Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Oct 2022 · 1 min read

विचारधारा

समाज और सरकारें जिन्हें सम्मान देती हैं, उन्हें आजीवन यह समझ में नहीं आता कि उन्हें सिवाय गुलामी के और कुछ नहीं देतीं। और जो कुछ भी दिया हुआ जैसे दिखता है, मरने के बाद वह सब छोडकर ही जाना पड़ता है।

कभी पिंजरे में कैद पंछी को देखा है ? कितना लाढ़-दुलार मिलता है ना उसे

जो जागृत हो जाएगा, वह मान-सम्मान से प्रभावित नहीं होगा। कोई उसे मान-सम्मान देकर अपना गुलाम नहीं बना पाएगा। जागृत व्यक्ति से जुड़ना है, तो उसे उसकी अपनी मौलिकता में ही स्वीकारना होगा। अन्यथा उससे दूर ही रहें।

~ विशुद्ध चैतन्य

नोट: सांप्रदायिकता, पार्टीवाद, जातिवाद, वामपंथ, दक्षिणपंथ और गुलाम मानसिकता से मुक्त लोगों को ही यह लेख समझ में आएगा। बाकी लोग अपने दिमाग का दही न करें।

Language: Hindi
Tag: लेख
3 Likes · 1 Comment · 196 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कैसे भूल जाएं...
कैसे भूल जाएं...
Er. Sanjay Shrivastava
!! मन रखिये !!
!! मन रखिये !!
Chunnu Lal Gupta
अच्छे दिन
अच्छे दिन
Shekhar Chandra Mitra
आप किसी का कर्ज चुका सकते है,
आप किसी का कर्ज चुका सकते है,
Aarti sirsat
फितरत को पहचान कर भी
फितरत को पहचान कर भी
Seema gupta,Alwar
ईश्वर से यही अरज
ईश्वर से यही अरज
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
समीक्षा ,कर्त्तव्य-बोध (कहानी संग्रह)
समीक्षा ,कर्त्तव्य-बोध (कहानी संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
राणा सा इस देश में, हुआ न कोई वीर
राणा सा इस देश में, हुआ न कोई वीर
Dr Archana Gupta
जय माता दी 🙏
जय माता दी 🙏
Anil Mishra Prahari
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
जाने वाले बस कदमों के निशाँ छोड़ जाते हैं
जाने वाले बस कदमों के निशाँ छोड़ जाते हैं
VINOD CHAUHAN
कह दें तारों से तू भी अपने दिल की बात,
कह दें तारों से तू भी अपने दिल की बात,
manjula chauhan
भरते थे घर में कभी, गेहूँ चावल दाल ( कुंडलिया )
भरते थे घर में कभी, गेहूँ चावल दाल ( कुंडलिया )
Ravi Prakash
स्मृतियाँ  है प्रकाशित हमारे निलय में,
स्मृतियाँ है प्रकाशित हमारे निलय में,
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
बचपन और पचपन
बचपन और पचपन
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
तपाक से लगने वाले गले , अब तो हाथ भी ख़ौफ़ से मिलाते हैं
तपाक से लगने वाले गले , अब तो हाथ भी ख़ौफ़ से मिलाते हैं
Atul "Krishn"
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
!! नववर्ष नैवेद्यम !!
!! नववर्ष नैवेद्यम !!
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
कल?
कल?
Neeraj Agarwal
यूं ही नहीं होते हैं ये ख्वाब पूरे,
यूं ही नहीं होते हैं ये ख्वाब पूरे,
Shubham Pandey (S P)
💐 Prodigy Love-19💐
💐 Prodigy Love-19💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
🧟☠️अमावस की रात ☠️🧟
🧟☠️अमावस की रात ☠️🧟
SPK Sachin Lodhi
अपना भी नहीं बनाया उसने और
अपना भी नहीं बनाया उसने और
कवि दीपक बवेजा
यादों के बादल
यादों के बादल
singh kunwar sarvendra vikram
Be careful having relationships with people with no emotiona
Be careful having relationships with people with no emotiona
पूर्वार्थ
संत गाडगे संदेश 5
संत गाडगे संदेश 5
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
डिजिटल भारत
डिजिटल भारत
Satish Srijan
"बात सौ टके की"
Dr. Kishan tandon kranti
हाँ, कल तक तू मेरा सपना थी
हाँ, कल तक तू मेरा सपना थी
gurudeenverma198
टैगोर
टैगोर
Aman Kumar Holy
Loading...