Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jul 2023 · 1 min read

विचार , हिंदी शायरी

अपने विचारों से खुशबू का समंदर कर रोशन
खुशबू सी रोशन हो जायेगी जिन्दगी तेरी |

भर दे खुशियाँ उनके दामन में , तरस रहे हैं जो दो पल जिन्दगी के लिए
खुशियों का समंदर हो जायेगी जिन्दगी तेरी ||

1 Like · 133 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
View all
You may also like:
पंचवर्षीय योजनाएँ
पंचवर्षीय योजनाएँ
Dr. Kishan tandon kranti
हों कामयाबियों के किस्से कहाँ फिर...
हों कामयाबियों के किस्से कहाँ फिर...
सिद्धार्थ गोरखपुरी
अजीब सी चुभन है दिल में
अजीब सी चुभन है दिल में
हिमांशु Kulshrestha
*
*"हिंदी"*
Shashi kala vyas
*जब कभी दिल की ज़मीं पे*
*जब कभी दिल की ज़मीं पे*
Poonam Matia
मैं........ लिखता हूँ..!!
मैं........ लिखता हूँ..!!
Ravi Betulwala
5 हाइकु
5 हाइकु
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सांसे केवल आपके जीवित होने की सूचक है जबकि तुम्हारे स्वर्णिम
सांसे केवल आपके जीवित होने की सूचक है जबकि तुम्हारे स्वर्णिम
Rj Anand Prajapati
रोम रोम है पुलकित मन
रोम रोम है पुलकित मन
sudhir kumar
*जग से जाने वालों का धन, धरा यहीं रह जाता है (हिंदी गजल)*
*जग से जाने वालों का धन, धरा यहीं रह जाता है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
बिखरे सपनों की ताबूत पर, दो कील तुम्हारे और सही।
बिखरे सपनों की ताबूत पर, दो कील तुम्हारे और सही।
Manisha Manjari
10) “वसीयत”
10) “वसीयत”
Sapna Arora
हिन्दी दोहे- चांदी
हिन्दी दोहे- चांदी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
हिन्दी के हित प्यार
हिन्दी के हित प्यार
surenderpal vaidya
बहन की रक्षा करना हमारा कर्तव्य ही नहीं बल्कि धर्म भी है, पर
बहन की रक्षा करना हमारा कर्तव्य ही नहीं बल्कि धर्म भी है, पर
जय लगन कुमार हैप्पी
आदर्श शिक्षक
आदर्श शिक्षक
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
भूलकर चांद को
भूलकर चांद को
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बिल्ले राम
बिल्ले राम
Kanchan Khanna
........,!
........,!
शेखर सिंह
कहमुकरी
कहमुकरी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
फुर्सत से आईने में जब तेरा दीदार किया।
फुर्सत से आईने में जब तेरा दीदार किया।
Phool gufran
#है_व्यथित_मन_जानने_को.........!!
#है_व्यथित_मन_जानने_को.........!!
संजीव शुक्ल 'सचिन'
रज चरण की ही बहुत है राजयोगी मत बनाओ।
रज चरण की ही बहुत है राजयोगी मत बनाओ।
*प्रणय प्रभात*
आँसू छलके आँख से,
आँसू छलके आँख से,
sushil sarna
2717.*पूर्णिका*
2717.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पत्नी के जन्मदिन पर....
पत्नी के जन्मदिन पर....
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
नदी की करुण पुकार
नदी की करुण पुकार
Anil Kumar Mishra
जब आओगे तुम मिलने
जब आओगे तुम मिलने
Shweta Soni
सच तो बस
सच तो बस
Neeraj Agarwal
गुरु से बडा न कोय🌿🙏🙏
गुरु से बडा न कोय🌿🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Loading...