Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Apr 2024 · 2 min read

विधाता छंद (28 मात्रा ) मापनी युक्त मात्रिक

विधाता छंद (28 मात्रा ) मापनी युक्त मात्रिक
लगा गा गा – लगा गा गा -लगा गा गा -लगा गा गा

जमाने में अलग देखे , बने है लोग दीवाने |
कहेगें आइएगा भी , बुलाते पर नहीं खाने |
चले जाते वहाँ पर भी , जहाँ देखें निजी झंडा –
फटे में टाँग देने को , सभी अब गा उठे गाने |

विधाता भी बने कुछ है , कहे हम ‌सूरमा आली |
हमारा ही चमन देखो , जहाँ बजती सदा ताली |
लिखा हमने सही मानो , नहीं नुक्ता करो चीनी –
जुड़े है लोग हमसे , करें जो रोज रखवाली |

बनाया बाग अपना है , नहीं पर फूल खिलते है |
करो बस वाह मेरी ही, सदा यह सीख लिखते है |
सुभाषा सोचता रहता , कभी तो वक्त आएगा –
खिलेगें फूल भी सुंदर , जहाँ पर शूल दिखते है |

सुभाष सिंघई जतारा (टीकमगढ़) म०प्र०
~~~~~~~~~~
गीतिका आधार – विधाता छंद
लगा गा गा – लगा गा गा- लगा गा गा- लगा गा गा
समांत स्वर – आना , पदांत -था जरा आके

तुम्हें हमसे हुई चाहत , बताना था जरा आके |
सुरों से शब्द जो निकले , सुनाना था जरा आके |

मुझे क्यों दूर रखकर ही , लिया था फैसला तुमने ,
दिले हालात का कागज , सजाना था जरा आके |

मुझे भी दूर से देखा , नहीं तुम पास आई हो ,
कभी भी हाथ हौले से , दबाना था जरा आके |

जमाने से रहीं डरतीं , कहेगें लोग क्या हमको ,
हुआ है प्यार हमको भी , जताना था जरा आके |

मिले मौके सदा तुमको , नहीं इजहार कर पाई,
मिलाकर भी कभी नजरें , झुकाना था जरा आके |

करो तुम याद मेरी वह , जहाँ आँखें मिलाई थी ,
तुम्हें भी आँख की पुतली , नचाना था जरा आके |

गईं थी छोड़कर मुझको , तभी से सोचता रहता ,
पकड़कर बाँह मेरी भी , हिलाना था जरा आके |

मिली हो आज फिर से तुम , शिकायत कर रहीं मुझसें,
हमीं से कह रहीं तुमको , मनाना था जरा आके |

चलो स्वीकार करता मैं , “सुभाषा” साथ देगा अब ,
समय की चूक कहती है , लजाना था जरा आके |

सुभाष सिंघई , जतारा (टीकमगढ़ ) म० प्र०
~~~~~~

Language: Hindi
57 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"मुस्कान"
Dr. Kishan tandon kranti
❤️🖤🖤🖤❤
❤️🖤🖤🖤❤
शेखर सिंह
शक
शक
Paras Nath Jha
सत्य साधना -हायकु मुक्तक
सत्य साधना -हायकु मुक्तक
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
किसी अंधेरी कोठरी में बैठा वो एक ब्रम्हराक्षस जो जानता है सब
किसी अंधेरी कोठरी में बैठा वो एक ब्रम्हराक्षस जो जानता है सब
Utkarsh Dubey “Kokil”
कहां नाराजगी से डरते हैं।
कहां नाराजगी से डरते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
मित्र
मित्र
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
सियासत नहीं रही अब शरीफों का काम ।
सियासत नहीं रही अब शरीफों का काम ।
ओनिका सेतिया 'अनु '
*युगों-युगों से देश हमारा, भारत ही कहलाता है (गीत)*
*युगों-युगों से देश हमारा, भारत ही कहलाता है (गीत)*
Ravi Prakash
रम्भा की ‘मी टू’
रम्भा की ‘मी टू’
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सिर्फ यह कमी थी मुझमें
सिर्फ यह कमी थी मुझमें
gurudeenverma198
महादेव का भक्त हूँ
महादेव का भक्त हूँ
लक्ष्मी सिंह
शहीदों लाल सलाम
शहीदों लाल सलाम
नेताम आर सी
ऋतुराज
ऋतुराज
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
* मन में कोई बात न रखना *
* मन में कोई बात न रखना *
surenderpal vaidya
कितना प्यार
कितना प्यार
Swami Ganganiya
अर्थव्यवस्था और देश की हालात
अर्थव्यवस्था और देश की हालात
Mahender Singh
गुज़ारिश है रब से,
गुज़ारिश है रब से,
Sunil Maheshwari
सोच
सोच
Srishty Bansal
काँच और पत्थर
काँच और पत्थर
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
2336.पूर्णिका
2336.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
औरतें ऐसी ही होती हैं
औरतें ऐसी ही होती हैं
Mamta Singh Devaa
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
भीम षोडशी
भीम षोडशी
SHAILESH MOHAN
हम कितने आँसू पीते हैं।
हम कितने आँसू पीते हैं।
Anil Mishra Prahari
कितना आसान होता है किसी रिश्ते को बनाना
कितना आसान होता है किसी रिश्ते को बनाना
पूर्वार्थ
अच्छा बोलने से अगर अच्छा होता,
अच्छा बोलने से अगर अच्छा होता,
Manoj Mahato
गंगा से है प्रेमभाव गर
गंगा से है प्रेमभाव गर
VINOD CHAUHAN
#आत्मीय_मंगलकामनाएं
#आत्मीय_मंगलकामनाएं
*प्रणय प्रभात*
मुस्कुराने लगे है
मुस्कुराने लगे है
Paras Mishra
Loading...