत सुखद जिसका।
नाटिका वही सफल कालजयी,
हो सन्देश महत् फलद जिसका।

इस वृहद् रंगमंच के पात्र हम सब।
भूमिका लघु बेशक पर अहं हमारी।
छोड़ जाएँ कदमों के निशां कुछ ऐसे,
चले युगों तक जिन पर दुनिया सारी।

© डॉ.सीमा अग्रवाल
मुरादाबाद (उ.प्र.)

Language: Hindi
3 Likes · 2 Comments · 166 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ.सीमा अग्रवाल
View all
You may also like:
"ये तन किराये का घर"
Dr. Kishan tandon kranti
बदनाम से
बदनाम से
विजय कुमार नामदेव
रिश्तों का एहसास
रिश्तों का एहसास
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मस्ती में जीता मधुप, करता मधु का पान(कुंडलिया)
मस्ती में जीता मधुप, करता मधु का पान(कुंडलिया)
Ravi Prakash
शमशान की राख देखकर मन में एक खयाल आया
शमशान की राख देखकर मन में एक खयाल आया
शेखर सिंह
वतन
वतन
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
ख्वाबों के रेल में
ख्वाबों के रेल में
Ritu Verma
अधूरा सफ़र
अधूरा सफ़र
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
#कौन_देगा_जवाब??
#कौन_देगा_जवाब??
*Author प्रणय प्रभात*
बहुमूल्य जीवन और युवा पीढ़ी
बहुमूल्य जीवन और युवा पीढ़ी
Gaurav Sony
अफवाह एक ऐसा धुआं है को बिना किसी आग के उठता है।
अफवाह एक ऐसा धुआं है को बिना किसी आग के उठता है।
Rj Anand Prajapati
भावुक हुए बहुत दिन हो गए
भावुक हुए बहुत दिन हो गए
Suryakant Dwivedi
किरदार
किरदार
Surinder blackpen
बुझा दीपक जलाया जा रहा है
बुझा दीपक जलाया जा रहा है
कृष्णकांत गुर्जर
धर्म-कर्म (भजन)
धर्म-कर्म (भजन)
Sandeep Pande
3061.*पूर्णिका*
3061.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कभी भ्रम में मत जाना।
कभी भ्रम में मत जाना।
surenderpal vaidya
बेगुनाही एक गुनाह
बेगुनाही एक गुनाह
Shekhar Chandra Mitra
शून्य
शून्य
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
पूजा
पूजा
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
जीवन सुंदर गात
जीवन सुंदर गात
Kaushlendra Singh Lodhi Kaushal
याद में
याद में
sushil sarna
सैनिक की कविता
सैनिक की कविता
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
दोहा- छवि
दोहा- छवि
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
आप, मैं और एक कप चाय।
आप, मैं और एक कप चाय।
Urmil Suman(श्री)
Safed panne se rah gayi h meri jindagi
Safed panne se rah gayi h meri jindagi
Sakshi Tripathi
मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Dr Archana Gupta
रो रो कर बोला एक पेड़
रो रो कर बोला एक पेड़
Buddha Prakash
अनंतनाग में शहीद हुए
अनंतनाग में शहीद हुए
Harminder Kaur
प्रश्न
प्रश्न
Dr MusafiR BaithA
Loading...