Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Jul 2023 · 1 min read

विरक्ति

कितनी भयावह है ये घटना किसी के हृदय से प्रेम की विरक्ति हो जाना, जो प्रेम जीवन का श्रोत है उससे ही खाली हो जाने के बाद क्या ही बचता है एक इंसान में।एक खोखला सा शरीर मात्र है जो अब बस प्रकृति के नियमानुसार जीर्ण हो जायेगा कभी नही पनप पाएंगे इनमें वो पुष्प जो इस शरीर को मनुष्य बनाते हैं। मुझे डर है अपने आपको पाने की इस जद्दोजहद में मैं अपनी मनुष्यता को ही न खो बैठू। आखिर में रह जाऊं एक बंजर वीरान जगह की तरह जो बन सकता था एक खूबसूरत फूलों का बगीचा कभी लेकिन सिर्फ इसलिए कि कोई चुरा न लें उसके फूलों को उसने नकार दी बगीचा होने की हर संभावना ।

Language: Hindi
2 Likes · 1 Comment · 242 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कई वर्षों से ठीक से होली अब तक खेला नहीं हूं मैं /लवकुश यादव
कई वर्षों से ठीक से होली अब तक खेला नहीं हूं मैं /लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
जाने कैसे आँख की,
जाने कैसे आँख की,
sushil sarna
*भरोसा तुम ही पर मालिक, तुम्हारे ही सहारे हों (मुक्तक)*
*भरोसा तुम ही पर मालिक, तुम्हारे ही सहारे हों (मुक्तक)*
Ravi Prakash
उम्मीद -ए- दिल
उम्मीद -ए- दिल
Shyam Sundar Subramanian
सोनेवानी के घनघोर जंगल
सोनेवानी के घनघोर जंगल
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
कहां से कहां आ गए हम....
कहां से कहां आ गए हम....
Srishty Bansal
Let your thoughts
Let your thoughts
Dhriti Mishra
मिलेंगे इक रोज तसल्ली से हम दोनों
मिलेंगे इक रोज तसल्ली से हम दोनों
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
💐प्रेम कौतुक-257💐
💐प्रेम कौतुक-257💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आशीर्वाद
आशीर्वाद
Dr Parveen Thakur
हो जाओ तुम किसी और के ये हमें मंजूर नहीं है,
हो जाओ तुम किसी और के ये हमें मंजूर नहीं है,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
3261.*पूर्णिका*
3261.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
" मेरे जीवन का राज है राज "
Dr Meenu Poonia
लोककवि रामचरन गुप्त के पूर्व में चीन-पाकिस्तान से भारत के हुए युद्ध के दौरान रचे गये युद्ध-गीत
लोककवि रामचरन गुप्त के पूर्व में चीन-पाकिस्तान से भारत के हुए युद्ध के दौरान रचे गये युद्ध-गीत
कवि रमेशराज
लानत है
लानत है
Shekhar Chandra Mitra
ज़िन्दगी तुमको ढूंढ ही लेगी
ज़िन्दगी तुमको ढूंढ ही लेगी
Dr fauzia Naseem shad
तेरी हर ख़ुशी पहले, मेरे गम उसके बाद रहे,
तेरी हर ख़ुशी पहले, मेरे गम उसके बाद रहे,
डी. के. निवातिया
Loneliness in holi
Loneliness in holi
Ankita Patel
तोड़ी कच्ची आमियाँ, चटनी लई बनाय
तोड़ी कच्ची आमियाँ, चटनी लई बनाय
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
प्रकाश एवं तिमिर
प्रकाश एवं तिमिर
Pt. Brajesh Kumar Nayak
महादान
महादान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वतन हमारा है, गीत इसके गाते है।
वतन हमारा है, गीत इसके गाते है।
सत्य कुमार प्रेमी
जीवन का सच
जीवन का सच
Neeraj Agarwal
पुण्यधरा का स्पर्श कर रही, स्वर्ण रश्मियां।
पुण्यधरा का स्पर्श कर रही, स्वर्ण रश्मियां।
surenderpal vaidya
|| हवा चाल टेढ़ी चल रही है ||
|| हवा चाल टेढ़ी चल रही है ||
Dr Pranav Gautam
महोब्बत का खेल
महोब्बत का खेल
Anil chobisa
सोना जेवर बनता है, तप जाने के बाद।
सोना जेवर बनता है, तप जाने के बाद।
आर.एस. 'प्रीतम'
"प्यासा कुआँ"
Dr. Kishan tandon kranti
हूं तो इंसान लेकिन बड़ा वे हया
हूं तो इंसान लेकिन बड़ा वे हया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
130 किताबें महिलाओं के नाम
130 किताबें महिलाओं के नाम
अरशद रसूल बदायूंनी
Loading...