Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

विमौहा छंद

छंद- विमोहा
मापनी- 212 212 (गालगा गालगा)

आप जो मिल गये
फूल हैं खिल गये
मन सुवासित हुआ
दीप से जल गये

*धर्मेन्द्र अरोड़ा*

270 Views
You may also like:
इंसाफ के ठेकेदारों! शर्म करो !
ओनिका सेतिया 'अनु '
✍️निज़ाम✍️
"अशांत" शेखर
रात चांदनी का महताब लगता है।
Taj Mohammad
कर्म का मर्म
Pooja Singh
हम एक है
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
गैरों की क्या बात करें
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
♡ भाई-बहन का अमूल्य रिश्ता ♡
Dr. Alpa H. Amin
मैं कौन हूँ
Vikas Sharma'Shivaaya'
शब्द नही है पिता जी की व्याख्या करने को।
Taj Mohammad
सदा बढता है,वह 'नायक', अमल बन ताज ठुकराता|
Pt. Brajesh Kumar Nayak
फीका त्यौहार
पाण्डेय चिदानन्द
तरुण वह जो भाल पर लिख दे विजय।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
.✍️साथीला तूच हवे✍️
"अशांत" शेखर
दुर्योधन कब मिट पाया:भाग:38
AJAY AMITABH SUMAN
फरियाद
Anamika Singh
जो भी संजोग बने संभालो खुद को....
Dr. Alpa H. Amin
सार संभार
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
पूंजीवाद में ही...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
सच में ईश्वर लगते पिता हमारें।।
Taj Mohammad
मुझसे मेरा हाल न पूछे
Shiva Awasthi
पीयूष छंद-पिताजी का योगदान
asha0963
मेरे बुद्ध महान !
मनोज कर्ण
आ सजाऊँ भाल पर चंदन तरुण
Pt. Brajesh Kumar Nayak
💐 देह दलन 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मां ‌धरती
AMRESH KUMAR VERMA
जुद़ा किनारे हो गये
शेख़ जाफ़र खान
रिश्तों की डोर
मनोज कर्ण
सोना
Vikas Sharma'Shivaaya'
*चाची जी श्रीमती लक्ष्मी देवी : स्मृति*
Ravi Prakash
हवस
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
Loading...