Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 May 2023 · 2 min read

वार्तालाप

समय ने नियति से कहा , तू सब कुछ करती है,
लोग नाहक मुझे दोष देते हैं ,
नियति बोली , मैं कुछ भी अपनी मर्जी से नही करती,
सृष्टि रचयिता मुझे ये सब करने को कहते हैं ,
मैं तो उनके आदेश का पालन करती हूं ,
अपनी ओर से उसमें कुछ ना जोड़ती हूं ,
समय ने कहा, मेरा काम है निर्बाध गति से चलना,
पर तू मेरी राह में बाधा उत्पन्न ना करना ,
नियति ने कहा , मुझे तो रचयिता के आदेश पर पृथ्वी में जीवन के अस्तित्व का है संतुलन करना ,
मानवरूपी प्राणी जो है , अपने दंभ में
अन्य प्राणियों का अस्तित्व भूल चुका है ,
अपने द्वारा बनाई विनाश लीला में
खुद ही उलझ चुका है ,
उसने विनाश के लिए एटम बम, रासायनिक बम,
और अब जैविक विषाणु बनाकर
अपने ही विनाश का कारक बनाया ,
यहां तक कि अपने ही प्रतिरूप की रचना कर
मानव रूपी क्लोन बनाया ,
उसने पृथ्वी में जैविक उत्पत्ति के
प्राकृतिक नियम का उल्लंघन कर रचयिता को रुष्टकर अपने ही विनाश को बुलाया ,
प्राकृतिक संपदाओं का निरंतर निष्ठुर दोहन कर
उन्हें अस्तित्व विहीन बनाया ,
पृथ्वी में अन्य जीवो का नाश कर उनके
अस्तित्व पर प्रश्न चिन्ह लगाया ,
उसने अपरिमित आकांक्षाओं से पृथ्वी ही नहीं
अन्य ग्रहों में अपना अस्तित्व जमाने का
दुस्साहस जताया ,
सृष्टि रचयिता को रुष्ट कर मानव ने स्वयं ही
अपने कर्मों से काल को बुलाया ,
नियति बोली इसमें मेरा कोई हाथ नहीं ,
मैं तो अकिंचन आदेशपालक काल के साथ नहीं ,
समय ! तुम्हारी अनवरत बढ़ते रहने की
प्रकृति सतत् ,
मैं नियती ! अपने आदेश निर्वाह में संलग्न
निष्ठावान सतत् ,
हम क्यों व्यर्थ आपस में वाद-विवाद करें ?
जिसके जैसे कर्म है वैसा वो भुगतेगा,
हम क्यों चिंता करें ?

137 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
ऐ वतन
ऐ वतन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जो समय सम्मुख हमारे आज है।
जो समय सम्मुख हमारे आज है।
surenderpal vaidya
राम-राज्य
राम-राज्य
Bodhisatva kastooriya
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
'शत्रुता' स्वतः खत्म होने की फितरत रखती है अगर उसे पाला ना ज
'शत्रुता' स्वतः खत्म होने की फितरत रखती है अगर उसे पाला ना ज
satish rathore
मुक्तक
मुक्तक
प्रीतम श्रावस्तवी
कोई किसी का कहां हुआ है
कोई किसी का कहां हुआ है
Dr fauzia Naseem shad
*अभी तो रास्ता शुरू हुआ है.*
*अभी तो रास्ता शुरू हुआ है.*
Naushaba Suriya
*भारत माता को किया, किसने लहूलुहान (कुंडलिया)*
*भारत माता को किया, किसने लहूलुहान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
तेरी याद आती है
तेरी याद आती है
Akash Yadav
रिश्ते की नियत
रिश्ते की नियत
पूर्वार्थ
हिन्दी दोहा बिषय -हिंदी
हिन्दी दोहा बिषय -हिंदी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
💐कुड़ी तें लग री शाइनिंग💐
💐कुड़ी तें लग री शाइनिंग💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
(23) कुछ नीति वचन
(23) कुछ नीति वचन
Kishore Nigam
चुनाव फिर आने वाला है।
चुनाव फिर आने वाला है।
नेताम आर सी
पुनर्जागरण काल
पुनर्जागरण काल
Dr.Pratibha Prakash
"तू रंगरेज बड़ा मनमानी"
Dr. Kishan tandon kranti
बेशर्मी से ... (क्षणिका )
बेशर्मी से ... (क्षणिका )
sushil sarna
मरने वालों का तो करते है सब ही खयाल
मरने वालों का तो करते है सब ही खयाल
shabina. Naaz
अंतरद्वंद
अंतरद्वंद
Happy sunshine Soni
वस्रों से सुशोभित करते तन को, पर चरित्र की शोभा रास ना आये।
वस्रों से सुशोभित करते तन को, पर चरित्र की शोभा रास ना आये।
Manisha Manjari
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
Apne man ki bhawnao ko , shabdo ke madhyam se , kalpanikta k
Apne man ki bhawnao ko , shabdo ke madhyam se , kalpanikta k
Sakshi Tripathi
🙏माॅं सिद्धिदात्री🙏
🙏माॅं सिद्धिदात्री🙏
पंकज कुमार कर्ण
आज रात कोजागरी....
आज रात कोजागरी....
डॉ.सीमा अग्रवाल
लड़कियां शिक्षा के मामले में लडको से आगे निकल रही है क्योंकि
लड़कियां शिक्षा के मामले में लडको से आगे निकल रही है क्योंकि
Rj Anand Prajapati
लहजा बदल गया
लहजा बदल गया
Dalveer Singh
प्रकृति भी तो शांत मुस्कुराती रहती है
प्रकृति भी तो शांत मुस्कुराती रहती है
ruby kumari
23/116.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/116.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मेरी आँख में झाँककर देखिये तो जरा,
मेरी आँख में झाँककर देखिये तो जरा,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Loading...