Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jun 2023 · 1 min read

विरह गीत

साजन मेरे मुझे बताओ, कैसे दीप जलाऊँ
घर आँगन है सूना मेरा, किस विधि सेज सजाऊँ

इंतिजार में तेरे साजन, लगा एक युग बीता
हाल हमारा वैसा समझो, जैसे विरहन सीता
सूनी सेज चिढ़ाए मुझको, अखियन अश्रु बहाऊँ
घर आँगन है सूना मेरा, किस विधि सेज सजाऊँ

वे सुवासित मिलन की घड़ियाँ, लगता साजन भूले
बौर धरे हैं अमवा महुआ, सरसो भी सब फूले
सौतन सी कोयलिया कूके, किसको यह बतलाऊँ
घर आँगन है सूना मेरा, किस विधि सेज सजाऊँ

तपती धरती सूखी नदियाँ, बदरा बस ललचाये
छाँव मिले ना मेरे दिल को, दुख बढ़ता ही जाए
जेठ दुपहरी अगन लगाए, इसको बुझा न पाऊँ
घर आँगन है सूना मेरा, किस विधि सेज सजाऊँ

सावन की घनघोर घटाएँ, करें रात अँधियारी
नाचे मोर पपीहा जब जब, आये याद तुम्हारी
चमक उठे चपला जब नभ में, मैं विरहन डर जाऊँ
घर आँगन है सूना मेरा, किस विधि सेज सजाऊँ

पाती भेजूँ कितनी तुमको, गयी कसम से हारी
भूल गए क्यों मुझको तुम हे, मेरे कृष्ण मुरारी
पिया मिलन की आस लिए मैं, गीत विरह के गाउँ
घर आँगन है सूना मेरा, किस विधि सेज सजाऊँ

नाथ सोनांचली

Language: Hindi
Tag: गीत
2 Likes · 1 Comment · 125 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अगर तूँ यूँहीं बस डरती रहेगी
अगर तूँ यूँहीं बस डरती रहेगी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
सावन मंजूषा
सावन मंजूषा
Arti Bhadauria
"बढ़"
Dr. Kishan tandon kranti
पाहन भी भगवान
पाहन भी भगवान
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
शाम उषा की लाली
शाम उषा की लाली
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
#नवगीत-
#नवगीत-
*Author प्रणय प्रभात*
गंदे-मैले वस्त्र से, मानव करता शर्म
गंदे-मैले वस्त्र से, मानव करता शर्म
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
विक्रमादित्य के बत्तीस गुण
विक्रमादित्य के बत्तीस गुण
Vijay Nagar
होता अगर पैसा पास हमारे
होता अगर पैसा पास हमारे
gurudeenverma198
💐प्रेम कौतुक-168💐
💐प्रेम कौतुक-168💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"मेरा गलत फैसला"
Dr Meenu Poonia
जिंदगी को बोझ नहीं मानता
जिंदगी को बोझ नहीं मानता
SATPAL CHAUHAN
2905.*पूर्णिका*
2905.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
प्रेम उतना ही करो
प्रेम उतना ही करो
पूर्वार्थ
SUCCESS : MYTH & TRUTH
SUCCESS : MYTH & TRUTH
Aditya Prakash
लालची नेता बंटता समाज
लालची नेता बंटता समाज
विजय कुमार अग्रवाल
वक्त
वक्त
Ramswaroop Dinkar
हो भासा विग्यानी।
हो भासा विग्यानी।
Acharya Rama Nand Mandal
मैं तेरा श्याम बन जाऊं
मैं तेरा श्याम बन जाऊं
Devesh Bharadwaj
किसान
किसान
Bodhisatva kastooriya
घबरा के छोड़ दें
घबरा के छोड़ दें
Dr fauzia Naseem shad
जीवन की इतने युद्ध लड़े
जीवन की इतने युद्ध लड़े
ruby kumari
जो संतुष्टि का दास बना, जीवन की संपूर्णता को पायेगा।
जो संतुष्टि का दास बना, जीवन की संपूर्णता को पायेगा।
Manisha Manjari
प्यार हुआ कैसे और क्यूं
प्यार हुआ कैसे और क्यूं
Parvat Singh Rajput
पेड़
पेड़
Kanchan Khanna
🥀 * गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 * गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
वक्त
वक्त
Shyam Sundar Subramanian
बस इतनी सी अभिलाषा मेरी
बस इतनी सी अभिलाषा मेरी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
देश की आज़ादी के लिए अंग्रेजों से लड़ते हुए अपने प्राणों की
देश की आज़ादी के लिए अंग्रेजों से लड़ते हुए अपने प्राणों की
Shubham Pandey (S P)
Loading...