Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Jan 2023 · 1 min read

विधवा

एक हंस का जोड़ा ,
किसने तोड़ा,
प्रेम के बंधन से बंध,
लिया था सात फेरा,
निभाने को साथ,
उम्र के आखिरी पड़ाव तक,
खिलौना बन गया ,
दुर्भाग्य के हाथ,
हो गई विधवा,
अनहोनी घटना ने पीड़ा दिया,
जीवन जीना नीरस पल,
पल थे गहरे ,
भूलते नहीं चेहरे,
किधर गया वो नियम,
सात वचनों का संकल्प,
हुआ न इस धरा पर एक जनम,
आतुर मन ढूंँढ रहा,
लौटा दो मेरा साजन,
कौन समझे निस्तब्ध मन,
दिन में ही ढ़ल गई सूर्य किरण,
कितना है गम ,
एक दीपक बुझ गया,
आ गया अँधेरा तल से ऊपर,
सामाजिक शब्द और कर्तव्य,
खोजने लगे जलता हुआ दीपक,
जो करेगा विधवा का जीवन रोशन,
अब नही है कमजोर ,हताश और अबला,
बंधन मुक्त हुई ,
चुनेगी हंस इस जगत में स्वयम्,
अन्यथा रहेगी हक से स्वतन्त्र।

रचनाकार-
बुद्ध प्रकाश
मौदहा हमीरपुर।

3 Likes · 2 Comments · 252 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Buddha Prakash
View all
You may also like:
आज की सौगात जो बख्शी प्रभु ने है तुझे
आज की सौगात जो बख्शी प्रभु ने है तुझे
Saraswati Bajpai
3435⚘ *पूर्णिका* ⚘
3435⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
बे-असर
बे-असर
Sameer Kaul Sagar
प्रतीक्षा
प्रतीक्षा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
गोवर्धन गिरधारी, प्रभु रक्षा करो हमारी।
गोवर्धन गिरधारी, प्रभु रक्षा करो हमारी।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दहेज की जरूरत नहीं
दहेज की जरूरत नहीं
भरत कुमार सोलंकी
कोई आदत नहीं
कोई आदत नहीं
Dr fauzia Naseem shad
* हिन्दी को ही *
* हिन्दी को ही *
surenderpal vaidya
मैं हर चीज अच्छी बुरी लिख रहा हूॅं।
मैं हर चीज अच्छी बुरी लिख रहा हूॅं।
सत्य कुमार प्रेमी
*कंचन काया की कब दावत होगी*
*कंचन काया की कब दावत होगी*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
दुनिया कितनी निराली इस जग की
दुनिया कितनी निराली इस जग की
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
*खिले जब फूल दो भू पर, मधुर यह प्यार रचते हैं (मुक्तक)*
*खिले जब फूल दो भू पर, मधुर यह प्यार रचते हैं (मुक्तक)*
Ravi Prakash
ਪਰਦੇਸ
ਪਰਦੇਸ
Surinder blackpen
आओ ऐसा एक भारत बनाएं
आओ ऐसा एक भारत बनाएं
नेताम आर सी
It always seems impossible until It's done
It always seems impossible until It's done
Naresh Kumar Jangir
कुण्डल / उड़ियाना छंद
कुण्डल / उड़ियाना छंद
Subhash Singhai
हमारी आजादी हमारा गणतन्त्र : ताल-बेताल / MUSAFIR BAITHA
हमारी आजादी हमारा गणतन्त्र : ताल-बेताल / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
याद आती है
याद आती है
इंजी. संजय श्रीवास्तव
जब तक हो तन में प्राण
जब तक हो तन में प्राण
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Every moment has its own saga
Every moment has its own saga
कुमार
सुहागन की अभिलाषा🙏
सुहागन की अभिलाषा🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
वीरबन्धु सरहस-जोधाई
वीरबन्धु सरहस-जोधाई
Dr. Kishan tandon kranti
अम्न का पाठ वो पढ़ाते हैं
अम्न का पाठ वो पढ़ाते हैं
अरशद रसूल बदायूंनी
ये दिल उन्हें बद्दुआ कैसे दे दें,
ये दिल उन्हें बद्दुआ कैसे दे दें,
Taj Mohammad
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
फुटपाथ
फुटपाथ
Prakash Chandra
तू तो होगी नहीं....!!!
तू तो होगी नहीं....!!!
Kanchan Khanna
मैं मजदूर हूं
मैं मजदूर हूं
हरवंश हृदय
गनर यज्ञ (हास्य-व्यंग्य)
गनर यज्ञ (हास्य-व्यंग्य)
गुमनाम 'बाबा'
Loading...