Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Aug 2016 · 1 min read

वही तो लोग ज़माने में हो रहे रौशन

वही तो लोग ज़माने में हो रहे रौशन
चराग़ इल्मो-हुनर का जो कर गये रौशन

तुम्हारी याद से दिल ये उजाल रहता है
तुम्हीं से ज़हन के होते है बल्ब ये रौशन

सुब्ह त शाम हुआ एक फ़क़त तेरा ज़िक्र
हुई मिलाद हुए तेरे तज़किरे रौशन

वो मुंतज़िर है मिरी ज़ात में समाने को
यहाँ प होते है ऐसे भी सिलसिले रौशन

अगरचे ज़िक्र ग़ज़ल में तिरा जो छिड़ जाए
रदीफ़ महके है होते है काफ़िये रौशन

‘नज़र’ ख़मोश रहा फिर भी कह गया मुझसे
क़लम संभाल अँधेरे को जो लिखे रौशन

नज़ीर नज़र

1 Like · 310 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सवाल~
सवाल~
दिनेश एल० "जैहिंद"
लोककवि रामचरन गुप्त का लोक-काव्य +डॉ. वेदप्रकाश ‘अमिताभ ’
लोककवि रामचरन गुप्त का लोक-काव्य +डॉ. वेदप्रकाश ‘अमिताभ ’
कवि रमेशराज
मैं मन की भावनाओं के मुताबिक शब्द चुनती हूँ
मैं मन की भावनाओं के मुताबिक शब्द चुनती हूँ
Dr Archana Gupta
अपनों को नहीं जब हमदर्दी
अपनों को नहीं जब हमदर्दी
gurudeenverma198
शराब
शराब
RAKESH RAKESH
3388⚘ *पूर्णिका* ⚘
3388⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
तूझे क़ैद कर रखूं ऐसा मेरी चाहत नहीं है
तूझे क़ैद कर रखूं ऐसा मेरी चाहत नहीं है
Keshav kishor Kumar
बेवफा
बेवफा
Neeraj Agarwal
*शास्त्री जीः एक आदर्श शिक्षक*
*शास्त्री जीः एक आदर्श शिक्षक*
Ravi Prakash
देह धरे का दण्ड यह,
देह धरे का दण्ड यह,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
बेरोजगार
बेरोजगार
Harminder Kaur
भाग्य प्रबल हो जायेगा
भाग्य प्रबल हो जायेगा
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मैं करता हुँ उस्सें पहल तो बात हो जाती है
मैं करता हुँ उस्सें पहल तो बात हो जाती है
Sonu sugandh
सांसे केवल आपके जीवित होने की सूचक है जबकि तुम्हारे स्वर्णिम
सांसे केवल आपके जीवित होने की सूचक है जबकि तुम्हारे स्वर्णिम
Rj Anand Prajapati
दोहे
दोहे
अनिल कुमार निश्छल
लग जाए गले से गले
लग जाए गले से गले
Ankita Patel
*तेरे साथ जीवन*
*तेरे साथ जीवन*
AVINASH (Avi...) MEHRA
अपना पराया
अपना पराया
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"गहराई में बसी है"
Dr. Kishan tandon kranti
कुछ तो बाक़ी
कुछ तो बाक़ी
Dr fauzia Naseem shad
#प्रणय_गीत-
#प्रणय_गीत-
*Author प्रणय प्रभात*
इंसान बनने के लिए
इंसान बनने के लिए
Mamta Singh Devaa
लतियाते रहिये
लतियाते रहिये
विजय कुमार नामदेव
स्मृतियों की चिन्दियाँ
स्मृतियों की चिन्दियाँ
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
रंगमंच कलाकार तुलेंद्र यादव जीवन परिचय
रंगमंच कलाकार तुलेंद्र यादव जीवन परिचय
Tulendra Yadav
घनाक्षरी छंदों के नाम , विधान ,सउदाहरण
घनाक्षरी छंदों के नाम , विधान ,सउदाहरण
Subhash Singhai
ज्ञान का अर्थ
ज्ञान का अर्थ
ओंकार मिश्र
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
* आए राम हैं *
* आए राम हैं *
surenderpal vaidya
सत्य कड़वा नहीं होता अपितु
सत्य कड़वा नहीं होता अपितु
Gouri tiwari
Loading...