Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jul 2023 · 1 min read

वर्तमान

छद्म का संसार
प्रकट है ,
यथार्थ का अस्तित्व
विलुप्त है ,
अनाचार , भ्रष्टाचार मे
मानव लिप्त है ,
नीति, आदर्श , संस्कार ,
सब सुप्त हैं ,
आचार ,व्यवहार , विचार,
सब गुप्त हैं ,
क्लेशयुक्त, कष्टप्रद,
जीवन निमित्त है ।

Language: Hindi
99 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
23/182.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/182.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
The blue sky !
The blue sky !
Buddha Prakash
नमामि राम की नगरी, नमामि राम की महिमा।
नमामि राम की नगरी, नमामि राम की महिमा।
डॉ.सीमा अग्रवाल
💐उनकी नज़र से दोस्ती कर ली💐
💐उनकी नज़र से दोस्ती कर ली💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ऐ वसुत्व अर्ज किया है....
ऐ वसुत्व अर्ज किया है....
प्रेमदास वसु सुरेखा
+जागृत देवी+
+जागृत देवी+
Ms.Ankit Halke jha
फितरत की बातें
फितरत की बातें
Mahendra Narayan
Lines of day
Lines of day
Sampada
उम्मीद की आँखों से अगर देख रहे हो,
उम्मीद की आँखों से अगर देख रहे हो,
Shweta Soni
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
दादा की मूँछ
दादा की मूँछ
Dr Nisha nandini Bhartiya
मेरे हिस्से सब कम आता है
मेरे हिस्से सब कम आता है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
■ सरोकार-
■ सरोकार-
*Author प्रणय प्रभात*
यहाँ तो सब के सब
यहाँ तो सब के सब
DrLakshman Jha Parimal
जिसका हम
जिसका हम
Dr fauzia Naseem shad
"झाड़ू"
Dr. Kishan tandon kranti
मैं इन्सान हूँ यही तो बस मेरा गुनाह है
मैं इन्सान हूँ यही तो बस मेरा गुनाह है
VINOD CHAUHAN
।।आध्यात्मिक प्रेम।।
।।आध्यात्मिक प्रेम।।
Aryan Raj
जो गलत उसको गलत कहना पड़ेगा ।
जो गलत उसको गलत कहना पड़ेगा ।
Arvind trivedi
खुला आसमान
खुला आसमान
Surinder blackpen
यादों को दिल से मिटाने लगा है वो आजकल
यादों को दिल से मिटाने लगा है वो आजकल
कृष्णकांत गुर्जर
कह दें तारों से तू भी अपने दिल की बात,
कह दें तारों से तू भी अपने दिल की बात,
manjula chauhan
*नमन : वीर हनुमन्थप्पा तथा अन्य (गीत)*
*नमन : वीर हनुमन्थप्पा तथा अन्य (गीत)*
Ravi Prakash
जो पड़ते हैं प्रेम में...
जो पड़ते हैं प्रेम में...
लक्ष्मी सिंह
और कितनें पन्ने गम के लिख रखे है साँवरे
और कितनें पन्ने गम के लिख रखे है साँवरे
Sonu sugandh
"म्हारी छोरियां छोरों से कम हैं के"
Abdul Raqueeb Nomani
मजदूर की बरसात
मजदूर की बरसात
goutam shaw
बोलने से सब होता है
बोलने से सब होता है
Satish Srijan
संकट मोचन हनुमान जी
संकट मोचन हनुमान जी
Neeraj Agarwal
आंधी है नए गांधी
आंधी है नए गांधी
Sanjay ' शून्य'
Loading...