Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2022 · 1 min read

वाक़िफ नहीं है

वाक़िफ नहीं है कोई हालात -ए-वक़्त से ।
किस मोड़ पर कहां रूला दे ये ज़िन्दगी ।।
डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
8 Likes · 212 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
हरदा अग्नि कांड
हरदा अग्नि कांड
GOVIND UIKEY
माँ नहीं मेरी
माँ नहीं मेरी
Dr fauzia Naseem shad
सिनेमा,मोबाइल और फैशन और बोल्ड हॉट तस्वीरों के प्रभाव से आज
सिनेमा,मोबाइल और फैशन और बोल्ड हॉट तस्वीरों के प्रभाव से आज
Rj Anand Prajapati
ना मुझे मुक़द्दर पर था भरोसा, ना ही तक़दीर पे विश्वास।
ना मुझे मुक़द्दर पर था भरोसा, ना ही तक़दीर पे विश्वास।
कविता झा ‘गीत’
अवधी लोकगीत
अवधी लोकगीत
प्रीतम श्रावस्तवी
This Love That Feels Right!
This Love That Feels Right!
Sridevi Sridhar
सच
सच
Neeraj Agarwal
तुम्हारे प्रश्नों के कई
तुम्हारे प्रश्नों के कई
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
Insaan badal jata hai
Insaan badal jata hai
Aisha Mohan
जिंदगी में अगर आपको सुकून चाहिए तो दुसरो की बातों को कभी दिल
जिंदगी में अगर आपको सुकून चाहिए तो दुसरो की बातों को कभी दिल
Ranjeet kumar patre
रमेशराज के नवगीत
रमेशराज के नवगीत
कवि रमेशराज
न कहर ना जहर ना शहर ना ठहर
न कहर ना जहर ना शहर ना ठहर
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
सरहद
सरहद
लक्ष्मी सिंह
****तन्हाई मार गई****
****तन्हाई मार गई****
Kavita Chouhan
" अधरों पर मधु बोल "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
एक ही धरोहर के रूप - संविधान
एक ही धरोहर के रूप - संविधान
Desert fellow Rakesh
हमें उससे नहीं कोई गिला भी
हमें उससे नहीं कोई गिला भी
Irshad Aatif
नशा और युवा
नशा और युवा
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
*हर पल मौत का डर सताने लगा है*
*हर पल मौत का डर सताने लगा है*
Harminder Kaur
*झील-झरने सब पर्वत 【कुंडलिया】*
*झील-झरने सब पर्वत 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
संगीत विहीन
संगीत विहीन
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
मैं बहुतों की उम्मीद हूँ
मैं बहुतों की उम्मीद हूँ
ruby kumari
"इतिहास"
Dr. Kishan tandon kranti
तलाशता हूँ उस
तलाशता हूँ उस "प्रणय यात्रा" के निशाँ
Atul "Krishn"
ये दूरियां सिर्फ मैंने कहाँ बनायी थी //
ये दूरियां सिर्फ मैंने कहाँ बनायी थी //
गुप्तरत्न
तिरंगा
तिरंगा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जिंदगी तेरे कितने रंग, मैं समझ न पाया
जिंदगी तेरे कितने रंग, मैं समझ न पाया
पूर्वार्थ
कुंडलिया
कुंडलिया
sushil sarna
2746. *पूर्णिका*
2746. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चित्रकार
चित्रकार
Ritu Asooja
Loading...