Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jul 2023 · 1 min read

वर्तमान, अतीत, भविष्य…!!!!

जीवन वर्तमान है…
इसी में सीखना हमको जिंदगी का ज्ञान है।।
भूल जाने के लिए ही होता है अतीत…
फिर क्यों हम वर्तमान में भी करते हैं अतीत को व्यतीत।।
अनभिज्ञ होते हैं हम भविष्य से…
और जीवन भी तो एक गुरु की भांति है;
जीवन परीक्षा लेता है-
जैसे एक गुरु लेता है अपने शिष्य से।।।।
-ज्योति खारी

Language: Hindi
3 Likes · 215 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
किसी को अगर प्रेरणा मिलती है
किसी को अगर प्रेरणा मिलती है
Harminder Kaur
फितरत जग एक आईना
फितरत जग एक आईना
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
इतिहास
इतिहास
Dr.Priya Soni Khare
होली गीत
होली गीत
umesh mehra
अभिनय चरित्रम्
अभिनय चरित्रम्
मनोज कर्ण
आपका अनुरोध स्वागत है। यहां एक कविता है जो आपके देश की हवा क
आपका अनुरोध स्वागत है। यहां एक कविता है जो आपके देश की हवा क
कार्तिक नितिन शर्मा
अगर बात तू मान लेगा हमारी।
अगर बात तू मान लेगा हमारी।
सत्य कुमार प्रेमी
जब आप ही सुनते नहीं तो कौन सुनेगा आपको
जब आप ही सुनते नहीं तो कौन सुनेगा आपको
DrLakshman Jha Parimal
कहीं ना कहीं कुछ टूटा है
कहीं ना कहीं कुछ टूटा है
goutam shaw
वक्त की नज़ाकत और सामने वाले की शराफ़त,
वक्त की नज़ाकत और सामने वाले की शराफ़त,
ओसमणी साहू 'ओश'
समर्पित बनें, शरणार्थी नहीं।
समर्पित बनें, शरणार्थी नहीं।
Sanjay ' शून्य'
सर सरिता सागर
सर सरिता सागर
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
पहाड़ की सोच हम रखते हैं।
पहाड़ की सोच हम रखते हैं।
Neeraj Agarwal
शेर
शेर
Monika Verma
लौट कर वक्त
लौट कर वक्त
Dr fauzia Naseem shad
वार्तालाप अगर चांदी है
वार्तालाप अगर चांदी है
Pankaj Sen
ग़ज़ल
ग़ज़ल
नितिन पंडित
बेमतलब सा तू मेरा‌, और‌ मैं हर मतलब से सिर्फ तेरी
बेमतलब सा तू मेरा‌, और‌ मैं हर मतलब से सिर्फ तेरी
Minakshi
बहुत देखें हैं..
बहुत देखें हैं..
Srishty Bansal
कोई भी मोटिवेशनल गुरू
कोई भी मोटिवेशनल गुरू
ruby kumari
"भावुकता का तड़का।
*Author प्रणय प्रभात*
दोहा त्रयी. . . .
दोहा त्रयी. . . .
sushil sarna
🥀✍ *अज्ञानी की*🥀
🥀✍ *अज्ञानी की*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
*जानो आँखों से जरा ,किसका मुखड़ा कौन (कुंडलिया)*
*जानो आँखों से जरा ,किसका मुखड़ा कौन (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
इम्तिहान
इम्तिहान
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
सफर या रास्ता
सफर या रास्ता
Manju Singh
वक्त की रेत
वक्त की रेत
Dr. Kishan tandon kranti
एक तेरे चले जाने से कितनी
एक तेरे चले जाने से कितनी
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
एक नारी की पीड़ा
एक नारी की पीड़ा
Ram Krishan Rastogi
Loading...