Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

‘ विरोधरस ‘—8. || आलम्बन के अनुभाव || +रमेशराज

विरोधरस के आलम्बनों के कायिक अनुभाव —-
————————————————————
विरोध-रस के आलंबन बनने वाले अहंकारी, व्यभिचारी, अत्याचारी, ठग, धूर्त्त, शोषक और मक्कार लोग होते हैं जो कभी चैन से नहीं बैठते। ऐसे लोग यदि किसी असहाय की लात-घूंसों से पिटाई करते हैं तो कहीं दहेज के लालच में बहू को जलाकर मारने की कोशिश करते हैं। कहीं इनके हाथ रिश्वत के नोटों को गिन रहे होते है तो कहीं तिजोरियों को तोड़ रहे होते हैं। कहीं डकैती डालते वक्त किसी का सिर फोड़ रहे होते हैं।
विरोधरस के आलंबन कहीं कोरे स्टांप पेपर पर निर्धन और भोले कर्जदार के अंगूठों के निशान लगवाते हुए सेठ-साहूकार के रूप में दिखायी देते हैं तो कहीं विकलांगों पर लाठियां बरसाती पुलिस वाले बन जाते हैं। कहीं निर्दोषों के पेट में चाकू घौंपते साम्प्रदायिक तत्त्व तो कहीं अबला का शीलहरण या चीरहरण करके मूंछें तानते हुए गुण्डे-
लोग हैवान हुए दंगों में, हिंदू-मुसलमान हुए दंगों में
धर्म चाकू-सा पड़ा लोगों पर, कत्ल इन्सान हुए दंगों में।
-योगेंद्र शर्मा, कबीर जिंदा है [तेवरी-संग्रह ] पृ. 67

जुल्म इतना ढा गया है देखिए विकलांग वर्ष,
घाव ज्यों का त्यों हरा है लाठियों का मार का।
[अनिल कुमार अनल, कबीर जिंदा है [तेवरी-संग्रह ] पृ. 63]

रिश्वत चलती अच्छी-खासी खुलकर आज अदालत में,
सच्चे को लग जाती फांसी खुलकर आज अदालत में।
[सुरेश त्रस्त, कबीर जिंदा है [तेवरी-संग्रह ] पृ. 52 ]

फर्जी मुठभेड़ों में मारा निर्दोषों को,
पुलिस इसतरह रही सफाई अभियानों में ।
[अरुण लहरी, कबीर जिंदा है [तेवरी-संग्रह ] पृ. 49 ]
—————————————————————–
+रमेशराज की पुस्तक ‘ विरोधरस ’ से
——————————————————————-
+रमेशराज, 15/109, ईसानगर, अलीगढ़-202001
मो.-9634551630

1 Like · 100 Views
You may also like:
शासन वही करता है
gurudeenverma198
*आज बरसात है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
खुश रहे आप आबाद हो
gurudeenverma198
शिखर छुऊंगा एक दिन
AMRESH KUMAR VERMA
* फितरत *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आखिर तुम खुश क्यों हो
Krishan Singh
फिर से खो गया है।
Taj Mohammad
बंदर मामा गए ससुराल
Manu Vashistha
नाशवंत आणि अविनाशी
Shyam Sundar Subramanian
✍️मैं जब पी लेता हूँ✍️
"अशांत" शेखर
आज बहुत दिनों बाद
Krishan Singh
समय का सदुपयोग
Anamika Singh
फरियाद
Anamika Singh
तो पिता भी आसमान है।
Taj Mohammad
मातृभाषा हिंदी
AMRESH KUMAR VERMA
बारिश
AMRESH KUMAR VERMA
पिता, पिता बने आकाश
indu parashar
योगा
Utsav Kumar Aarya
✍️बस इतनी सी ख्वाईश✍️
"अशांत" शेखर
चिंता और चिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
महाकवि नीरज के बहाने (संस्मरण)
Kanchan Khanna
✍️सब खुदा हो गये✍️
"अशांत" शेखर
एक आवाज़ पर्यावरण की
Shriyansh Gupta
पिता का पता
श्री रमण
पिता
Santoshi devi
आ सजाऊँ भाल पर चंदन तरुण
Pt. Brajesh Kumar Nayak
सौ प्रतिशत
Dr Archana Gupta
मेरे पिता से बेहतर कोई नहीं
Manu Vashistha
एक ग़ज़ल लिख रहा हूं।
Taj Mohammad
शोहरत नही मिली।
Taj Mohammad
Loading...