Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Apr 2024 · 1 min read

वही हसरतें वही रंजिशे ना ही दर्द_ए_दिल में कोई कमी हुई

वही हसरतें वही रंजिशे ना ही दर्द_ए_दिल में कोई कमी हुई
अजीब सी है तेरी मोहब्बत ना मिल सकी ना खत्म हुई

50 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ढूंढा तुम्हे दरबदर, मांगा मंदिर मस्जिद मजार में
ढूंढा तुम्हे दरबदर, मांगा मंदिर मस्जिद मजार में
Kumar lalit
कांग्रेस की आत्महत्या
कांग्रेस की आत्महत्या
Sanjay ' शून्य'
जीवन का मकसद क्या है?
जीवन का मकसद क्या है?
Buddha Prakash
"लोग क्या कहेंगे" सोच कर हताश मत होइए,
Radhakishan R. Mundhra
आओ सर्दी की बाहों में खो जाएं
आओ सर्दी की बाहों में खो जाएं
नूरफातिमा खातून नूरी
के उसे चांद उगाने की ख़्वाहिश थी जमीं पर,
के उसे चांद उगाने की ख़्वाहिश थी जमीं पर,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
छलावा
छलावा
Sushmita Singh
वाह भाई वाह
वाह भाई वाह
Dr Mukesh 'Aseemit'
मैं नारी हूँ
मैं नारी हूँ
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
राजा जनक के समाजवाद।
राजा जनक के समाजवाद।
Acharya Rama Nand Mandal
*गणतंत्र (कुंडलिया)*
*गणतंत्र (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
बात बात में लड़ने लगे हैं _खून गर्म क्यों इतना है ।
बात बात में लड़ने लगे हैं _खून गर्म क्यों इतना है ।
Rajesh vyas
व्यथा पेड़ की
व्यथा पेड़ की
विजय कुमार अग्रवाल
#शेर-
#शेर-
*प्रणय प्रभात*
साधु की दो बातें
साधु की दो बातें
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ता थैया थैया थैया थैया,
ता थैया थैया थैया थैया,
Satish Srijan
2960.*पूर्णिका*
2960.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जीवन साथी,,,दो शब्द ही तो है,,अगर सही इंसान से जुड़ जाए तो ज
जीवन साथी,,,दो शब्द ही तो है,,अगर सही इंसान से जुड़ जाए तो ज
Shweta Soni
कामना के प्रिज़्म
कामना के प्रिज़्म
Davina Amar Thakral
"अंकों की भाषा"
Dr. Kishan tandon kranti
आप क्या
आप क्या
Dr fauzia Naseem shad
मान बुजुर्गों की भी बातें
मान बुजुर्गों की भी बातें
Chunnu Lal Gupta
पन्द्रह अगस्त का दिन कहता आजादी अभी अधूरी है ।।
पन्द्रह अगस्त का दिन कहता आजादी अभी अधूरी है ।।
Kailash singh
जो विष को पीना जाने
जो विष को पीना जाने
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बढ़ती हुई समझ,
बढ़ती हुई समझ,
Shubham Pandey (S P)
क्यों खफा है वो मुझसे क्यों भला नाराज़ हैं
क्यों खफा है वो मुझसे क्यों भला नाराज़ हैं
VINOD CHAUHAN
*शिक्षक*
*शिक्षक*
Dushyant Kumar
महिलाएं अक्सर हर पल अपने सौंदर्यता ,कपड़े एवम् अपने द्वारा क
महिलाएं अक्सर हर पल अपने सौंदर्यता ,कपड़े एवम् अपने द्वारा क
Rj Anand Prajapati
नमामि राम की नगरी, नमामि राम की महिमा।
नमामि राम की नगरी, नमामि राम की महिमा।
डॉ.सीमा अग्रवाल
मैं जिससे चाहा,
मैं जिससे चाहा,
Dr. Man Mohan Krishna
Loading...