Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Sep 2016 · 1 min read

विधुर बाप

विधुर बाप

विधुर बाप निर्बल ,असहाय
बेचारा सा होता है
है अगर छोटी -छोटी गुडिया तो
किस्मत का मारा होता है

है अबोध ,अनजान शिशु तो
माँ जैसा ही  दुलारा होता है
शीतल , सौम्य ,स्नेहदायिनी
दुग्ध की धारा सा  प्यारा होता है

बड़ी -बडी बेटियों के लिए तो
मर्यादा का रखवाला होता है
पथ भटके जवां लाडलियाँ तो
तो सही राह दिखाने वाला होता है

हो जाये विधुर यौवनावस्था में
तो भटके हुए तारे जैसा होता है
कामनाओं के सरोवर में बिना
पानी के मछली जैसा होता है

हो जाये विधुर चालीस के पार तो
कोई बात करने वाला न होता है
आवश्यकताओं की पूर्ति न होने पर
सागर में रेगिस्तान जैसा होता है

— डाँ मधु त्रिवेदी

Language: Hindi
73 Likes · 362 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR.MDHU TRIVEDI
View all
You may also like:
"श्रृंगारिका"
Ekta chitrangini
गिरते-गिरते गिर गया, जग में यूँ इंसान ।
गिरते-गिरते गिर गया, जग में यूँ इंसान ।
Arvind trivedi
मुझे अंदाज़ है
मुझे अंदाज़ है
हिमांशु Kulshrestha
कहानियां ख़त्म नहीं होंगी
कहानियां ख़त्म नहीं होंगी
Shekhar Chandra Mitra
Dead 🌹
Dead 🌹
Sampada
#सृजनएजुकेशनट्रस्ट
#सृजनएजुकेशनट्रस्ट
Rashmi Ranjan
नीला ग्रह है बहुत ही खास
नीला ग्रह है बहुत ही खास
Buddha Prakash
दर्द
दर्द
Rekha Drolia
Second Chance
Second Chance
Pooja Singh
बिहार दिवस  (22 मार्च 2023, 111 वां स्थापना दिवस)
बिहार दिवस  (22 मार्च 2023, 111 वां स्थापना दिवस)
रुपेश कुमार
मेरा भारत
मेरा भारत
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
कुछ लोग अच्छे होते है,
कुछ लोग अच्छे होते है,
Umender kumar
*हम पर अत्याचार क्यों?*
*हम पर अत्याचार क्यों?*
Dushyant Kumar
नारदीं भी हैं
नारदीं भी हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
उम्मीद नहीं थी
उम्मीद नहीं थी
Surinder blackpen
भारतवर्ष स्वराष्ट्र पूर्ण भूमंडल का उजियारा है
भारतवर्ष स्वराष्ट्र पूर्ण भूमंडल का उजियारा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
वो बीते हर लम्हें याद रखना जरुरी नही
वो बीते हर लम्हें याद रखना जरुरी नही
'अशांत' शेखर
कई राज मेरे मन में कैद में है
कई राज मेरे मन में कैद में है
कवि दीपक बवेजा
!! प्रेम बारिश !!
!! प्रेम बारिश !!
The_dk_poetry
इक चितेरा चांद पर से चित्र कितने भर रहा।
इक चितेरा चांद पर से चित्र कितने भर रहा।
umesh mehra
विजयनगरम के महाराजकुमार
विजयनगरम के महाराजकुमार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
इस तरह क्या दिन फिरेंगे....
इस तरह क्या दिन फिरेंगे....
डॉ.सीमा अग्रवाल
अस्तित्व अंधेरों का, जो दिल को इतना भाया है।
अस्तित्व अंधेरों का, जो दिल को इतना भाया है।
Manisha Manjari
#शर्माजीकेशब्द
#शर्माजीकेशब्द
pravin sharma
💐अज्ञात के प्रति-38💐
💐अज्ञात के प्रति-38💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नील पदम् के बाल गीत Neel Padam ke Bal Geet #neelpadam
नील पदम् के बाल गीत Neel Padam ke Bal Geet #neelpadam
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
इश्क पहली दफा
इश्क पहली दफा
साहित्य गौरव
भले ही तुम कड़वे नीम प्रिय
भले ही तुम कड़वे नीम प्रिय
Ram Krishan Rastogi
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
“अकेला”
“अकेला”
DrLakshman Jha Parimal
Loading...