Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Sep 2022 · 1 min read

वन्दना

वीणा को बजाती नित अलख जगाती, गीत सामवेद गाकर सप्त स्वर झंकार दे
वाणी को दिलाती ज्ञानदा तू मातु श्रीप्रदा हो चक्षु मेरी खोल कर तिमिर बहार दे।
हे वाग्देवी शुभ्रदा तुम्हीं हो पद्मासना मां हिय में निवास करि विमल विचार दे
छन्द छलदम्भ से विरक्त हो सदा लिखूं मैं वीणावादिनी तू ऐसा वर देना शारदे! ।।

पं.आशीष अविरल चतुर्वेदी
प्रयागराज

Language: Hindi
3 Likes · 3 Comments · 189 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*भूमिका*
*भूमिका*
Ravi Prakash
मैं और मेरी फितरत
मैं और मेरी फितरत
लक्ष्मी सिंह
लाल उठो!!
लाल उठो!!
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
*प्रश्नोत्तर अज्ञानी की कलम*
*प्रश्नोत्तर अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
काव्य में अलौकिकत्व
काव्य में अलौकिकत्व
कवि रमेशराज
हम थक हार कर बैठते नहीं ज़माने में।
हम थक हार कर बैठते नहीं ज़माने में।
Phool gufran
ख़ामोश सा शहर
ख़ामोश सा शहर
हिमांशु Kulshrestha
World Emoji Day
World Emoji Day
Tushar Jagawat
हौसले हो अगर बुलंद तो मुट्ठि में हर मुकाम हैं,
हौसले हो अगर बुलंद तो मुट्ठि में हर मुकाम हैं,
Jay Dewangan
*
*"ममता"* पार्ट-4
Radhakishan R. Mundhra
2927.*पूर्णिका*
2927.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हौंसले को समेट कर मेघ बन
हौंसले को समेट कर मेघ बन
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मजदूर
मजदूर
Dr Archana Gupta
बदल लिया ऐसे में, अपना विचार मैंने
बदल लिया ऐसे में, अपना विचार मैंने
gurudeenverma198
कि लड़का अब मैं वो नहीं
कि लड़का अब मैं वो नहीं
The_dk_poetry
शिक्षक है आदर्श हमारा
शिक्षक है आदर्श हमारा
Harminder Kaur
उस देश के वासी है 🙏
उस देश के वासी है 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
प्रेम पर्याप्त है प्यार अधूरा
प्रेम पर्याप्त है प्यार अधूरा
Amit Pandey
बहुतेरा है
बहुतेरा है
Dr. Meenakshi Sharma
सारा सिस्टम गलत है
सारा सिस्टम गलत है
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हमने किस्मत से आंखें लड़ाई मगर
हमने किस्मत से आंखें लड़ाई मगर
VINOD CHAUHAN
खुद में हैं सब अधूरे
खुद में हैं सब अधूरे
Dr fauzia Naseem shad
राम छोड़ ना कोई हमारे..
राम छोड़ ना कोई हमारे..
Vijay kumar Pandey
आम आदमी
आम आदमी
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
■ क़तआ (मुक्तक)
■ क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
Chalo khud se ye wada karte hai,
Chalo khud se ye wada karte hai,
Sakshi Tripathi
मेरी तुझ में जान है,
मेरी तुझ में जान है,
sushil sarna
आनंद जीवन को सुखद बनाता है
आनंद जीवन को सुखद बनाता है
Shravan singh
चुनाव
चुनाव
Lakhan Yadav
मानवता की बलिवेदी पर सत्य नहीं झुकता है यारों
मानवता की बलिवेदी पर सत्य नहीं झुकता है यारों
प्रेमदास वसु सुरेखा
Loading...