Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jan 2024 · 1 min read

” वतन “

ग़ज़ल

स्वर्ग से भी है लगे न्यारा वतन
प्राण से बढ़ कर हमें प्यारा वतन

संदली सी गंध माटी की उड़े
है भरा खुशबू लिए सारा वतन

इस धरा पर देव उतरे हैं सदा
खल जनों से है नहीं हारा वतन

जाति , मज़हब भेद जो करता नहीं
गंग सी निर्मल कहो धारा वतन

गिरि शिखर पर हैं खड़े रणबाँकुरे
है उन्हीं पर जाए बलिहारा वतन

तीन रंगों में समाए हम सभी
है तिरंगा नाज़ दिलहारा वतन

छू रहा ऊँचाइयाँ चूमे “बिरज”
है सभी की आँख का तारा वतन

स्वरचित / रचियता :
बृज व्यास
शाजापुर ( मध्य प्रदेश )

Language: Hindi
1 Like · 117 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गाँव की याद
गाँव की याद
Rajdeep Singh Inda
Don’t wait for that “special day”, every single day is speci
Don’t wait for that “special day”, every single day is speci
पूर्वार्थ
विश्वास🙏
विश्वास🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
पहले देखें, सोचें,पढ़ें और मनन करें तब बातें प्रतिक्रिया की ह
पहले देखें, सोचें,पढ़ें और मनन करें तब बातें प्रतिक्रिया की ह
DrLakshman Jha Parimal
"सियासत का सेंसेक्स"
*Author प्रणय प्रभात*
तुम भी पत्थर
तुम भी पत्थर
shabina. Naaz
सोई गहरी नींदों में
सोई गहरी नींदों में
Anju ( Ojhal )
*धूम मची है दुनिया-भर में, जन्मभूमि श्री राम की (गीत)*
*धूम मची है दुनिया-भर में, जन्मभूमि श्री राम की (गीत)*
Ravi Prakash
धीरे-धीरे सब ठीक नहीं सब ख़त्म हो जाएगा
धीरे-धीरे सब ठीक नहीं सब ख़त्म हो जाएगा
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
कोई नही है अंजान
कोई नही है अंजान
Basant Bhagawan Roy
It always seems impossible until It's done
It always seems impossible until It's done
Naresh Kumar Jangir
हिसाब-किताब / मुसाफ़िर बैठा
हिसाब-किताब / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
बनारस की धारों में बसी एक ख़ुशबू है,
बनारस की धारों में बसी एक ख़ुशबू है,
Sahil Ahmad
चुभती है रौशनी
चुभती है रौशनी
Dr fauzia Naseem shad
क्या वैसी हो सच में तुम
क्या वैसी हो सच में तुम
gurudeenverma198
అదే శ్రీ రామ ధ్యానము...
అదే శ్రీ రామ ధ్యానము...
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
दुनियां का सबसे मुश्किल काम है,
दुनियां का सबसे मुश्किल काम है,
Manoj Mahato
नमन माँ गंग !पावन
नमन माँ गंग !पावन
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
क्रिकेट वर्ल्ड कप 2023
क्रिकेट वर्ल्ड कप 2023
Sandeep Pande
पश्चाताप
पश्चाताप
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हाल ऐसा की खुद पे तरस आता है
हाल ऐसा की खुद पे तरस आता है
Kumar lalit
यारों की आवारगी
यारों की आवारगी
The_dk_poetry
3134.*पूर्णिका*
3134.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आंख में बेबस आंसू
आंख में बेबस आंसू
Dr. Rajeev Jain
ऐ ज़ालिम....!
ऐ ज़ालिम....!
Srishty Bansal
तिलक-विआह के तेलउँस खाना
तिलक-विआह के तेलउँस खाना
आकाश महेशपुरी
सरेआम जब कभी मसअलों की बात आई
सरेआम जब कभी मसअलों की बात आई
Maroof aalam
चार लोग क्या कहेंगे?
चार लोग क्या कहेंगे?
करन ''केसरा''
"खामोशी"
Dr. Kishan tandon kranti
उम्र का एक
उम्र का एक
Santosh Shrivastava
Loading...