Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Apr 2024 · 1 min read

विश्व भर में अम्बेडकर जयंती मनाई गयी।

विश्व भर में अम्बेडकर जयंती मनाई गयी।
मजाल है जो मामूली सी घटना भी हुई हो।
यही हमारे महापुरुषों की सीख है।
(भाईचारा)

76 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जिन्दगी के रंग
जिन्दगी के रंग
Santosh Shrivastava
ये जो आँखों का पानी है बड़ा खानदानी है
ये जो आँखों का पानी है बड़ा खानदानी है
कवि दीपक बवेजा
विरह की वेदना
विरह की वेदना
surenderpal vaidya
"आँख और नींद"
Dr. Kishan tandon kranti
अपना पराया
अपना पराया
Dr. Pradeep Kumar Sharma
इश्क़ गुलाबों की महक है, कसौटियों की दांव है,
इश्क़ गुलाबों की महक है, कसौटियों की दांव है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
जय मां शारदे
जय मां शारदे
Harminder Kaur
राजभवनों में बने
राजभवनों में बने
Shivkumar Bilagrami
*दीपक (बाल कविता)*
*दीपक (बाल कविता)*
Ravi Prakash
खडा खोड झाली म्हणून एक पान फाडल की नवकोर एक पान नाहक निखळून
खडा खोड झाली म्हणून एक पान फाडल की नवकोर एक पान नाहक निखळून
Sampada
रक्त के परिसंचरण में ॐ ॐ ओंकार होना चाहिए।
रक्त के परिसंचरण में ॐ ॐ ओंकार होना चाहिए।
Rj Anand Prajapati
🙅अक़्लमंद🙅
🙅अक़्लमंद🙅
*प्रणय प्रभात*
हाजीपुर
हाजीपुर
Hajipur
मुस्कुराने लगे है
मुस्कुराने लगे है
Paras Mishra
प्रीत प्रेम की
प्रीत प्रेम की
Monika Yadav (Rachina)
बेगुनाही एक गुनाह
बेगुनाही एक गुनाह
Shekhar Chandra Mitra
23/136.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/136.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
केहिकी करैं बुराई भइया,
केहिकी करैं बुराई भइया,
Kaushal Kumar Pandey आस
जब काँटों में फूल उगा देखा
जब काँटों में फूल उगा देखा
VINOD CHAUHAN
बसंत
बसंत
Lovi Mishra
चुभते शूल.......
चुभते शूल.......
Kavita Chouhan
प्रकट भये दीन दयाला
प्रकट भये दीन दयाला
Bodhisatva kastooriya
खींचातानी  कर   रहे, सारे  नेता लोग
खींचातानी कर रहे, सारे नेता लोग
Dr Archana Gupta
बाबा साहेब अम्बेडकर / मुसाफ़िर बैठा
बाबा साहेब अम्बेडकर / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
उजले दिन के बाद काली रात आती है
उजले दिन के बाद काली रात आती है
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
विरही
विरही
लक्ष्मी सिंह
दिल तो है बस नाम का ,सब-कुछ करे दिमाग।
दिल तो है बस नाम का ,सब-कुछ करे दिमाग।
Manoj Mahato
तेरी यादें
तेरी यादें
Neeraj Agarwal
पूस की रात
पूस की रात
Atul "Krishn"
" यादों की शमा"
Pushpraj Anant
Loading...