Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Jul 15, 2016 · 1 min read

वतन की शान लगते हैं।

एक गजल
मापनी —1222 1222 1222 1222

कभी हैवान लगते हैं कभी शैतान लगते हैं।
नहीं इंसान अब लेकिन यहाँ इंसान लगते हैं।।

उन्ही का हल नहीं मिलता जमाने में कहीं यारो।
यहाँ पर देखने में प्रश्न जो आसान लगते हैं।।

बनाएँ साधुओं का भेष बाबा जो चमत्कारी।
हटा पर्दा उन्हे देखो वही शैतान लगते हैं।।

दिखाकर आंकड़े झूठे करें वादे चुनावी सब।
मुझे नेता यहाँ सारे ही’ बेईमान लगते हैं।।

वतन की सरहदों पर जो लगाते जान की बाजी।
तिरंगे को वही बेटे वतन की शान लगते हैं।।

प्रदीप कुमार

1 Like · 1 Comment · 294 Views
You may also like:
इज़हार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दो जून की रोटी
Ram Krishan Rastogi
बिटिया होती है कोहिनूर
Anamika Singh
पिता तुम हमारे
Dr. Pratibha Mahi
बेजुबान और कसाई
मनोज कर्ण
दर्द इनका भी
Dr fauzia Naseem shad
हम और तुम जैसे…..
Rekha Drolia
खुद से बच कर
Dr fauzia Naseem shad
टोकरी में छोकरी / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
क्यों हो गए हम बड़े
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
प्यार
Anamika Singh
दिल से रिश्ते निभाये जाते हैं
Dr fauzia Naseem shad
"कुछ तुम बदलो कुछ हम बदलें"
Ajit Kumar "Karn"
आई राखी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता
Satpallm1978 Chauhan
प्रेम का आँगन
मनोज कर्ण
अधर मौन थे, मौन मुखर था...
डॉ.सीमा अग्रवाल
काश बचपन लौट आता
Anamika Singh
【6】** माँ **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
*"पिता"*
Shashi kala vyas
पाँव में छाले पड़े हैं....
डॉ.सीमा अग्रवाल
मेरा खुद पर यकीन न खोता
Dr fauzia Naseem shad
बरसात
मनोज कर्ण
'दुष्टों का नाश करें' (ओज - रस)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
✍️कलम ही काफी है ✍️
Vaishnavi Gupta
अब और नहीं सोचो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बस एक निवाला अपने हिस्से का खिला कर तो देखो।
Gouri tiwari
दया करो भगवान
Buddha Prakash
मुँह इंदियारे जागे दद्दा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
काफ़िर का ईमाँ
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
Loading...