Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jun 2023 · 1 min read

वाह भाई वाह

(शेर)- खूब बजी है ताली मुझ पर, आज इस महफ़िल में।
जब सुनाया मैंने कोई गीत, हिन्दी में इस महफ़िल में।।
क्यों करुँ मैं शर्म फिर, अपनी बात हिन्दी में कहने में।
एक रोशनी और बहार है, यह हिन्दी मेरी मंजिल में।।
——————————————————–
नाम कमाया हिन्दी से, और प्यार है अंग्रेजी से।
भूल गए हम उसको, सीखे बोलना हमने जिससे।।
वाह भाई वाह,——————–(4)
नाम कमाया हिन्दी से——————–।।

नहीं हिन्दी करो हिन्दी की, पढ़ – लिखकर तुम ऐसे।
नहीं देती प्यार तुम्हें हिन्दी, तुम नाम कमाते तब कैसे।।
भरते हो पेट तुम हिन्दी से, लगते हो गले अंग्रेजी से।
वाह भाई वाह,———————(4)
नाम कमाया हिन्दी से——————–।।

हिन्दी से ही पहचान है, संसार में हिन्दुस्तान की।
यह हिन्दी ही हकदार है, अपनी शान- सम्मान की।
फिर भी आती है हमको शर्म,हिन्दी में बात करने से।
वाह भाई वाह , ————————-(4)
नाम कमाया हिन्दी से——————–।।

यह प्यार, दोस्ती, संस्कार, हिन्दी ने हमको सिखाया है।
किसी मंच और महफ़िल में, हिन्दी ने मान दिलाया है।।
हिन्दी की तारीफ में ताली, कतराते हम हैं बजाने से।
वाह भाई वाह,———————(4)
नाम कमाया हिन्दी से——————-।।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
305 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ठहर गया
ठहर गया
sushil sarna
2819. *पूर्णिका*
2819. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हम तो अपनी बात कहेंगें
हम तो अपनी बात कहेंगें
अनिल कुमार निश्छल
हवाओं पर कोई कहानी लिखूं,
हवाओं पर कोई कहानी लिखूं,
AJAY AMITABH SUMAN
हर-दिन ,हर-लम्हा,नयी मुस्कान चाहिए।
हर-दिन ,हर-लम्हा,नयी मुस्कान चाहिए।
डॉक्टर रागिनी
-- मंदिर में ड्रेस कोड़ --
-- मंदिर में ड्रेस कोड़ --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
* आस्था *
* आस्था *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
■ आज की ग़ज़ल
■ आज की ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
भारतवर्ष स्वराष्ट्र पूर्ण भूमंडल का उजियारा है
भारतवर्ष स्वराष्ट्र पूर्ण भूमंडल का उजियारा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
समझ
समझ
Dinesh Kumar Gangwar
दलित समुदाय।
दलित समुदाय।
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
मेरी आँख में झाँककर देखिये तो जरा,
मेरी आँख में झाँककर देखिये तो जरा,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
.....★.....
.....★.....
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
"गॉंव का समाजशास्त्र"
Dr. Kishan tandon kranti
*वोटर के बड़-भाग (हास्य कुंडलिया)*
*वोटर के बड़-भाग (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
रंग भी रंगीन होते है तुम्हे छूकर
रंग भी रंगीन होते है तुम्हे छूकर
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
न पाने का गम अक्सर होता है
न पाने का गम अक्सर होता है
Kushal Patel
'विडम्बना'
'विडम्बना'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
जिनसे ये जीवन मिला, कहे उन्हीं को भार।
जिनसे ये जीवन मिला, कहे उन्हीं को भार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
Canine Friends
Canine Friends
Dhriti Mishra
..........लहजा........
..........लहजा........
Naushaba Suriya
लोकसभा बसंती चोला,
लोकसभा बसंती चोला,
SPK Sachin Lodhi
होलिका दहन
होलिका दहन
Buddha Prakash
उत्थान राष्ट्र का
उत्थान राष्ट्र का
Er. Sanjay Shrivastava
नींद
नींद
Kanchan Khanna
जिंदगी और रेलगाड़ी
जिंदगी और रेलगाड़ी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*श्रमिक मजदूर*
*श्रमिक मजदूर*
Shashi kala vyas
जो लोग धन को ही जीवन का उद्देश्य समझ बैठे है उनके जीवन का भो
जो लोग धन को ही जीवन का उद्देश्य समझ बैठे है उनके जीवन का भो
Rj Anand Prajapati
Loading...