Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2023 · 2 min read

विचार

एक दिन फेसबुक पर एक चुटकुला किसी ने डाल रखा था कि शर्मा जी लाकडाउन से बोर हो गए तो फेसबुक पर fake I’d बनाकर अपनी पत्नी से ही बात करना शुरू किए और अपनी पत्नी से ये सुनकर वो सदमे में चले गए कि उनके पति को गुजरे तीन साल हो गए।जब मैंने ये अपनी मम्मी को सुनाया तो वो बोलीं ये चुटकुला है?उनके इस प्रश्न को सुनकर मैं भी इस बात पर सोचने पर मजबूर हो गई कि क्या वाकई ये मात्र एक चुटकुला है या हमारे आज का यथार्थ? हम सभी फेसबुक, इंस्टाग्राम और व्हाट्सएप इत्यादि जैसे सोशल साइट्स के माध्यम से बहुत सारे लोगों से जुड़े हैं ,लगभग रोज उनसे बात भी हो ही जाती है लेकिन जो हमारे आसपास ,हमारे सामने मौजूद हैं ,हम उनसे कितना जुड़े हैं?उनके सुख दुःख से हमे कितना फर्क पड़ता है?जिन्हें शायद हम जानते भी नहीं और जो हमसे बहुत दूर हैं उनका हालचाल हम पूछ लेते हैं लेकिन जो हमारे साथ हैं , हम उनके सुख दुख के बारे में कभी जानने की कोशिश भी नहीं करते।
एक जमाना था जब 10 रुपये के रिचार्ज में 7 रुपये मिलते थे लेकिन तब हम सब लोगों के पास अपने रिश्तों को देने के लिए समय था। आज अनलिमिटेड पैक तो सबके फोन में है लेकिन रिश्तों को देने के लिए समय नहीं है। किसी के जन्मदिन पर भी हम उस व्यक्ति से बात करने की जगह उसकी चार फोटो डाल के स्टेटस लगाना ज्यादा उचित समझते हैं। हम और आप जब अपने काम से फुरसत पाते हैं तो हमें अपनों से बात करने की बजाय इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर रील्स देखना ज्यादा रूचिकर प्रतीत होता है। हमारे फेसबुक और इंस्टाग्राम पर तो अनगिनत दोस्त मित्र हैं लेकिन जरा समय निकाल कर इस बात पर विचार करिएगा कि वास्तव में आपकी जिंदगी में कितने दोस्त हैं और आप कितनों के दोस्त हैं?

Language: Hindi
Tag: लेख
13 Likes · 5 Comments · 260 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
युवा दिवस विवेकानंद जयंती
युवा दिवस विवेकानंद जयंती
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
*युगों-युगों से देश हमारा, भारत ही कहलाता है (गीत)*
*युगों-युगों से देश हमारा, भारत ही कहलाता है (गीत)*
Ravi Prakash
दाता
दाता
Sanjay ' शून्य'
नता गोता
नता गोता
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
खुदीराम बोस की शहादत का अपमान
खुदीराम बोस की शहादत का अपमान
कवि रमेशराज
जम़ी पर कुछ फुहारें अब अमन की चाहिए।
जम़ी पर कुछ फुहारें अब अमन की चाहिए।
सत्य कुमार प्रेमी
अधूरा घर
अधूरा घर
Kanchan Khanna
मैं तुलसी तेरे आँगन की
मैं तुलसी तेरे आँगन की
Shashi kala vyas
ग़ज़ल/नज़्म - उसके सारे जज़्बात मद्देनजर रखे
ग़ज़ल/नज़्म - उसके सारे जज़्बात मद्देनजर रखे
अनिल कुमार
हार जाते हैं
हार जाते हैं
Dr fauzia Naseem shad
" क़ैदी विचाराधीन हूँ "
Chunnu Lal Gupta
मन के भाव हमारे यदि ये...
मन के भाव हमारे यदि ये...
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
मुझको कुर्सी तक पहुंचा दे
मुझको कुर्सी तक पहुंचा दे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मन की बुलंद
मन की बुलंद
Anamika Tiwari 'annpurna '
नमन!
नमन!
Shriyansh Gupta
अब तुझे रोने न दूँगा।
अब तुझे रोने न दूँगा।
Anil Mishra Prahari
विषय :- रक्त रंजित मानवीयता रस-वीभत्स रस विधा-मधुमालती छंद आधारित गीत मापनी-2212 , 2212
विषय :- रक्त रंजित मानवीयता रस-वीभत्स रस विधा-मधुमालती छंद आधारित गीत मापनी-2212 , 2212
Neelam Sharma
सूने सूने से लगते हैं
सूने सूने से लगते हैं
इंजी. संजय श्रीवास्तव
* सहारा चाहिए *
* सहारा चाहिए *
surenderpal vaidya
"हँसी"
Dr. Kishan tandon kranti
चूड़ियाँ
चूड़ियाँ
लक्ष्मी सिंह
तुम्हारी कहानी
तुम्हारी कहानी
PRATIK JANGID
इश्क पहली दफा
इश्क पहली दफा
साहित्य गौरव
2430.पूर्णिका
2430.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
संन्यास के दो पक्ष हैं
संन्यास के दो पक्ष हैं
हिमांशु Kulshrestha
तस्वीर तुम्हारी देखी तो
तस्वीर तुम्हारी देखी तो
VINOD CHAUHAN
मुक्तक
मुक्तक
Neelofar Khan
किसी ग़रीब को
किसी ग़रीब को
*प्रणय प्रभात*
ख्वाहिशों की ना तमन्ना कर
ख्वाहिशों की ना तमन्ना कर
Harminder Kaur
_सुविचार_
_सुविचार_
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
Loading...