Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jul 2016 · 1 min read

वतन की शान लगते हैं।

एक गजल
मापनी —1222 1222 1222 1222

कभी हैवान लगते हैं कभी शैतान लगते हैं।
नहीं इंसान अब लेकिन यहाँ इंसान लगते हैं।।

उन्ही का हल नहीं मिलता जमाने में कहीं यारो।
यहाँ पर देखने में प्रश्न जो आसान लगते हैं।।

बनाएँ साधुओं का भेष बाबा जो चमत्कारी।
हटा पर्दा उन्हे देखो वही शैतान लगते हैं।।

दिखाकर आंकड़े झूठे करें वादे चुनावी सब।
मुझे नेता यहाँ सारे ही’ बेईमान लगते हैं।।

वतन की सरहदों पर जो लगाते जान की बाजी।
तिरंगे को वही बेटे वतन की शान लगते हैं।।

प्रदीप कुमार

1 Like · 1 Comment · 451 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शब्द
शब्द
Sûrëkhâ
चाँद से मुलाकात
चाँद से मुलाकात
Kanchan Khanna
समुद्र से गहरे एहसास होते हैं
समुद्र से गहरे एहसास होते हैं
Harminder Kaur
प्रीत
प्रीत
Mahesh Tiwari 'Ayan'
"एक नज़्म तुम्हारे नाम"
Lohit Tamta
कहा था जिसे अपना दुश्मन सभी ने
कहा था जिसे अपना दुश्मन सभी ने
Johnny Ahmed 'क़ैस'
सभी नेतागण आज कल ,
सभी नेतागण आज कल ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
नादान परिंदा
नादान परिंदा
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
"ना भूलें"
Dr. Kishan tandon kranti
हम
हम
Adha Deshwal
भ्रष्टाचार और सरकार
भ्रष्टाचार और सरकार
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
■ समझदार टाइप के नासमझ।
■ समझदार टाइप के नासमझ।
*प्रणय प्रभात*
।।अथ सत्यनारायण व्रत कथा पंचम अध्याय।।
।।अथ सत्यनारायण व्रत कथा पंचम अध्याय।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बाट तुम्हारी जोहती, कबसे मैं बेचैन।
बाट तुम्हारी जोहती, कबसे मैं बेचैन।
डॉ.सीमा अग्रवाल
जब याद सताएगी,मुझको तड़पाएगी
जब याद सताएगी,मुझको तड़पाएगी
कृष्णकांत गुर्जर
इस क़दर उलझा हुआ हूं अपनी तकदीर से,
इस क़दर उलझा हुआ हूं अपनी तकदीर से,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
गुरुर
गुरुर
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
दूर हो गया था मैं मतलब की हर एक सै से
दूर हो गया था मैं मतलब की हर एक सै से
कवि दीपक बवेजा
अबस ही डर रहा था अब तलक मैं
अबस ही डर रहा था अब तलक मैं
Neeraj Naveed
हर सुबह जन्म लेकर,रात को खत्म हो जाती हूं
हर सुबह जन्म लेकर,रात को खत्म हो जाती हूं
Pramila sultan
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet kumar Shukla
तितली रानी (बाल कविता)
तितली रानी (बाल कविता)
नाथ सोनांचली
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
*एक व्यक्ति के मर जाने से, कहॉं मरा संसार है (हिंदी गजल)*
*एक व्यक्ति के मर जाने से, कहॉं मरा संसार है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
*ख़ुशी की बछिया* ( 15 of 25 )
*ख़ुशी की बछिया* ( 15 of 25 )
Kshma Urmila
आज बगिया में था सम्मेलन
आज बगिया में था सम्मेलन
VINOD CHAUHAN
परिणति
परिणति
Shyam Sundar Subramanian
जीवन के हर युद्ध को,
जीवन के हर युद्ध को,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आत्मीयकरण-2 +रमेशराज
आत्मीयकरण-2 +रमेशराज
कवि रमेशराज
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
Loading...