Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 May 2018 · 4 min read

विलक्षणताओं से भरी मेघालय की खासी पहाड़ी

आज मुझे यहाँ रहते लगभग तीन वर्ष पूरे हो चुके हैं ।यहाँ की प्राकृतिक छटा से अब अंतर्मन का गहरा रिस्ता सा बन गया है। पहाड़,नदियाँ, झरनों का कलरव एवं हरियाली की मेखला यह सब जिंदगी के हिस्से बन गए हैं। इसके पूर्व तो यह सब किताबों में पढ़ी कल्पना मात्र बातें थीं । आज जब मेघालय प्रान्त की पश्चिमी खासी पहाड़ी पर रहते हुए मुझे तीन साल पूरे होने वाले हैं ,तो यहाँ की कुछ- कुछ बातों से भिज्ञ हो गया हूं।दिन प्रति दिन कुछ नयी चीजें कुछ नई बातें देखने और सुनने को मिलती हैं।
पूर्णतः पहाड़ और पथरीली जमीन होने के कारण यहां के लोगों का सारा समय भोजन जुटाने में ही व्यतीत होता है ।यहां के लोग पूर्णतः मांसाहारी हैं,मछली पकड़ना शिकार करना मुख्य काम है और ऐसा करना इनकी मजबूरी भी है ।
आधुनिक चमक दमक की दुनिया से दूर प्रकृति की गोद में बसी खासी पहाड़ी पूरी तरह से स्वर्ग का प्रतिमान लगती है चारों तरफ़ चीड़ के बड़े – बड़े वृच्छों से आच्छादित गगनचुम्बी पर्वत श्रृंखलाएं ईश्वरीय सत्ता को साक्षात प्रतिबिम्बित करती हैं।यहाँ की शीतल बयार में इतनी निर्मलता है कि उसका अहसास मात्र तन मन को आनंदित और पवित्र कर देता है । विरल जनसंख्या पूरे पहाड़ों में फैली है। शाम के समय पहाड़ों पर घरों में टिमटिमाते बल्ब ऐसे लगते हैं कि मानों दीपोत्सव के लिए दिये जलाकर रखे गए हों। सायंकालीन यह दृश्य अंतर्मन को आल्हादित करने वाला होता है ।
एशिया महाद्वीप का सबसे स्वच्छ गांव भी हमारे यहां से कुछ दूरी पर ही स्थित है जिससे आप अंदाजा लगा सकते है कि यहाँ का वातावरण कितना साफ और स्वच्छ होगा। यहाँ के लोगों के घर लकड़ी के बने होते हैं जो अतिवृष्टि या भूकम्प जैसी प्राकृतिक आपदा को ध्यान में रखकर बनाए जाते है , क्योकि ऐसी आपदाएं यहां की आम बात हैं। लोगों का प्रकृति प्रेम उनके घरों की साज सज्जा और फुलवारी से ही देखते बनता है।
यहाँ के लोग बहुत ही सरल स्वभाव के और ईमानदार होते हैं। विगत तीन वर्षों में मैंने चोरी डाका या किसी प्रकार के अपराध जैसी कोई घटना नहीं सुनी ,शायद यह सभी चीजें विकास,आधुनिकता एवं जनसंख्या की बढ़ोत्तरी के साथ ही पनपती है जो यहाँ पर न के बराबर है ।
यहां का मुख्य त्योहार क्रिसमस है जो बड़े धूम धाम से लगभग एक सप्ताह तक मनाया जाता है। इसके अलावा त्योहारों की कमी देखने को मिलती है।
अगर रीति रिवाजों की बात करें तो यहाँ के रीति रिवाज रहन सहन सब कुछ हमसे भिन्न है एक बार तो ऐसा लगता है कि हम अपने देश में ही हैं या कहीं बाहर।
यहाँ पर मातृ सत्तात्मक परिवार प्रणाली पायी जाती है। यह जानकर कुछ देर के लिए तो मैं अचंभित हो गया ।क्योंकि मातृ सत्तात्मक और पित्रसत्तात्मक परिवार प्रणाली मैन तो केवल किताबों में ही पढ़ा था। जिज्ञासावश जब मैंने जानकारी इकठ्ठी की तो पता चला कि यहां विवाह में लड़के की जगह पर लड़की बारात लेकर जाती है और लड़के को अपनी पत्नी के साथ जीवन भर के लिए अपने पिता का घर छोड़कर जाना पड़ता है।परिवार में बेटियों के क्रमशः विवाह के बाद नवीन दम्पति को अपना घर अलग बनाना होता है और जो सबसे छोटी लड़की होती है वह और उसका पति पिता के घर का असली वारिस बनता है यहां पर प्रायः एक पिता की लगभग दस से बारह संताने होती हैं। लड़की असली वारिस होने के कारण उसके जन्म पर खुशियां द्विगुणित हो जाती हैं।
सामान्यतया घर से लेकर बाजार तक का सारा काम महिलाएं ही करती हैं पुरूष केवल न के बराबर सहायता मात्र करते हैं।
इतनी सब अच्छाइयों के बीच एक विडंबना भी है जो मानस पटल को अंदर तक झकझोर देती है वह है यहाँ का बाल विवाह!
या फिर आज के फैशन युग की भाषा में कहा जाने वाला लिविंग रिलेशन !
सामान्यतः चौदह से पंद्रह वर्ष की उम्र में यहां की हर एक लड़की मां बन जाती है जो उसके जीवन और भविष्य दोनो के लिए घातक है और यह सब शायद शिक्षा की कमी के कारण व्याप्त है। यहां पर प्रायः देखने को मिलता है कि किसी की पहली पीढ़ी या किसी की दूसरी पीढ़ी ही स्कूल जा रही है उससे पहले शिक्षा न के बराबर थी और बाल विवाह जैसी कुप्रथा इसी अशिक्षा की देन है लेकिन आज हमारी सरकार इस ओर बड़े कदम उठा रही है दूरस्थ घनघोर जंगलों में भी विद्यालयों को व्यवस्था की जा रही है जिसका एक ज्वलंत उदाहरण हमारा आवासीय विद्यालय भी है जहां पर नियमित रुप से निवास करते हुए बच्चे शिक्षा की मुख्य धारा से जुड़कर अपनी दिशा और दशा में परिवर्तन कर रहे हैं।

अमित मिश्रा
जवाहर नवोदय विद्यालय
पश्चिमी खासी पहाड़ी मेघालय

Language: Hindi
Tag: लेख
399 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आफ़त
आफ़त
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
कसरत करते जाओ
कसरत करते जाओ
Harish Chandra Pande
23/120.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/120.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
" नदिया "
Dr. Kishan tandon kranti
झुकता आसमां
झुकता आसमां
शेखर सिंह
"राह अनेक, पै मँजिल एक"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
** दूर कैसे रहेंगे **
** दूर कैसे रहेंगे **
Chunnu Lal Gupta
दोहा त्रयी. . .
दोहा त्रयी. . .
sushil sarna
आपकी आहुति और देशहित
आपकी आहुति और देशहित
Mahender Singh
दुःख बांटू तो लोग हँसते हैं ,
दुःख बांटू तो लोग हँसते हैं ,
Uttirna Dhar
महाशक्तियों के संघर्ष से उत्पन्न संभावित परिस्थियों के पक्ष एवं विपक्ष में तर्कों का विश्लेषण
महाशक्तियों के संघर्ष से उत्पन्न संभावित परिस्थियों के पक्ष एवं विपक्ष में तर्कों का विश्लेषण
Shyam Sundar Subramanian
*असर*
*असर*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
धर्म आज भी है लोगों के हृदय में
धर्म आज भी है लोगों के हृदय में
Sonam Puneet Dubey
लहजा बदल गया
लहजा बदल गया
Dalveer Singh
"I’m now where I only want to associate myself with grown p
पूर्वार्थ
ऐसा बेजान था रिश्ता कि साँस लेता रहा
ऐसा बेजान था रिश्ता कि साँस लेता रहा
Shweta Soni
हमारी आजादी हमारा गणतन्त्र : ताल-बेताल / MUSAFIR BAITHA
हमारी आजादी हमारा गणतन्त्र : ताल-बेताल / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
ज़िम्मेवारी
ज़िम्मेवारी
Shashi Mahajan
हौसला देने वाले अशआर
हौसला देने वाले अशआर
Dr fauzia Naseem shad
ଡାକ ଆଉ ଶୁଭୁ ନାହିଁ ହିଆ ଓ ଜଟିଆ
ଡାକ ଆଉ ଶୁଭୁ ନାହିଁ ହିଆ ଓ ଜଟିଆ
Bidyadhar Mantry
घर एक मंदिर🌷
घर एक मंदिर🌷
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
जिस देश में जालसाज़ी कर आईएएस बनना आसान हो, वहां बाक़ी पदों की
जिस देश में जालसाज़ी कर आईएएस बनना आसान हो, वहां बाक़ी पदों की
*प्रणय प्रभात*
सरस्वती वंदना-5
सरस्वती वंदना-5
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मानवता
मानवता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
खुद से ज्यादा अहमियत
खुद से ज्यादा अहमियत
Dr Manju Saini
हरी भरी थी जो शाखें दरख्त की
हरी भरी थी जो शाखें दरख्त की
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
कहू किया आइ रूसल छी ,  कोनो कि बात भ गेल की ?
कहू किया आइ रूसल छी , कोनो कि बात भ गेल की ?
DrLakshman Jha Parimal
पिता की दौलत न हो तो हर गरीब वर्ग के
पिता की दौलत न हो तो हर गरीब वर्ग के
Ranjeet kumar patre
“जगत जननी: नारी”
“जगत जननी: नारी”
Swara Kumari arya
मेरा भारत महान --
मेरा भारत महान --
Seema Garg
Loading...