Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Dec 2023 · 1 min read

वाचाल सरपत

हे गुण ज्ञानी नहि अभिमानी
मै छा जाता बनती ढानी ।

जब मैं खेतों का प्रहरी बन जाता
चलती घर की दाना पानी ।

हमारी सेठा की कलमों से
लिखते – पढ़ते बनें “कलाम” ।

तृणकुटी बनाकर परशुराम की
वीर कर्ण सम नहि कोइ दानी।

हमारी पात में तीखी धार
काटे जिह्वा मरे फेटार ।

हमारे सूपों की फटकार
बनता चावल गेहूं ज्वार ।

जब मैं बन जाता हूं मंण्डप
होती शादी बढ़ता प्यार ।

रंगते मूंजा बनता भांडा
मौनी सिकहुला तौला धार ।

पूरी करता सौंच जरूरत
हमरी ओट में मिले निदान ।

जब हमरी मूंज से सजती अर्थी
सब मर जाता है अभिमान ।

फिर हमारी जरूरत होगी तुमको।
जब होगा नष्ट यहां विज्ञान ।।

-आनन्द मिश्र

Language: Hindi
3 Likes · 1 Comment · 152 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
🌸दे मुझे शक्ति🌸
🌸दे मुझे शक्ति🌸
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
अगन में तपा करके कुंदन बनाया,
अगन में तपा करके कुंदन बनाया,
Satish Srijan
"उपकार"
Dr. Kishan tandon kranti
"सूर्य -- जो अस्त ही नहीं होता उसका उदय कैसे संभव है" ! .
Atul "Krishn"
-- फ़ितरत --
-- फ़ितरत --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
वक्त और रिश्ते
वक्त और रिश्ते
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
कविताश्री
कविताश्री
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
धनतेरस के अवसर पर ,
धनतेरस के अवसर पर ,
Yogendra Chaturwedi
*पतंग (बाल कविता)*
*पतंग (बाल कविता)*
Ravi Prakash
हिंदी मेरी राष्ट्र की भाषा जग में सबसे न्यारी है
हिंदी मेरी राष्ट्र की भाषा जग में सबसे न्यारी है
SHAMA PARVEEN
चंदा का अर्थशास्त्र
चंदा का अर्थशास्त्र
Dr. Pradeep Kumar Sharma
■ आज का दोहा...
■ आज का दोहा...
*Author प्रणय प्रभात*
आखिर मैंने भी कवि बनने की ठानी MUSAFIR BAITHA
आखिर मैंने भी कवि बनने की ठानी MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
"जून की शीतलता"
Dr Meenu Poonia
रामराज्य
रामराज्य
कार्तिक नितिन शर्मा
जीवन है बस आँखों की पूँजी
जीवन है बस आँखों की पूँजी
Suryakant Dwivedi
तुम्हें रूठना आता है मैं मनाना सीख लूँगा,
तुम्हें रूठना आता है मैं मनाना सीख लूँगा,
pravin sharma
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
प्रणय 3
प्रणय 3
Ankita Patel
चलिये उस जहाँ में चलते हैं
चलिये उस जहाँ में चलते हैं
हिमांशु Kulshrestha
भटक रहे अज्ञान में,
भटक रहे अज्ञान में,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दो घूंट
दो घूंट
संजय कुमार संजू
जब साथ तुम्हारे रहता हूँ
जब साथ तुम्हारे रहता हूँ
Ashok deep
वैज्ञानिक चेतना की तलाश
वैज्ञानिक चेतना की तलाश
Shekhar Chandra Mitra
तेरा बना दिया है मुझे
तेरा बना दिया है मुझे
gurudeenverma198
किसा गौतमी बुद्ध अर्हन्त्
किसा गौतमी बुद्ध अर्हन्त्
Buddha Prakash
वक्त नहीं है
वक्त नहीं है
VINOD CHAUHAN
3106.*पूर्णिका*
3106.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
वक्रतुंडा शुचि शुंदा सुहावना,
वक्रतुंडा शुचि शुंदा सुहावना,
Neelam Sharma
Loading...