Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 May 2022 · 1 min read

वसंत

वसंत का जब होता आमद
हमारे आसपास के द्रुम पर
नए-नए हरे-भरे पल्लव का
हो जाता आगमन- पदार्पण ।

मृदुल वसंत के आय-पैठ से
जीव -जंतु सभी प्राणियों के
साथ- साथ नर -नारियों भी
हो जाते सानंद -हर्षोत्फुल्ल ।

वसंत ऋतु ही रजः स्राव
सबको मानस का विमोही
ये ऋतु नर-नारियों, बच्चों
सबका दिलासा – मोहिनी ।

वसंत ऋतु में ही तरू पे
नए – नए गातो के संग
विटप में आती मंजरिया
आसपास का समाँ सुरम्य।

वसंत ऋतु का बाट जोहना
रहता हर एक प्राणीवान को
पशु – पक्षियों को इनका
होता बेसब्री से तवक्को।

जिस तरह हमारे हयात में
वसंत आते तो जाते रहते
वैसे ही हमारे प्राणशक्ति में
हर्षो मर्ज़ आते जाते रहते ।

1 Like · 204 Views
You may also like:
सो गया है आदमी
कुमार अविनाश केसर
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
भूखे पेट न सोए कोई ।
Buddha Prakash
मेरी लेखनी
Anamika Singh
दर्द अपना है तो
Dr fauzia Naseem shad
नदी बन जा तू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कुछ नहीं इंसान को
Dr fauzia Naseem shad
आंसूओं की नमी का क्या करते
Dr fauzia Naseem shad
पिता की व्यथा
मनोज कर्ण
✍️प्यारी बिटिया ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता
Santoshi devi
ब्रेकिंग न्यूज़
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अनमोल राजू
Anamika Singh
" मैं हूँ ममता "
मनोज कर्ण
मर्द को भी दर्द होता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"मेरे पिता"
vikkychandel90 विक्की चंदेल (साहिब)
ठोडे का खेल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता का सपना
Prabhudayal Raniwal
बच्चों के पिता
Dr. Kishan Karigar
बोझ
आकांक्षा राय
न कोई जगत से कलाकार जाता
आकाश महेशपुरी
किरदार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दिल में रब का अगर
Dr fauzia Naseem shad
रिश्तों में बढ रही है दुरियाँ
Anamika Singh
पिता - नीम की छाँव सा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
मांँ की लालटेन
श्री रमण 'श्रीपद्'
बेरोज़गारों का कब आएगा वसंत
Anamika Singh
उसकी आदत में रह गया कोई
Dr fauzia Naseem shad
संकुचित हूं स्वयं में
Dr fauzia Naseem shad
Loading...