Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jul 2016 · 1 min read

वह राम है – रहमान है

हम उसे कुछ भी कहें, वह राम है- रहमान है .
कह लो तो सावन भी है, कह लो तो रमज़ान है .
इन घरों को देखकर, बस्ती नहीं समझें जनाब.
जो यहाँ रहता है वह बस शक्ल से इंसान है .
मत उसे जाहिल समझिये , जिसके मत से आप हैं .
वह भले भोला है साहिब, पर नहीं नादान है .
मन भले दूषित हो पर, तन पे धवल परिधान है .
आज के इस दौर में तो , एक यही पहचान है .
हर आवाजें बीच में ही घोंट दी जाती यहाँ .
अब तो सारे मूल्य – किस्से, नज़्म और दास्तान है .

— सतीश मापतपुरी

6 Comments · 152 Views
You may also like:
हादसा
श्याम सिंह बिष्ट
"हम्प्टी शर्मा की दुल्हनिया" के "अंगद" यानि सिद्धार्थ नहीं रहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
RV Singh
Mohd Talib
ज़िंदगी याद का
Dr fauzia Naseem shad
गणतंत्र दिवस
Aditya Prakash
आज़ादी का परचम
Rekha Drolia
षडयंत्रों की कमी नहीं है
सूर्यकांत द्विवेदी
मेरे माता-पिता
Shyam Sundar Subramanian
विश्वास और शक
Dr Meenu Poonia
आदि शक्ति
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
या अल्लाह या मेरे परवरदिगार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आँखें भी बोलती हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
वफा और बेवफा
Anamika Singh
" फेसबुक वायरस "
DrLakshman Jha Parimal
तेरी दहलीज पर झुकता हुआ सर लगता है
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
✍️आईने लापता मिले✍️
'अशांत' शेखर
मेरी माँ
shabina. Naaz
चश्मे-तर जिन्दगी
Dr. Sunita Singh
ज़िन्दगी
Rj Anand Prajapati
हवा
पीयूष धामी
తెలుగు
विजय कुमार 'विजय'
घर
Saraswati Bajpai
सांप्रदायिक राजनीति
Shekhar Chandra Mitra
God has destined me with a unique goal
Manisha Manjari
आईने के पास जाना है
Vinit kumar
चौंक पड़ती हैं सदियाॅं..
Rashmi Sanjay
सफलता कदम चूमेगी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गर बुरा लगता हूं।
Taj Mohammad
आजकल मैं
gurudeenverma198
*शाकाहार (6 दोहे)*
Ravi Prakash
Loading...