Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 May 2022 · 1 min read

वसंत

वसंत का जब होता आमद
हमारे आसपास के द्रुम पर
नए-नए हरे-भरे पल्लव का
हो जाता आगमन- पदार्पण ।

मृदुल वसंत के आय-पैठ से
जीव -जंतु सभी प्राणियों के
साथ- साथ नर -नारियों भी
हो जाते सानंद -हर्षोत्फुल्ल ।

वसंत ऋतु ही रजः स्राव
सबको मानस का विमोही
ये ऋतु नर-नारियों, बच्चों
सबका दिलासा – मोहिनी ।

वसंत ऋतु में ही तरू पे
नए – नए गातो के संग
विटप में आती मंजरिया
आसपास का समाँ सुरम्य।

वसंत ऋतु का बाट जोहना
रहता हर एक प्राणीवान को
पशु – पक्षियों को इनका
होता बेसब्री से तवक्को।

जिस तरह हमारे हयात में
वसंत आते तो जाते रहते
वैसे ही हमारे प्राणशक्ति में
हर्षो मर्ज़ आते जाते रहते ।

Language: Hindi
1 Like · 669 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बड़ी मंजिलों का मुसाफिर अगर तू
बड़ी मंजिलों का मुसाफिर अगर तू
Satish Srijan
बेवजह किसी पे मरता कौन है
बेवजह किसी पे मरता कौन है
Kumar lalit
जुगनू
जुगनू
Gurdeep Saggu
वो हमसे पराये हो गये
वो हमसे पराये हो गये
Dr. Man Mohan Krishna
आपको डुबाने के लिए दुनियां में,
आपको डुबाने के लिए दुनियां में,
नेताम आर सी
जब मैं तुमसे प्रश्न करूँगा,
जब मैं तुमसे प्रश्न करूँगा,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
युवा हृदय सम्राट : स्वामी विवेकानंद
युवा हृदय सम्राट : स्वामी विवेकानंद
Dr. Pradeep Kumar Sharma
घर छोड़ गये तुम
घर छोड़ गये तुम
Rekha Drolia
ग़ज़ल -
ग़ज़ल -
Mahendra Narayan
यही समय है!
यही समय है!
Saransh Singh 'Priyam'
एक और महाभारत
एक और महाभारत
Shekhar Chandra Mitra
*राज दिल के वो हम से छिपाते रहे*
*राज दिल के वो हम से छिपाते रहे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
तुम  में  और  हम  में
तुम में और हम में
shabina. Naaz
गाली / मुसाफिर BAITHA
गाली / मुसाफिर BAITHA
Dr MusafiR BaithA
पुण्य स्मरण: 18 जून2008 को मुरादाबाद में आयोजित पारिवारिक सम
पुण्य स्मरण: 18 जून2008 को मुरादाबाद में आयोजित पारिवारिक सम
Ravi Prakash
दोहे- शक्ति
दोहे- शक्ति
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
आया होली का त्यौहार
आया होली का त्यौहार
Ram Krishan Rastogi
■ शेर
■ शेर
*Author प्रणय प्रभात*
कभी किसी की सुंदरता से प्रभावीत होकर खुद को उसके लिए समर्पित
कभी किसी की सुंदरता से प्रभावीत होकर खुद को उसके लिए समर्पित
Rituraj shivem verma
23/202. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/202. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
হাজার বছরের আঁধার
হাজার বছরের আঁধার
Sakhawat Jisan
अर्थपुराण
अर्थपुराण
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
నమో నమో నారసింహ
నమో నమో నారసింహ
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
मेरे प्रेम पत्र
मेरे प्रेम पत्र
विजय कुमार नामदेव
जुबान
जुबान
अखिलेश 'अखिल'
मेरे जब से सवाल कम हैं
मेरे जब से सवाल कम हैं
Dr. Mohit Gupta
एक गुलाब हो
एक गुलाब हो
हिमांशु Kulshrestha
बाबा साहब एक महान पुरुष या भगवान
बाबा साहब एक महान पुरुष या भगवान
जय लगन कुमार हैप्पी
"बिन स्याही के कलम "
Pushpraj Anant
समय
समय
Neeraj Agarwal
Loading...