Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Sep 2022 · 1 min read

वन्दना

वीणा को बजाती नित अलख जगाती, गीत सामवेद गाकर सप्त स्वर झंकार दे
वाणी को दिलाती ज्ञानदा तू मातु श्रीप्रदा हो चक्षु मेरी खोल कर तिमिर बहार दे।
हे वाग्देवी शुभ्रदा तुम्हीं हो पद्मासना मां हिय में निवास करि विमल विचार दे
छन्द छलदम्भ से विरक्त हो सदा लिखूं मैं वीणावादिनी तू ऐसा वर देना शारदे! ।।

पं.आशीष अविरल चतुर्वेदी
प्रयागराज

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
3 Likes · 3 Comments · 86 Views
You may also like:
मैं हरि नाम जाप हूं।
शक्ति राव मणि
क्यों करूँ नफरत मैं इस अंधेरी रात से।
Manisha Manjari
त्याग
श्री रमण 'श्रीपद्'
तुमको भी मिलने की चाहत थी
Ram Krishan Rastogi
✍️कालचक्र✍️
'अशांत' शेखर
*जब किसी को भी नहीं बहुमत नजर में आ रहा...
Ravi Prakash
ਸੀਨੇ ਨਾਲ ਲਾਇਆ ਨਹੀਂ ਕਦੇ
Kaur Surinder
सजल : तिरंगा भारत का
Sushila Joshi
😊 आज की बात :-
*Author प्रणय प्रभात*
जिंदगी के रंग
shabina. Naaz
कृष्ण वंदना
लक्ष्मी सिंह
आंसू
Harshvardhan "आवारा"
पिता की अस्थिया
Umender kumar
झूठे मुकदमे
Shekhar Chandra Mitra
मैं सरकारी बाबू हूं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दास्तां-ए-दर्द
Seema 'Tu hai na'
दिल से रिश्ते निभाये जाते हैं
Dr fauzia Naseem shad
कुज्रा-कुजर्नी ( #लोकमैथिली_हाइकु)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
पक्षी
Sushil chauhan
मीठी-मीठी बातें
AMRESH KUMAR VERMA
గురువు
विजय कुमार 'विजय'
बदला हुआ ज़माना है
Dr. Sunita Singh
गीत - प्रेम असिंचित जीवन के
Shivkumar Bilagrami
पितृ वंदना
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मुकद्दर।
Taj Mohammad
प्यार क्या बला की चीज है!
Anamika Singh
रानी गाइदिन्ल्यू भारत की नागा आध्यात्मिक एवं राजनीतिक नेत्री
Author Dr. Neeru Mohan
'The Republic Day '- in patriotic way !
Buddha Prakash
घड़ी
Utsav Kumar Aarya
किस अदा की बात करें
Mahesh Tiwari 'Ayen'
Loading...