Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Oct 2016 · 1 min read

‘ विरोधरस ‘—10. || विरोधरस के सात्विक अनुभाव || +रमेशराज

भाव-दशा में प्राकृतिक रूप से उत्पन्न होने वाले कायिक परिवर्तन ‘सात्विक अनुभाव’ कहलाते हैं। किसी भी सुन्दर स्त्री या अबला को देखकर उसे पाने या दबोचने के लिए दुष्टजनों की भुजाएं फड़कने लगती हैं। जीभ लार टपकाने लगती है। ये खूबसूरत चीजों पर केवल अपनी कुदृष्टि ही नहीं डालते, उन्हें कुचलने या मसलने को भी बेचैन रहते हैं-
बुरी निगाहें डाल रहा है, नारी पर लक्ष्मण लिखने दो।
-दर्शन बेज़ार, एक प्रहारःलगातार, [तेवरी-संग्रह ] पृ.46
मंच पर सम्मानित होने वाले नेताजी रोमांचित और गदगद हो जाते हैं-
जब कोई थैली पाते हैं जनसेवकजी
कितने गदगद हो जाते हैं जनसेवकजी।
-रमेशराज, इतिहास घायल हैं,[तेवरी-संग्रह ] पृ. 44
अपने ही आनंद में डूबे रहने वाले अत्याचारी वर्ग की एक विशेषता यह होती है कि यह वर्ग दूसरों की त्रासद परिस्थितियों को देखकर हँसने, मुस्कराने के साथ-साथ ठहाके लगाने लगता है। आतंकवादियों को लाशों के ढेर देखकर जिस आनंद की प्राप्ति होती है, वह किसी से छुपा नहीं है। ऐसे लोग चीखते वातावरण के बीच अट्टहास करते हुए अपनी प्रसन्नता का इजहार करते हैं-
फातिमा की चीख पर करते दरिन्दे अट्टहास, आज मरियम बन्द कमरे में पड़ी चिल्ला रही।
-दर्शन बेजारः एक प्रहारः लगातार [तेवरी-संग्रह ] पृ. 41

सच्चाई ताने सहती,
झूठ सभी का यार हुआ।
-राजेंद्र वर्मा, सूर्य का उजाला, समीक्षा अंक, पृ.2
——————————————————–
+रमेशराज की पुस्तक ‘ विरोधरस ’ से
——————————————————————-
+रमेशराज, 15/109, ईसानगर, अलीगढ़-202001

Language: Hindi
Tag: लेख
273 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेरे दिल मे रहा जुबान पर आया नहीं....!
मेरे दिल मे रहा जुबान पर आया नहीं....!
Deepak Baweja
मैं शायर भी हूँ,
मैं शायर भी हूँ,
Dr. Man Mohan Krishna
क्या अजीब बात है
क्या अजीब बात है
Atul "Krishn"
मोहब्बत
मोहब्बत
अखिलेश 'अखिल'
किसी महिला का बार बार आपको देखकर मुस्कुराने के तीन कारण हो स
किसी महिला का बार बार आपको देखकर मुस्कुराने के तीन कारण हो स
Rj Anand Prajapati
#आज_की_बात
#आज_की_बात
*Author प्रणय प्रभात*
माँ शारदे
माँ शारदे
Bodhisatva kastooriya
राम काव्य मन्दिर बना,
राम काव्य मन्दिर बना,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सार्थक जीवन
सार्थक जीवन
Shyam Sundar Subramanian
सारे सब्जी-हाट में, गंगाफल अभिराम (कुंडलिया )
सारे सब्जी-हाट में, गंगाफल अभिराम (कुंडलिया )
Ravi Prakash
Dard-e-madhushala
Dard-e-madhushala
Tushar Jagawat
साक्षात्कार-पीयूष गोयल(दर्पण छवि लेखक).
साक्षात्कार-पीयूष गोयल(दर्पण छवि लेखक).
Piyush Goel
2531.पूर्णिका
2531.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
योग तराना एक गीत (विश्व योग दिवस)
योग तराना एक गीत (विश्व योग दिवस)
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दीवार का साया
दीवार का साया
Dr. Rajeev Jain
गम के बगैर
गम के बगैर
Swami Ganganiya
रिहाई - ग़ज़ल
रिहाई - ग़ज़ल
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
मुट्ठी भर आस
मुट्ठी भर आस
Kavita Chouhan
सुख- दुःख
सुख- दुःख
Dr. Upasana Pandey
तुम्हारे लिए
तुम्हारे लिए
हिमांशु Kulshrestha
मेरे शब्द, मेरी कविता, मेरे गजल, मेरी ज़िन्दगी का अभिमान हो तुम।
मेरे शब्द, मेरी कविता, मेरे गजल, मेरी ज़िन्दगी का अभिमान हो तुम।
Anand Kumar
थोड़ा थोड़ा
थोड़ा थोड़ा
Satish Srijan
Image at Hajipur
Image at Hajipur
Hajipur
"कलम और तलवार"
Dr. Kishan tandon kranti
वो सोचते हैं कि उनकी मतलबी दोस्ती के बिना,
वो सोचते हैं कि उनकी मतलबी दोस्ती के बिना,
manjula chauhan
सरसी छंद
सरसी छंद
Charu Mitra
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
आकाश महेशपुरी
जो मासूम हैं मासूमियत से छल रहें हैं ।
जो मासूम हैं मासूमियत से छल रहें हैं ।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
💐प्रेम कौतुक-358💐
💐प्रेम कौतुक-358💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दोस्त
दोस्त
Neeraj Agarwal
Loading...