Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Oct 2016 · 1 min read

वह स्वयं में व्याप्त है ::: जितेन्द्र कमल आनंद ( पोस्ट९५)

वह स्वयं में व्याप्त है ( मुक्त छंद कविता )
————————————–
प्रिय आत्मन !
घड़ा तो एक दिन फूटना ही है
जल का पूरक , कुम्भक , रेचक,
सभी पीछे छूटना ही है ,
जब उसके सभी अवयव
अपने घटको में मिल जायेंगे तो क्यों न
इसके पूर्व ही तृष्णा के तमस से –
वासना के बन्धन से / कामना के क्रंदन से
कल्पना की अल्पना से
अपने को मुक्त कर लें
बाहर की गवेषणा अन्तर्मन में कर लें
क्योंकि —
जिससे मिलने की आतुरता है
वह पानी में बतासे की भॉति
घुला – मिला वर्तमान है ,
स्वयं में व्याप्त है ।
——– जितेंद्र| कमलआनंद

Language: Hindi
293 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
'स्वागत प्रिये..!'
'स्वागत प्रिये..!'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
*कलम (बाल कविता)*
*कलम (बाल कविता)*
Ravi Prakash
अर्थव्यवस्था और देश की हालात
अर्थव्यवस्था और देश की हालात
Mahender Singh Manu
#तेवरी / #त्यौहार_गए
#तेवरी / #त्यौहार_गए
*Author प्रणय प्रभात*
ऐसे लहज़े में जब लिखते हो प्रीत को,
ऐसे लहज़े में जब लिखते हो प्रीत को,
Amit Pathak
साहस
साहस
Shyam Sundar Subramanian
2489.पूर्णिका
2489.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
- अपनो का स्वार्थीपन -
- अपनो का स्वार्थीपन -
bharat gehlot
स्पर्श
स्पर्श
Ajay Mishra
वनवासी
वनवासी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
रविवार को छुट्टी भाई (समय सारिणी)
रविवार को छुट्टी भाई (समय सारिणी)
Jatashankar Prajapati
हिन्दू जागरण गीत
हिन्दू जागरण गीत
मनोज कर्ण
चंद्रयान-3
चंद्रयान-3
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
शिवा कहे,
शिवा कहे, "शिव" की वाणी, जन, दुनिया थर्राए।
SPK Sachin Lodhi
"तुम्हारे शिकवों का अंत चाहता हूँ
दुष्यन्त 'बाबा'
मुझको अपनी शरण में ले लो हे मनमोहन हे गिरधारी
मुझको अपनी शरण में ले लो हे मनमोहन हे गिरधारी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सागर सुखा है अपनी मर्जी से..
सागर सुखा है अपनी मर्जी से..
कवि दीपक बवेजा
श्रृंगार
श्रृंगार
Neelam Sharma
बादल
बादल
Shankar suman
✍️खाली और भरी जेबे...
✍️खाली और भरी जेबे...
'अशांत' शेखर
तिरंगा
तिरंगा
Dr Archana Gupta
बिना रुके रहो, चलते रहो,
बिना रुके रहो, चलते रहो,
Kanchan sarda Malu
(3) कृष्णवर्णा यामिनी पर छा रही है श्वेत चादर !
(3) कृष्णवर्णा यामिनी पर छा रही है श्वेत चादर !
Kishore Nigam
अधरों पर शतदल खिले, रुख़ पर खिले गुलाब।
अधरों पर शतदल खिले, रुख़ पर खिले गुलाब।
डॉ.सीमा अग्रवाल
खूबसूरत, वो अहसास है,
खूबसूरत, वो अहसास है,
Dhriti Mishra
అదే శ్రీ రామ ధ్యానము...
అదే శ్రీ రామ ధ్యానము...
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
सड़क
सड़क
SHAMA PARVEEN
*उदघोष*
*उदघोष*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
* निशाने आपके *
* निशाने आपके *
surenderpal vaidya
बाबा साहब की अंतरात्मा
बाबा साहब की अंतरात्मा
जय लगन कुमार हैप्पी
Loading...