Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Feb 2024 · 1 min read

वसंत पंचमी

ऋतु बसंत के आते ही वसंत पंचमी आ गई
धरती में छाया वसंती रंग भीनी सुगंधी छा गई
आम बौरा गए कोयल की मीठी धुन गूंज गई
पीला बसंती रंग छा गया भंवरों की धुन गूंज गई
टेशु भी लाल सुर्ख होकर जैसे वन में आग जलाने लगे
देवी वीणा पाणी की धुन पर पंछी मधुर गीत गाने लगे
भक्त ओम वाद्य यंत्रों पर मधुर गीत संगीत बजाने लगे

ओमप्रकाश भारती ओम्
बालाघाट , मध्य प्रदेश

Language: Hindi
61 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from ओमप्रकाश भारती *ओम्*
View all
You may also like:
कितना कुछ सहती है
कितना कुछ सहती है
Shweta Soni
"शिष्ट लेखनी "
DrLakshman Jha Parimal
दर्द का बस एक
दर्द का बस एक
Dr fauzia Naseem shad
।।जन्मदिन की बधाइयाँ ।।
।।जन्मदिन की बधाइयाँ ।।
Shashi kala vyas
दिल पर दस्तक
दिल पर दस्तक
Surinder blackpen
कर दो बहाल पुरानी पेंशन
कर दो बहाल पुरानी पेंशन
gurudeenverma198
KRISHANPRIYA
KRISHANPRIYA
Gunjan Sharma
*हिंदी दिवस मनावन का  मिला नेक ईनाम*
*हिंदी दिवस मनावन का मिला नेक ईनाम*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
एक चिडियाँ पिंजरे में 
एक चिडियाँ पिंजरे में 
Punam Pande
कविता: घर घर तिरंगा हो।
कविता: घर घर तिरंगा हो।
Rajesh Kumar Arjun
औरत तेरी गाथा
औरत तेरी गाथा
विजय कुमार अग्रवाल
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
व्यंग्य क्षणिकाएं
व्यंग्य क्षणिकाएं
Suryakant Dwivedi
*मनु-शतरूपा ने वर पाया (चौपाइयॉं)*
*मनु-शतरूपा ने वर पाया (चौपाइयॉं)*
Ravi Prakash
दीदार
दीदार
Vandna thakur
गंगा
गंगा
ओंकार मिश्र
प्रतीक्षा
प्रतीक्षा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*......इम्तहान बाकी है.....*
*......इम्तहान बाकी है.....*
Naushaba Suriya
देखो ना आया तेरा लाल
देखो ना आया तेरा लाल
Basant Bhagawan Roy
हुस्न और खूबसूरती से भरे हुए बाजार मिलेंगे
हुस्न और खूबसूरती से भरे हुए बाजार मिलेंगे
शेखर सिंह
कर्मफल भोग
कर्मफल भोग
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
कबीरपंथ से कबीर ही गायब / मुसाफ़िर बैठा
कबीरपंथ से कबीर ही गायब / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
"साहिल"
Dr. Kishan tandon kranti
When you become conscious of the nature of God in you, your
When you become conscious of the nature of God in you, your
पूर्वार्थ
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
■ विनम्र निवेदन :--
■ विनम्र निवेदन :--
*प्रणय प्रभात*
5 हाइकु
5 हाइकु
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
23/114.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/114.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ऐसा क्या लिख दू मैं.....
ऐसा क्या लिख दू मैं.....
Taj Mohammad
आखिरी मोहब्बत
आखिरी मोहब्बत
Shivkumar barman
Loading...